Breaking News

सोनरा निवासी सरहंगो ने पुरानी रंजिश को लेकर अन्नू सिंह के ऊपर किया प्राणघातक हमला*


BNL24NEWS
राजीव तिवारी संभागीय हेड




_▪️बोलेरो गाड़ी को किया जेसीबी से चकनाचूर अन्नू सिंह का फटा सिर और सिर में लगे 19 टांके_
_▪️पुलिसिया कार्यवाही में उठ रहा सवाल आखिरकार क्यों पुलिस कर रही है, आरोपियों को बचाने का प्रयास_
_▪️पुलिस ने नहीं लिया मामले को गंभीरता से साधारण मारपीट मानते हुए आईपीसी की धारा 323 में मुकदमा किया दर्ज_


*🔥रीवा:-* जिले के चोरहटा थाना क्षेत्र के नौबस्ता चौकी के अधीनस्थ मध्येपुर निवासी अन्नू सिंह पिता रामनरेश सिंह के ऊपर सोनरा के कुछ सरहंगो ने पुरानी रंजिश को लेकर लाठी डंडे से मारपीट कर प्राणघातक हमला किया है, जिसमें अन्नू सिंह का सिर फट गया और इलाज के दौरान सिर में 19 टांके लगाए गए, लेकिन नौबस्ता पुलिस ने इसे साधारण मारपीट मानते हुए मामला आईपीसी की धारा 323 में दर्ज कर मामले को रफा-दफा किया जा रहा है, तो वहीं वारदात के तीसरे दिन भी किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया और ना ही मामले की न्यायिक जांच की गई तो वही पीड़ित ने चोरहटा थाना प्रभारी से मिलकर न्याय की लगाई गुहार,
वारदात के बाद पीड़ित ने पुलिस चौकी नौबस्ता में रिपोर्ट की लेकिन पुलिस ने धारा 296, 323, 506, 427 व 34 आईपीसी के तहत साधारण मारपीट व बोलेरो गाड़ी की तोड़फोड़ का मामला दर्ज किया और आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जिसके चलते आरोपियों के हौसले बुलंद हैं, और वे पीड़ित को जान से मारने की धमकियां दे रहे हैं, पीड़ित ने न्याय की गुहार चोरहटा थाना प्रभारी से लगाई है,
*धाराओं की यह है, बाजीगरी.....*
आईपीसी की धारा 296, 323, 506, 427, व 34 आईपीसी में अपराध दर्ज होने पर आरोपी को गिरफ्तार कर थाना स्तर पर ही जमानत दी जा सकती है, क्योंकि यह जमानती अपराध की श्रेणी में आता है, रास्ता रोककर किसी को थप्पड़ मारने अथवा धक्का देने और किसी वाहन वस्तु को जानबूझकर नुकसान पहुंचाने पर यही धाराएं लगती हैं, लेकिन यदि पीड़ित के सिर में चोट लगती है, तो यह प्राणघातक हमले की श्रेणी में आता है, जो आईपीसी की धारा 307 व 308 में दर्ज होता है, जो गैर जमानती अपराध है, जिसमें थाना स्तर पर जमानत दिया जाना संभव नहीं है, इसमें आरोपित को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश करना होता है, जहां जमानत संबंधी निर्णय न्यायालय करता है।

*पुलिस मुख्यालय के स्पष्ट दिशा निर्देशों की नौबस्ता पुलिस उड़ा रही धज्जियां*
पुलिस मुख्यालय के स्पष्ट दिशा निर्देश है, कि सिर में चोट लगने के मामलों को गंभीरता से लिया जाए ऐसे मामलों को गैर जमानती अपराध की श्रेणी में रखते हुए संबंधित धाराओं में दर्ज किया जाए जबकि अन्नू सिंह के मामले में सिर में 19 टांके लगने के बावजूद भी नौबस्ता पुलिस ने इसे जमानती अपराध मानते हुए साधारण मारपीट की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है, तो वहीं इस मामले में पुलिस मुख्यालय के दिशा निर्देशों की खुलेआम नौबस्ता पुलिस के द्वारा धज्जियां उड़ाई गई हैं।

_यह मामला मेरी गैर मौजूदगी में दर्ज हुआ है, मैंने f.i.r. व मरीज की हालात अभी नहीं देखी है, लेकिन अगर पीड़ित के सिर में गंभीर चोटें आई हैं, तो आरोपियों के ऊपर गैर जमानती धारा दर्ज होगी और इसके बावजूद पीड़ित के साथ न्याय होगा और आरोपियों के खिलाफ जांच कर कड़ी कार्यवाही की जाएगी।_
           *थाना प्रभारी चोरहटा*
               *शिवपूजन मिश्रा*

No comments