Breaking News

⚡सतना पोषण एवं स्वास्थ्य सेवाओं के क्रियान्वयन एवं मूल्यांकन समिति की बैठक संपन्न⚡






----------------
    सतना 30 सितम्बर 2020/अपर कलेक्टर सुश्री विमलेश सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय पोषण एवं स्वास्थ्य सेवाओं के क्रियान्वयन एवं मूल्यांकन, पोषण अभियान अंतर्गत जिला अभिशरण, जिला बाल संरक्षण, डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स (क्ज्थ्), बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ तथा वन स्टॉप सेंन्टर मानीटरिंग समिति की बैठक संपन्न हुई। बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास सर्वश्री सौरभ सिंह, सहायक संचालक श्याम किशोर द्विवेदी, राजेन्द्र बांगरे, सहायक संचालक शिक्षा एनके सिंह, समस्त परियोजना अधिकारी एवं सीडीपीओ उपस्थित थे।
    बैठक में अपर कलेक्टर सुश्री सिंह ने निर्देश दिए कि कम वजन के बच्चें जिन क्षेत्रों में अधिक हैं, वहां के विभागीय सुपरवाईजर बच्चों के घर जाकर अभिभावकों से संपर्क करें। ऐसे कुपोषित बच्चों को एनआरसी में भर्ती कराकर इलाज कराना सुनिश्चित करें। उन्होने सहायक संचालक शिक्षा से कहा कि बीईओं एवं बीआरसी को निर्देशित करें कि बच्चों की संख्या कम होने की वजह से जो विद्यालय बंद है या एक शाला-एक परिसर के खाली पड़े कमरों तथा ग्राम पंचायतों के अतिरिक्त भवन एवं सामुदायिक भवन, मंगल भवन का उपयोग किराए से संचालित आंगनवाड़ी केन्द्रों के संचालन हेतु करें। अपर कलेक्टर ने जिले में निर्माणाधीन आंगनवाड़ी केन्द्रों की विकासखंडवार प्रगति की समीक्षा की। समीक्षा के दौरान जिन विकासखंडों की प्रगति कम पाई गई, ऐसे अधिकारियों के विरूद्ध कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि क्षेत्र के पीओ निर्माणाधीन कार्य स्थलों का भ्रमण करें तथा एसडीएम से संपर्क बनाए रखें। निर्माण कार्यों में गति लाना सुनिश्चित करें तथा शीघ्र पूर्ण कराएं। 
    जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला बाल विकास ने सभी पीओ को पांच-पांच कुपोषित बच्चों को एनआरसी में भर्ती कराने की बात कही। बैठक में पीएम मातृ वंदना योजना, लाड़ली लक्ष्मी योजना की उपलब्धि, छात्रवृत्ति भुगतान, जन आंदोलन, बाल कल्याण, मातृछाया, चाईल्ड लाइन, शिशु लिंगानुपात, वन स्टॉप सेंटर सहित विभिन्न योजनाआें की विकासखंडवार एवं केन्द्रवार समीक्षा की गई। कार्य में उदासीनता बरतने वाले अधिकारियों/कर्मचारियों के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही करने के लिए कहा गया।

No comments