Breaking News

रफीगंज विधानसभा क्षेत्र बना हॉट सीट*

BHARAT NEWS LIVE24*

रफीगंज विधानसभा क्षेत्र बना हॉट सीट*                                                        अजय कुमार पाण्डेय        औरंगाबाद: ( बिहार )  इस बार आगामी 28 अक्टूबर 2020 को संपन्न होने जा रही बिहार - विधानसभा चुनाव में  रफीगंज  -  मदनपुर विधानसभा क्षेत्र को *हॉट सीट*  इसलिए माना जा है की एक ओर जहां *लोक जनशक्ति पार्टी* ने पूर्व में दो बार औरंगाबाद के जिलाध्यक्ष रह चुके एवं वर्तमान प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य, लोजपा नेता *मनोज कुमार सिंह* पर ही भरोसा जताते हुए मंगलवार दिनांक - 06 अक्टूबर 2020 को पटना में अपने पार्टी का रफीगंज विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए सिंबल थमा दिया! जिसकी जानकारी खुद प्रत्याशी  ने ही दिया और गुरुवार दिनांक - 08 अक्टूबर 2020 को अपना नामांकन भी दाखिल करेंगे! वही रफीगंज -  मदनपुर विधानसभा क्षेत्र से पिछले बिहार -  विधानसभा चुनाव 2015 में *लोक जनशक्ति पार्टी* के सीट से ही चुनाव लड़ चुके एवं वर्तमान तक कांग्रेस के प्रबल दावेदार माने जा रहे वरीय नेता *प्रमोद कुमार सिंह* का कांग्रेस पार्टी से टिकट कट जाने के बाद बुधवार दिनांक -  07 अक्टूबर 2020 को रफीगंज विधानसभा क्षेत्र से ही निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन दाखिल कर दिया! जो पिछले विधानसभा चुनाव 2015 में भी जदयू प्रत्याशी अशोक कुमार सिंह को अच्छी टक्कर दी थी! उस वक्त जदयू पार्टी बिहार में महागठबंधन का हिस्सा बना था! लेकिन इस बार 2020 के बिहार -  विधान सभा चुनाव में जदयू एन0डी0ए0 का हिस्सा है! वहीं एन0डी0ए0 प्रत्याशी के रूप में दो बार से लगातार रफीगंज विधायक रह चुके जदयू विधायक *अशोक कुमार सिंह* पर ही पुनः पाटी ने तीसरी बार भी भरोसा करते हुए चुनाव लड़ने के लिए पार्टी का सिंबल दे दिया! जो बुधवार को अपना नामांकन दाखिल कर दिया! इसके अलावे रफीगंज विधानसभा सीट से ही **महागठबंधन प्रत्याशी* के रूप में राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार एवं पूर्व रफीगंज विधायक रह चुके *नेहालुद्दीन*  ने भी बुधवार को अपना नामांकन पर्चा दाखिल कर दिया! इसलिए अब राजनीतिक जानकारों का भी मानना है कि रफीगंज - मदनपुर विधानसभा क्षेत्र *हॉट सीट* निश्चित हो जाएगा! सभी प्रत्याशियों के बीच कड़ी टक्कर अवश्य होगी! रफीगंज विधानसभा क्षेत्र के कई राजनीतिक जानकारों का कहना है कि इस बार के विधानसभा चुनाव में रफीगंज विधानसभा क्षेत्र से किसी भी उम्मीदवारों के लिए चुनाव जीतना इतना आसान नहीं होगा! इस विधानसभा क्षेत्र में कड़ी टक्कर होना तय है! ज्ञात हो कि रफीगंज  - मदनपुर विधानसभा क्षेत्र में इस बार कुछ स्थानीय राजद खेमा के लोगों ने ही *नेहालुद्दीन* का विरोध करते हुए नारा दिया है कि बाहरी भगाओ, रफीगंज बचाओ! राजद खेमा के लोगों का कहना है कि पार्टी को स्थानीय पार्टी कार्यकर्ता को प्राथमिकता के आधार पर टिकट देना चाहिए था? क्योंकि चुनाव जीतने के बाद 05 वर्षों तक प्रत्याशी से कभी भी जनता को मुलाकात नहीं होती है?  लेकिन पार्टी इस बार के चुनाव में भी ऐसा नहीं किया! जिसका परिणाम राष्ट्रीय जनता दल पार्टी को निश्चित तौर पर भुगतना ही होगा?  ज्ञात हो कि हाल ही में रफीगंज के पूर्व विधायक रह चुके *नेहालुद्दीन का काजीचक गांव में ग्रामीणों ने* जमकर विरोध करते हुए नारा लगाया था की गाड़ी भगाओ, वापस जाओ, बाहरी प्रत्याशी नहीं चाहिए, लोकल प्रत्याशी लाओ! उस दिन *नेहालुद्दीन चुनाव लड़ने के मकसद से ही काजीचक गांव में गए हुए थे!* जो गया जिला अंतर्गत चाकन द क्षेत्र के रहने वाले हैं! इसके अलावे अब *लोक जनशक्ति पार्टी* ने भी जदयू से बगावत करते हुए इस बार पूरे बिहार के 143 सीटों पर अपना प्रत्याशी उतारने का फैसला ले लिया है!  इसी कड़ी में इस बार रफीगंज - मदनपुर विधानसभा क्षेत्र से लोजपा ने भी *मनोज कुमार सिंह* को अपना पार्टी उम्मीदवार बना दिया है! जो एन0डी0ए0 उम्मीदवार के लिए भी मुश्किल खड़ा हो गया है?  क्योंकि हाल तक *लोक जनशक्ति पार्टी* भी एन0डी0ए0 का हिस्सा था! लेकिन इस बार के बिहार - विधानसभा चुनाव 2020  में लोजपा के *राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान* ने खुलेआम *नीतीश कुमार* का विरोध करते हुए प्रत्येक स्थानों पर अपना अलग उम्मीदवार उतारने का फैसला ले लिया है! लेकिन चिराग पासवान का यह भी कहना है कि मैं नीतीश कुमार का विरोध अवश्य करूंगा? परंतु भारतीय जनता पार्टी का मैं समर्थन करूंगा! ऐसे हालात में अब देखना दिलचस्प होगा की 28 अक्टूबर 2020 को औरंगाबाद जिले में होने वाली मतदान में रफीगंज - मदनपुर विधानसभा क्षेत्र की जनता क्या निर्णय लेती है? कौन मारेगा बाजी? यह तो चुनाव परिणाम ही बताएगा?

No comments