Breaking News

पुरानी विवाद को लेकर पत्रकार के घरों पर जानलेवा हमला l

BHARAT NEWS LIVE24पुरानी विवाद को लेकर पत्रकार  के घरों पर जानलेवा हमला l

* बाल बाल बचे पत्रकार एवं परिवार l
* हमलावरों ने पत्रकार के पत्तोंही से गले का सोने का चैन छीना l जान मारने की दी धमकी l
* पीड़ित पत्रकार  ने स्थानीय थाने में किया शिकायत दर्ज l
* मामला टेकारी के माधोपुर पुरानी विवाद को लेकर घटी घटना l
* पत्रकारों ने लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हो रहे हमले को लोकतंत्र का हत्या करार देते हुए राष्ट्र एवं देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया l
 विश्वनाथ आनंद
 गया( मगध)-  गया जिले के टिकारी अनुमंडल अंतर्गत माधोपुर गांव के एक पत्रिका से जुड़े पत्रकार शिव चंद्र झा को असामाजिक लोगों ने घरों पर जानलेवा हमला करते हुए जान से मारने की धमकी दिया है l तथा पत्तोंही के गले से सोने का चैन छीनने का भी मामला प्रकाश में आया है l इस संबंध में पीड़ित पत्रकार शिवचंद्र झा ने उक्त घटना से संबंधित शिकायत स्थानीय थानाध्यक्ष को लिखित देते हुए प्राथमिकी दर्ज करने का गुहार लगाया है l लिखित शिकायत में शिवचंद्र झा ने कहा है कि स्थानीय लोग मेरे ऊपर दबाव बनाते रहते हैं l कुछ असामाजिक तत्वों के लोगों द्वारा अवैध तरीके से विभिन्न तरह के कार्य किया जाता है जब मैं  पत्रिका के माध्यम से प्रमुखता से प्रकाशित करता हूं तो मुझे जान से मारने की धमकी दी जाती है l उन्होंने आगे शिकायत आवेदन में कहा है कि स्थानीय लोगों ने रात्रि में मेरे घर पर छह-सात की संख्या में नकाब पोस  पहनकर घर की दरवाजा खुलवाने लगा l मैं अपने घर  के छत पर था मेरी पतोह ने दरवाजा ज्योही खोलने गई नकाबपोशो ने जानलेवा हमला करते हुए उसके गले से सोने का चैन छीन लिया l पत्तो ही चिल्लाने लगी मैं दौड़ते हुए छत से आया l नकाबपोशो ने नौ दो ग्यारह हो गया l पीड़ित पत्रकार शिवचंद्र झा ने घटना की प्राथमिकी दर्ज करने हेतु स्थानीय थाने को शिकायत  आवेदन दिया है l पीड़ित पत्रकार शिवचंद्र झा ने आपबीती दुखड़ा सुनाते हुए संवाददाता को बताया कि गांव के ही लोगों से पुरानी विवाद को लेकर बात विवाद उत्पन्न हुआ था l  ऐसे तो  पीड़ित पत्रकार के आवेदन पर स्थानीय थाना के थानेदार सह थानाध्यक्ष राम लखन पंडित ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अनुसंधान करने हेतु संबंधित पदाधिकारी को निर्देश दिया है l वहीं दूसरी तरफ कई पत्रकार संगठनों ने पत्रकार पर एवं घरों पर जानलेवा हमला किए जाने का घोर निंदा करते हुए हमलावरों के ऊपर करवाई करने का मांग वरीय पुलिस अधीक्षक गया से की है l अब देखना है कि पत्रकार के आवेदन पर हमलावरों के ऊपर क्या करवाई हो पाता है यह तो आने वाला वक्त बताएगा lलेकिन लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर लगातार हमले होना लोकतंत्र की हत्या है l जबकि पत्रकार समाज का दर्पण है l और लोकतंत्र का चौथा स्तंभ के रूप में जाना जाता है l कई समाजसेवी बुद्धिजीवी एवं राजनीतिक से जुड़े लोगों ने भी पत्रकार पर किया गया हमला को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए घोर निंदा किया है l

No comments