Breaking News

✍️✍️✍️जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह ने स्वास्थ्य विभाग महत्वपूर्ण योजनाओं समीक्षा🔷🔷🔷👇👇




*जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह ने स्वास्थ्य विभाग महत्वपूर्ण योजनाओ समीक्षा*
04+09-2020
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
बिहार के जिला गया में जिला पदाधिकारी श्री अभिषेक सिंह की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग के महत्वपूर्ण योजनाओं की समीक्षा करते हुए जिला पदाधिकारी द्वारा संस्थागत प्रसव, नियमित टीकाकरण, विटामिन ए की छमाही गहन खुराक कार्यक्रम, डायरिया के रोकथाम हेतु घर-घर ओआरएस घोल का वितरण, राज्य टीवी उन्मूलन कार्यक्रम, कृमिनाशक एल्बेंडाजोल का वितरण, स्लम एरिया को यूपीएचसी में मर्ज किया जाना सहित अन्य महत्वपूर्ण कार्यों पर विचार विमर्श करते हुए सिविल सर्जन एवं अन्य पदाधिकारी तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देश दिया गया।
बैठक में जिला पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि कोरोना संक्रमण काल में स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सा एवं कर्मियों द्वारा बहुत अच्छा कार्य किया गया है। उन्होंने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देश दिया की वे अपने चिकित्सकों तथा पारामेडिकल स्टाफ के साथ नियमित रूप से बैठक करते हुए कार्यों की समीक्षा करें तो परिणाम अच्छा मिलेगा। उन्होंने प्रत्येक सप्ताह बैठक करने तथा समस्याओं का तेजी से निष्पादन करने का निर्देश दिया।
बैठक में बताया गया कि 16 सितंबर से 29 सितंबर तक विटामिन ए की छमाही गहन खुराक कार्यक्रम का आयोजन जिले में किया जा रहा है ताकि बच्चों में विटामिन ए की कमी को दूर किया जा सके। बताया गया कि 9 से 11 माह तक के बच्चों में विटामिन ए की 1ml खुराक तथा 12 माह से 40 माह तक के बच्चों में विटामिन ए की 2ml खुराक देनी है। साथ ही बताया गया कि आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर बच्चों में डायरिया बीमारी को दूर करने हेतु बच्चों में ओआरएस पैकेट वितरण करेगी।
बच्चे की माता को ओआरएस घोल बनाने की विधि भी घोल बनाकर समझाएगी। डायरिया से पीड़ित बच्चों को दो पैकेट तथा अन्य बच्चों को एक पैकेट ओआरएस उपलब्ध कराया जाएगा। इसके साथ-साथ जिले में 16 से 29 सितंबर तक राज्य टीवी उन्मूलन कार्यक्रम तथा क्रीमीनाशक एल्बेंडाजोल की दवा भी वितरित की जाएगी। 5 से 19 वर्ष के बच्चों को एक गोली एल्बेंडाजोल की खुराक देनी है।
बैठक में निर्देश दिया गया कि आशा कार्यकर्ता मास्क लगाकर घर घर जाएगी तथा एक घर से दूसरे घर जाने में सैनिटाइजर का उपयोग करेगी। बैठक में जिला पदाधिकारी ने सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि संस्थागत प्रसव को प्राथमिकता देते हुए इसमें तेजी लावे ताकि महिलाएं घर में प्रसव कराने के बजाय अस्पतालों में ही प्रसव कराए। उन्होंने इस बात पर खुशी जाहिर किया कि टीकाकरण के क्षेत्र में गया जिला प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इस कार्य हेतु उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के सभी पदाधिकारी, टीका कर्मी, एएनएम, आशा कार्यकर्ता सहित अन्य संबंधित व्यक्तियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दिया है साथ ही जिले में जेपीएन अस्पताल एवं शेरघाटी अनुमंडलीय अस्पताल के लेबर रूम (प्रसव कक्ष) के रखरखाव, साफ-सफाई एवं प्रबंधन में उत्कृष्ट कार्य करने हेतु भारत सरकार के *लक्ष्य* द्वारा सर्टिफिकेशन दिया गया है। बैठक में सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

No comments