Breaking News

✍️✍️✍️भारतीय किसान संघ ने मुरैना गांव में भगवान बलराम जी का मनाया जयंती👇



भारतीय किसान संघ ने मुरेरा गांव में भगवान बलराम जी  का मनाया जयंती l
विश्वनाथ आनंद
टेकारी( गया )- भारतीय किसान संघ के द्वारा प्रखंड के मुरेरा गाँव मे भगवान बलराम जी का जयन्ती मनायी गयी l जिसकी अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष इंद्रदेव शर्मा ने किया ।  जयंती समारोह में सबसे पहले झंडा पूजन किया गया।तथा बलराम जी एवं भारत माता के चित्रों पर माल्यार्पण की गई। उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए प्रान्त के उपाध्यक्ष बिपिन बिहारी शर्मा ने कहा  कि किसानों के देवता हैं भगवान बलराम l वहीं दूसरी तरफ भारतीय किसान बिहार प्रान्त के कोषाध्यक्ष रामरसिक मिश्रा ने  उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कृषि के देवता भगवान बलराम जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है lऐसे हल और मुशल से खेती के लिए तैयार किया गया है।कृषि पालक के रूप में भगवान कृष्ण थेl और  सभो को जैविक कृषि के लिए लोगो को प्रेरित किया है। महाभारत में कौरव पांडव के युद्ध में भी किसी को मदद नही किया।
 जन्म यदूकुल में हुआ। कंस ने अपनी प्रिय बहन देवकी का विवाह यदुवंशी वसुदेव से विधि पूर्वक कराया।
जब कंस अपनी बहन देवकी को रथ में बिठा कर वसुदेव के घर ले जा रहा था, तभी आकाशवाणी हुई और उसे पता चला कि उसकी बहन का आठवाँ संतान ही उसे मारेगा।
कंस ने अपनी बहन को कारागार में बन्द कर दिया और क्रमशः 6 पुत्रों को मार दिया, 7वें पुत्र के रूप में नाग के अवतार बलराम जी थे जिसे श्री हरि ने योगमाया से रोहिणी के गर्भ में स्थापित कर दिया। उन्होंने आगे कहा कि
आठवें गर्भ में कृष्ण थे।
बलभद्र या बलराम श्री कृष्ण के सौतेले बड़े भाई थे l जो रोहिणी के गर्भ से उत्पन्न हुए थे। बलराम, हलधर, हलायुध, संकर्षण आदि इनके अनेक नाम हैं। बलभद्र के सगे सात भाई और एक बहन सुभद्रा थी जिन्हें चित्रा भी कहते हैं। इनका ब्याह रेवत की कन्या रेवती से हुआ था। कहते हैं, रेवती 21 हाथ लंबी थीं और बलभद्र जी ने अपने हल से खींचकर इन्हें छोटी किया था।
    वही टेकारी अनुमंडल के अंतर्गत वेल बन ठाकुरवाड़ी में भी भगवान बलराम जी का जयन्ती समारोह का आयोजन किया गया है  lजिसकी अध्यक्षता टेकारी के प्रखंड अध्यक्ष गोविंद पाठक ने  कहा  किआज के दिन किसानों के लिये सर्वोपरि दिन माना जाता है।इस कार्यक्रम में  मुख्य अतिथि राष्ट्रीय मंत्री बृजकिशोर सिंह,जिला मंत्री बीरेंद्र सिंह, सुबोध शर्मा ,कृष्णा कान्त शर्मा, ललन शर्मा शेखर शर्मा, विद्यभूषन शर्मा, शम्भू पाठक, सुनील कुमार, भोला मिश्रा, आदि ने भाग लिया।

No comments