Breaking News

✍️गया में मोहर्रम पर्व गणेश चतुर्थी कोरोना देखते हुए धार्मिक आयोजन महत्वपूर्ण बैठक👇


गया में मुहर्रम पर्व गनेश चतुर्थी कोरोना देखते हुये धार्मिक आयोजन महत्त्वपूर्ण बैठक ।
गया, 20 अगस्त 2020,
मुहर्रम पर्व एवं गणेश चतुर्थी के अवसर पर कोविड-19 के मद्देनजर धार्मिक आयोजन से संबंधित महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह की अध्यक्षता में की गई।
बैठक में उपस्थित अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, अंचलाधिकारी तथा थानाध्यक्ष को निर्देश दिया गया कि मोहर्रम एवं गणेश चतुर्थी पर्व के अवसर पर गृह मंत्रालय भारत सरकार तथा गृह विभाग (विशेष) बिहार सरकार के द्वारा किसी प्रकार के धार्मिक आयोजन में लोगों के जमावड़े पर रोक लगाई गई है।
बैठक में जिला पदाधिकारी द्वारा स्पष्ट रूप से निर्देश दिया गया कि इस वर्ष मुहर्रम दिनांक-21 अगस्त 2020 से 30 अगस्त 2020 तक मनाए जाने की संभावना है साथ ही गणेश चतुर्थी का त्यौहार भी इसी सप्ताह दिनांक 22 अगस्त को मनाने की संभावना है। उपरोक्त दोनों त्यौहारों के मद्देनजर कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए गृह मंत्रालय भारत सरकार तथा गृह विभाग बिहार सरकार के द्वारा किसी प्रकार के धार्मिक आयोजन या लोगों के जमावड़े पर रोक लगाई गई है उपरोक्त आलोक में जिला प्रशासन द्वारा निर्णय लिया गया है किः-
मोहर्रम के अवसर पर ताजिया, सिपर अथवा अखाड़े का कोई जुलूस नहीं निकाला जाएगा। शस्त्र प्रदर्शन नहीं किया जाए, डीजे एवं लाउडस्पीकर का भी उपयोग नहीं किया जाएगा।
किसी भी सार्वजनिक स्थल पर ताजिया नहीं रखा जाएगा तथा अखाड़े का आयोजन भी नहीं किया जाएगा।
इमामबाड़ा/अजाखाना/जरीखाना की साफ-सफाई, रौशनी, सजावट आदि किया जाएगा परंतु उसमें लोगों की भीड़ इकट्ठा ही नहीं किए जाएंगे।
इमामबाड़ा/अजाखाना में मजलिस/मरसिया/नौहा पढ़ने वाले व्यक्ति के अलावा इमामबाड़ा/अजाखाना में मजलिस/मरसिया/नौहा पढ़ने वाले व्यक्ति के अलावा आवश्यक प्रबंध के लिए बहुत सीमित संख्या में ही इमामबाड़ा की प्रबंध समिति के सदस्य सोशल डिस्टेंस के साथ उपस्थित रह सकते हैं। मजलिस/मरसिया/नौहा का प्रसारण जूम एवं अन्य डिजिटल माध्यम से किया जाए, जिसे आम आदमी अपने घरों में बैठकर देख एवं सुन सके। इमामबाड़ा में स्थानीय व्यक्तियों को एकत्र होने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
अपने अपने घरों में केवल अपने परिवार के सदस्य के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मजलिस का आयोजन किया जा सकता है।
इमामबाड़ा/अजाखाना में मजलिस के तबर्रुक का वितरण नहीं किया जाएगा बल्कि उसके पैकेट बनाकर लोगों के घरों तक पहुंचा दिया जाएगा। तबर्रुक के लिए कहीं भी भीड़ ना लगाई जाए।
यौमे आशूरा के दिन फूल लेकर जुलूस की शक्ल में कर्बला नहीं जाएंगे बल्कि दो-तीन आदमी किसी वाहन से फूल कर्बला तक पहुंचा देंगे।
