Breaking News

जिला चिकित्सालय से बड़ी खबर,डिलीवरी के बाद महिला को फेका अस्पताल के बाहर,बाहर घंटों दर्द से तड़प रही थी महिला, सिविल सर्जन ने कहा वास्तविकता कुछ और…

BNL24NEWS
कमलेश सिंह चौहान जिला ब्यूरो चीफ सीधी


 BNL24NEWS
कमलेश सिंह चौहान जिला ब्यूरो चीफ सीधी

 इंसानियत का दुश्मन बना जिला चिकित्सालय अपनी लापरवाही से बाज नहीं आ रहा है नतीजा यह है कि लोगों की जान जा रही है आंकड़ों की मानें तो 15 दिन के अंदर लगातार मौत का सिलसिला जारी है लेकिन भाजपा के संरक्षण में पल रहा सिविल सर्जन इंसानियत का दुश्मन बना बैठा है। सिविल सर्जन को हटाने के लिए कांग्रेश 1 दिन की धरना प्रदर्शन भी कर चुकी है इंसानियत का दुश्मन बना अस्पताल प्रबंधक लेबर वार्ड के बाहर डिलीवरी के बाद गर्भवती महिला को बाहर कर दिया जहां वह घंटों पार्किंग गेट के सामने बैठी रही बताया गया कि उक्त महिला कोरोनावायरस से संक्रमित पाई गई है।
ये है पूरा मामला
गोपद बनास तहसील की अंतर्गत पंड़खुरी निवासी बृजेश यादव अपनी गर्भवती पत्नी को प्रसव पीड़ा के चलते जिला चिकित्सालय की लेबर वार्ड में भर्ती करवाया था बताया गया कि बीते बुधवार को दोपहर 1:00 बजे पीड़ित महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया है वही 3 घंटे बाद उत्पीड़ित महिला की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। आरोप है कि लेबर वार्ड के कर्मचारियों ने कोरोनावायरस से संक्रमित बता कर पीड़ित महिला को धक्के मार कर अस्पताल की बाहर कर दिए। पीड़िता ने आरोप लगाया कि ब्लीडिंग भी नहीं बंद हुई है और मुझे बाहर निकाल दिए मैं कहां जाऊं। घंटों उक्त महिला अस्पताल परिसर में बाहर तड़प रही थी और नवजात शिशु रो रहा था जो रोंगटे खड़े कर देने वाला सीन था। स्वास्थ्य कर्मचारियों ने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती नहीं होने के लिए महिला को बता रहे थे है सच्चाई जो भी हो लेकिन यह घटना एक सवाल जरूर खड़ा करती है कि आखिर कब थमेगा यह सिलसिला।
जब हमारी टीम पोल खोल पोस्ट ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सिविल सर्जन डॉक्टर डीके द्विवेदी से दूरभाष से बात की तो जाने उन्होंने क्या कहा,
इनका कहना है
यह बात सही है कि महिला डिलीवरी के लिए जिला अस्पताल में आई थी और इसकी डिलीवरी भी हुई परंतु जब उनका कोरोना जांच करवाई गई तो प्रसूता महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, और भी प्रस्तुत डिलीवरी हुई महिलाओं को ध्यान में रखते हुए कोरोनावायरस से बचाव हेतु तत्काल ध्यान पूर्वक सावधानी रखते हुए प्रसूता महिला को सुरक्षा किट पहनाकर एंबुलेंस के माध्यम से करोना सेंटर आइसोलेशन वार्ड महिला के साथ आए हुए अटेंडेंस ना देखने से महिला घबरा गई कि हमें कहां लेकर जा रहे हैं, हम लोग के समझाइश के बाद अटेंडेंस के उपस्थिति पर आइसोलेशन वार्ड में ले जाया गया जहां पूरा देखभाल किया जा रहा है, मुख्य उद्देश्य था कि जब रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जिसके चलते और भी महिलाओं को या नवजात शिशु इसकी चपेट में ना आ जाए जिसकी वजह से यह फैसला लेना पड़ा, वहीं कुछ लोगों द्वारा फोटो खींचकर अपने अनुसार कहानी बनाने लगे मुझसे कोई भी जानकारी नहीं ली गई है, आपके द्वारा फोन लगाने पर मैंने समस्त जानकारी आपको प्रदान कर दी है..
!! डीके द्विवेदी सिविल सर्जन प्रभारी जिला सीधी स्वास्थ्य विभाग !!

No comments