Breaking News

सीमेन्ट प्लान्टों की तरफदारी उचित नही* *राजकुमार गौतम* BNL24NEWS राजीव तिवारी संभागीय हैड




मैहर ।करीब चार दशक से मैहर की छाती छलनी कर बारी बारी से खनिज सम्पदा का दोहन करने वाले मैहर मे स्थापित सीमेन्ट प्लान्टो ने क्षेत्रीय प्रतिभाओं की अनदेखी करते हुये स्थानीय युवा/बेरोजगारों की उपेक्षा की है।इतना ही नही कार्यरत श्रमिकों का उत्पीडन कर दमनकारी आंदाज मे एक छत्र हुक्म चलाया है और मैहर के नाम का ठप्पा लगाकर अन्धाधुन्ध कमाई की है।औद्योगिक इकाइयों की तलहटी मे बसे ग्रामो मे शिक्षा,स्वास्थ्य ,पेयजल जैसी बुनियादी आवश्यकताओं को उपलब्ध कराने जैसी नैतिक व कानूनी जिम्मेवारी निभाने से परहेज और गुरेज रखने वाले मैहर के सीमेन्ट प्लान्टों की हिमाकत अथवा तरफदारी करना कतई उचित नही है बल्कि सार्वजनिक हित मे शोषण के खिलाफ अविराम  संघर्ष का शंखनाद करना चाहिये।वरिष्ठ समाजसेवी डाॅ.राजकुमार गौतम ने कहा कि मैहर मे तीन सीमेन्ट प्लान्ट हैं तथा इन सभी प्लान्टों मे स्थानीय लोगों को काम दिये जाने को लेकर समय समय पर आन्दोलन भी किये गये लेकिन समस्या आज भी ज्यों की त्यों बनी हुई है ।सोशल मीडिया के माध्यम से कथित सीमेन्ट इकाइयों की तरफदारी मे जारी की गई एक खबर का विरोध प्रकट करते हुये श्री गौतम ने कहा कि इन्ही सीमेन्ट प्लान्टो और  कार्यरत श्रमिकों के बीच उत्पीडन के खिलाफ अभी भी आग सुलग रही है तथा स्थानीय लोगों को रोजगार दिये जाने की माँग को लेकर क्षेत्रीय जन कल्याण संघर्ष समिति के अध्यक्ष पं0रामनिवास उरमलिया ने दर्जनों आन्दोलन किये उन्ही सीमेन्ट प्लान्टों की क्षेत्रीय ब्यक्तियों व्दारा तरफदारी करना कहीं सी कहीं तक उचित नही है। समाजसेवी श्री गौतम ने अफसोस जाहिर करते हुये कहा कि काश!इन सीमेन्ट प्लान्टों की हेकडी के विरोध और क्षेत्रहित मे सभी राजनैतिक कार्यकर्ता लामबंद होकर नाक मे नकेल डाल‌ते तो हमारे तमाम बेरोजगार साथियों को रोजी रोटी मिली होती लेकिन खेद है कि हमारे बीच से ही निकलकर तथाकथित लोगों ने इन सीमेन्ट प्लान्टों को अनर्गल संरक्षण दिया है।


No comments