Breaking News

गया में स्वदेश दर्शन योजना के अन्तर्गत रामायण सर्किट बनाने मांगः विजय मिठू

*गया में स्वदेश दर्शन योजना के अन्तर्गत  रामायण सर्किट बनाने मांगः  विजय मिठू
।*
रिपोर्टः
दिनेश पंडित
बिहार. के जिला गया में आज 
अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य सह मगध प्रमंडल कांग्रेस प्रवक्ता प्रो विजय कुमार मिठू,  शशि किशोर शिशु,अशोक सिंह, बाबूलाल प्रसाद सिंह, टिंकू गिरी, सरवर खान, डॉ अनिल कुमार सिन्हा, राम नरेश सिंह प्योद, रघुवीर मानपुरी, दामोदर गोस्वामी, राघवेन्द्र मिश्रा, गोपाल सेन पांडेय,आदि ने केंद्र एवम् राज्य सरकार से " स्वदेश दर्शन योजना " के तहत देश के नौ राज्यो के पन्द्रह स्थान जो " रामायण सर्किट" बनाने के लिए चिन्हित किया गया है, उसमे गया का विश्व प्रसिद्ध सीताकुंड मन्दिर को जोड़ने की मांग किया है।
       नेताओ ने कहा की भगवान राम एवम् सीता जी के महत्वपूर्ण स्थानों को रामायण सर्किट से जोड़ने की योजना में बिहार राज्य का सीतामढ़ी,बक्सर, एवम् दरभंगा है, परंतु गया के सीताकुंड मन्दिर को छोड़ दिया गया है, जबकि 28 नवम्बर 2000 को बिहार से झारखंड के अलग होने के समय ही बिहार के विकास के आर्थिक पैकेज के ज्ञापन में जो रामायण सर्किट बनाने की योजना बनाई गई थी उसमें पहला नाम गया के सीताकुंड मन्दिर का था , लेकिन अभी केंद्रीय पर्यटन मंत्री श्री प्रहलाद सिंह पटेल जी ने जो योजना की शुरुआत की घोषणा की है उसमे गया के सीताकुंड मन्दिर का नाम नहीं होना, दुर्भाग्यपूर्ण एवम् अन्यायपूर्ण है।
       नेताओ ने कहा की दूसरी ओर राज्य के मुख्यमंत्री हाल में अपने वर्चुअल रैली में को घोषणा किए की गया के विष्णुपद से सीताकुंड मन्दिर तक फल्गु नदी में लक्ष्मण झूला बनेगा , उस दिशा में भी अभी कोई काम नहीं हुआ, ना ही उन्होंने अपने वर्चुअल रैली के संबोधन में सीताकुंड मन्दिर को रामायण सर्किट से जोड़ने की योजना की चर्चा तक नहीं किए।
      नेताओ ने प्रधानमंत्री, केंद्रीय पर्यटन मंत्री, एवम् मुख्यमंत्री से अविलंब सीताकुंड मन्दिर को रामायण सर्किट से जोड़ने एवम् फल्गु नदी में विष्णुपद से सीताकुंड के बीच लक्ष्मण झूला बनाने की मांग की है।
       नेताओ ने विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेला शुरू होने से पहले इसकी घोषणा केंद्र सरकार द्वारा किया जाए, नहीं तो आने वाले विधानसभा चुनाव में इसका लेखा, जोखा लेने के लिए गया की महान जनता तैयार बैठी हुई है, क्योंकि शुरू से ही केंद्र एवम् राज्य सरकार अति प्राचीन एवम् अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त गया शहर के विकास की अनदेखी करते आ रही है।

No comments