Breaking News

नवजात शिशु की हत्या का बहरी पुलिस सीधी ने किया खुलासा,कलयुगी मॉ निकली हत्यारन, भेजा गया सलाखों के पीछे कमलेश सिंह चौहान जिला ब्यूरो चीफ सीधी BNL24NEWS




सीधी पुलिस अधीक्षक सीधी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सीधी के कुशल निर्देशन तथा एसडीओपी सीधी के कुशल मार्गदर्शन में, बहरी थाना प्रभारी उपनिरी0 कपूरचंद्र त्रिपाठी तथा टीम द्वारा, एक वर्ष पूर्व दर्ज हुए नवजात शिशु की हत्या के मामले की आरोपिया पंचरजिया भुजवा पति कौशलेश भुजवा उम्र 37 वर्ष निवासी ग्राम देवरी, थाना बहरी को गिरफ्तार कर न्यायालय पेश किया गया जहा से उसे जेल भेज दिया गया है।
मामला विवरण
थाना बाहरी में वर्ष 2019 में नवजात शिशु की हत्या का मामला आया था जिसमें बहरी पुलिस द्वारा धारा 318 ता.रा.हिं. के तहत अज्ञात महिला के विरुद्ध अपराध कायम कर विवेचना प्रारंभ की गई थी। उक्त मामले में फरियादी साक्ष्य सहित संदेहियो से सघन पूछताछ के पश्चात कई अनसुलझे मामले प्रकाश में आए। सत्यता को आरोपियों के द्वारा छुपाने का हर संभव प्रयास किया गया किन्तु कड़ाई से पूॅछ-तॉछ पर उजागर हुआ कि उक्त घटना में आरोपी पंचरजिया भुजवा पति कौशलेश पुजवा उम्र 37 वर्ष निवासी ग्राम देवरी, थाना बहरी जिला सीधी के द्वारा अपने ही नवजात शिशु को पटक कर हत्या कर दिया गया था। उसके पश्चात पुलिस को लगातार भ्रमित करने का भी प्रयास किया जाता रहा। आरोपी के विरूद्ध धारा 302, 201 ता.रा.हिं.के के तहत मामला पंजीवद्ध कर आज दिनांक को  गिरफ्तार कर मान.न्यायालय के समक्ष पेश किया गया। जहॉ से आरोपी को जेल की सलाखों के पीछे भेज दिया गया है । 

    बहरी थाना क्षेत्र अंतर्गत बीच बाजार में खूंखार निगरानी बदमाश विजय बहादुर सिंह पिता उदित नारायण सिंह निवासी गजरा, थाना बहरी द्वारा हाथ में धारदार हथियार लेकर शांति भंग करते हुए राहगीरों को डराने धमकाने का प्रयास किया जा रहा था। उक्त घटना की सूचना मिलने पर तत्काल बहरी थाना प्रभारी कपूरचंद्र त्रिपाठी के द्वारा थाना स्टाफ  को भेजकर निगरानी बदमाश से बांका की जप्ती  करते हुए आरोपी को थाना लाया गया। उक्त घटना के आरोपी खूंखार निगरानी बदमाश विजय बहादुर सिंह के विरुद्ध आर्म्स एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर आरोपी को न्यायालय भेजा गया।


 
उपरोक्त दोनों कार्रवाई में, थाना प्रभारी बहरी कपूरचंद्र त्रिपाठी, उपनिरीक्षक इंद्राज सिंह, उपनिरीक्षक मोनिका पांडेय, सहायक उपनिरीक्षक पुरुषोत्तम द्विवेदी, प्रधान आरक्षक साधु लाल मिश्रा, आरक्षक राजू उइके, धर्मराज सिंह, लल्लू विश्वकर्मा, महेंद्र भुर्तिया तथा प्रिया तिवारी का सराहनीय योगदान रहा।


 

No comments