इसी प्रकार गणेश चतुर्थी के अवसर पर मंदिरों में किसी प्रकार का कोई धार्मिक आयोजन नहीं किया जाए जिसमें लोगों की भीड़ इकट्ठा हो
लोग अपने घरों में केवल अपने परिवार के सदस्यों के साथ सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए धार्मिक आयोजन कर सकते हैं।
किसी भी सार्वजनिक स्थल पर मूर्ति स्थापना नही किया जाएगा साथ ही मूर्ति विसर्जन जुलूस भी नही निकाला जाएगा। उपरोक्त निर्देषों का अनुपालन सख्ती से कराया जायेगा।
सरकार/जिला प्रशासन द्वारा दिए गए निर्देशों का शत-प्रतिशत पालन किया जाए।
जिला पदाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि सार्वजनिक स्थल पर किसी प्रकार के मूर्ति स्थापना वर्जित रहेगा। उसी प्रकार मुहर्रम के अवसर पर ताजिया/ सिपर किसी भी सार्वजनिक स्थल पर नहीं रखा जाएगा तथा अखाड़े का आयोजन भी नहीं किया जाएगा।
जिलाधिकारी ने स्पष्ट रूप से कहा की मूर्ति को अथवा ताजिया को परंपरागत मंदिर में/ इमामबाड़े में ही स्थापित किया जाए। अगर अपने घर पर मूर्ति रखते हैं तो अपने निजी वाहन पर ही दो-तीन परिवार के सदस्यों के साथ विसर्जन करेंगे किसी भी रूप में ठेला इत्यादि पर मूर्ति विसर्जन की इजाजत नहीं दी जाएगी तथा डीजे लाउडस्पीकर का प्रयोग पूरी तरह वर्जित रहेगा।
इसी प्रकार ताजिया सिपर का फूल वाहन द्वारा ही कर्बला को लेकर जाएंगे। केवल कर्बला कमेटी/ मंदिर प्रबंधकारिणी समिति के सदस्य ही रहेंगे। मूर्ति/ ताजिया सिपर को पैदल अथवा ठेले पर लेकर लोग नहीं जाएंगे।
बैठक में सभी अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, अंचलाधिकारी एवं थानाध्यक्ष को निर्देश दिया कि आप अपने अपने क्षेत्र में शांति समिति के सदस्यों के साथ बैठक कर ले। असामाजिक तत्वों पर निरोधात्मक कार्रवाई करें तथा संवेदनशील स्थानों पर विशेष नजर रखें।
बैठक में जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी को निर्देश दिया कि सभी अंचलाधिकारी एवं थाना अध्यक्ष के साथ बैठक कर उन्हें सरकार एवं जिला प्रशासन के निर्णय से भली-भांति अवगत करा दें।
बैठक में वरीय पुलिस अधीक्षक श्री राजीव मिश्रा ने कहा कि मोहर्रम में ताजिया इमामबाड़ा में ही रखा जाएगा सिपर /ताजिया अथवा मूर्ति विसर्जन का कोई भी जुलूस नहीं निकलेगा उन्होंने बताया कि अब तक 12000 से अधिक लोगों पर निरोधात्मक कार्रवाई की जा चुकी है आवश्यकता होने पर सीसीए के अंतर्गत कार्रवाई की जा सकती है।
जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक द्वारा गणेश चतुर्थी एवं मुहर्रम पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए लोगों से अपील किया है कि इन त्योहारों को अपने घर पर ही मनाए सामाजिक दूरी का अनुपालन करें तथा सार्वजनिक स्थल पर मूर्ति/ ताजिया/सिपर स्थापना ना करें। अफवाहों से बचें तथा प्रेम, भाईचारा एवं सौहार्द के साथ इन त्योहारों को मनाए।

No comments