Breaking News

दुर्गा पूजा सहित अन्य पर्वो के दौरान कोरोना संक्रमण नियंत्रण के लिए प्रतिबंधात्मक आदेश जारी*



उमरिया | 28-सितम्बर-2020
BNL24NEWS
राजीव तिवारी संभागीय हेड

    जिले में आगामी माहों में दुर्गा पूजा आदि पर्व मनाए जाएंगे तथा इसके लिए प्रतिमा एंव झांकियों की विभिन्न सावजनिक स्थानों पर स्थापना की जाएगी। इन पर्वो के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव के लिए गृह विभाग के नवीन दिशा-निर्देशों  के परिप्रेक्ष्य में कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री संजीव श्रीवास्तव  द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत सम्पूर्ण जिले में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए गए हैं। 
    कलेक्टर के आदेशानुसार पूर्व में घोषित लॉकडाउन कन्टेन्मेंट क्षेत्रों में जारी रहेगा एवं बेरीकेडिंग लगाकर सख्त रूप से पेरीमीटर कंट्रोल स्थापित किया जाएगा। मेडीकल एमरजेंसी एवं अत्यावश्यक वस्तुओं तथा सेवाओं की आपूर्ति से संबंधित आवागमन को छोड़कर किसी भी व्यक्ति का आवागमन कन्टेनमेन्ट क्षेत्रों में प्रतिबंधित रहेगा। इसी प्रकार मप्र शासन के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी एसओपी के अनुक्रम में सभी स्कूल, कॉलेज, शिक्षण एवं कोचिंग संस्थान बंद रहेंगी। आनलॉईन/डिसटेन्स लर्निग की अनुमति रहेगी एवं इसके लिए अधिकतम 50 प्रतिशत शिक्षकों एंव अन्य स्टॉफ को निर्धारित एसओपी का पालन करने की शर्त पर स्कूलों में प्रवेश की अनुमति रहेगी। कक्षा 9वी से ऊपर की कक्षा के आंशिक संचालन के संबंध में राज्य शासन के संबंधित विभागों द्वारा जारी एसओपी दिशा निर्देशानुसार उल्लेखित गतिविधियों के संचालन की अनुमति रहेगी। इनके अतिरिक्त सभी सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पूल, इंटरटेनमेन्ट पार्क एवं थियेटर बंद रहेंगे।
इन गतिविधियों का रहेगी सशर्त अनुमति
    जिले में आगामी माहों में नवरात्रि आदि पर्व में नगरों, कस्बों तथा ग्रामीण अंचलों में विभिन्न सार्वजानिक स्थानों पर स्थापित की जाने वाली प्रतिमा की ऊँचाई अधिकतम 06 फिट होगी तथा पंडाल का साईज 10 वाय 10 फीट अधिकतम रखा जा सकेगा। सामाजिक, सांस्कृतिक एवं अन्य कार्यक्रमों के आयोजन के सम्बन्ध में भारत सरकार के गृह मंत्रालय तथा मप्र शासन के गृह विभाग के निर्देशानुसार 100 से कम व्यक्तियों के आयोजन किए जा सकेंगे और इसके लिए आयोजक को स्थानीय प्रशासन (संबंधित अनुभाग क्षेत्र के अंतर्गत अनुविभागीय दण्डाधिकारी/तहसीलदार) से पूर्वानुम्ति प्राप्त करना आवश्यक होगा। कोविड संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए किसी भी धार्मिक या सामाजिक आयोजन के लिए चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होगी। साथ ही गरबा के आयोजन नहीं हो सकेंगे। लाउडस्पीकर बजाने के संबंध में माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाईड लाईन का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। मूर्ति विसर्जन के लिए 10 से अधिक व्यक्तियों के समूह को अनुमति प्रदान नहीं की जावे। इसके लिए सम्बन्धित आयोजकों को पृथक से स्थानीय प्रशासन (संबंधित अनुभाग क्षेत्रांतर्गत अनुविभागीय दण्डाधिकारी/तहसीलदार) से लिखित अनुमति पूर्व से प्राप्त किया जाना आवश्यक होगा। जिले में स्थानीय प्रशासन को विसर्जन के लिए अधिक से अधिक उपयुक्त स्थानों का चयन किए जाने के निर्देश दिए गए हैं ताकि विसर्जन स्थल पर कम भीड़ हो।
    सार्वजनिक स्थानों पर कोविड संक्रमण से बचाव के लिए झाकियों, पंडालों, विसर्जन के आयोजनों में श्रद्धालुओं द्वारा फेस कवर, सोशल डिस्टेंसिंग एवं सेनेटाईजर का प्रयोग के साथ ही राज्य शासन द्वारा समय समय पर जारी किये गये निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाने के आदेश दिए गए हैं। समस्त दुकाने रात्रि 08 बजे तक खुलने की अनुमति होगी। केमिस्ट, रेस्तरां, भोजनालय, राशन एवं खान पान से संबंधित दुकाने 08 बजे के बाद भी अपने निर्धारित समय तक खुली रह सकती है। रात्रि 10.30 बजे से सुबह 06 बजे तक अकारण आवागमन किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। दुकान संचालकों से अपेक्षा है कि वह स्वयं मास्क पहने तथा ग्राहकों के उपयोग लिए सेनेटाईजर तथा सोशल डिस्टेंसिंग के लिए 1-1 गज की दूरी पर घेरे बनाए। ऐसा नहीं करने वाले संचालकों के विरूद्ध नियमानुसार जुर्माना एवं अन्य दाण्डिक कार्यवाही की जाएगी।
    जिले में 65 वर्ष से अधिक आयु के वृद्धजनों, गर्भवती महिलाओं, 10 वर्ष से कम आयु के बच्चों एवं समस्त ऐसे व्यक्तियों जिन्हें अन्य बीमारियाँ हैं, उनका अत्यावश्यक सेवाओं एवं स्वास्थ्य संबंधित कारणों के अलावा सामान्यतः घर से निकालना प्रतिबंधित रहेगा। इन प्रतिबंधित गतिविधियों एवं अन्य किसी आदेश से प्रतिबंधित गतिविधियों को छोड़कर शेष समस्त गतिविधियों की निर्धारित एसओपी एंव राष्ट्रीय दिशा-निर्देशो के पालन करने की शर्त पर अनुमति रहेगी।
    राष्ट्रीय दिशा-निर्देश जैसे फेस कवर, सोशल डिसटेंसिग, सेनिटाईजेशन आदि को समस्त एसडीएम, कार्यपालिक मजिस्ट्रेट, थाना प्रभारी, व्यक्तियों, दुकानों एवं अन्य संस्थानों में सुनिश्चित करने करने के लिए अपने स्तर से दल गठित कर सतत् निगरानी रखते हुए पालन न करने पर आवश्यक कार्यवाही करना सुनिश्चित करेगें। धारा 144 दण्ड प्रकिया संहिता 1973 के अंतर्गत यह आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किया गया हैं। यह आदेश तत्काल प्रभाव से सम्पूर्ण रायसेन जिले में आगामी आदेश तक प्रभावशील रहेगा। इस आदेश का उल्लंघन करने पर भादवि की धारा 188 के अंतर्गत दण्डनीय होगा।

No comments