Breaking News

करैरा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली नावली डैम नहर मध्यम परियोजना की दाएं और बाएं तट की नहरों में अनेकों पैनल जुड़े हुए हैं।

नावली डैम नहर सिंचाई व्यवस्था चरमराई।


नहर में पानी ना आने से सिंचाई ना होने के कारण किसान परेशान।


करैरा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली नावली डैम नहर मध्यम परियोजना की दाएं और बाएं तट की नहरों में अनेकों पैनल जुड़े हुए हैं।
जिनमें पानी पहुंचना मुश्किल तो दूर नामुमकिन हो रहा है जिससे कि किसानों को वर्तमान समय में बोई जाने वाली रवि की फसल को बोनी में बड़े स्तर पर रुकावट पैदा हो रही है। यदि समय पर किसान बोनी नहीं कर पाए। तो किसानों को आने वाले समय में भारी नुकसान का सामना करना पड़ सकता है। पूर्व में जिन नहरो और माइनरों पैनलों का निर्माण किया गया। वह अत्यंत घटिया निम्न क्वालिटी का होने के कारण जगह-जगह पैनल टूट फूट गए हैं। और कई जगह पानी रिसाव हो रहा है। जिससे की जगह-जगह पैनल टूट गए हैं। इस कारण अधिकांश किसानों के खेतों तक सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। आए दिन तमाम नेता और अधिकारी क्षेत्र में भ्रमण कर रहे हैं। परंतु किसानों की इस जबरदस्त समस्या की ओर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है। आए दिन किसानों की परेशानी बढ़ती जा रही है। पूर्व में भी कई किसान आत्महत्या कर चुके हैं। लेकिन किसानों की समस्याओं का कोई निराकरण नहीं हो रहा है। यदि देखा जाए तो वर्तमान समय में किसानों की समस्या जस की तस बनी हुई है। ना तो इन समस्याओं की ओर अधिकारी ध्यान दे रहे हैं। और ना ही विधायक मंत्रियों का इन समस्याओं पर ध्यान जा रहा है। किसानों के नेता और किसानों के मासिया कहे जाने वाले नेता भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। और किसान अपनी समस्याओं को लेकर नीचे से ऊपर तक के अधिकारी और कर्मचारियों तक गुहार लगा चुके हैं। लेकिन फिर भी कोई परिणाम नहीं निकला। और किसानों को स्वयं सफाई करने के लिए नहरों में उतरना पड़ा। और जल संसाधन विभाग में लाखों रुपए साफ सफाई के लिए आते हैं फिर भी सफाई नहीं की जाती है।

No comments