Breaking News

बोधगया के पत्रकार पर गाली गलौज करते हुए असामाजिक तत्वों ने किया जानलेवा हमला

बोधगया के पत्रकार पर गाली गलौज करते हुए असामाजिक तत्वों ने किया जानलेवा हमला
* बाल बाल बचे पत्रकार दिनेश पंडित l
 वरीय संवाददाता
  बोधगया -  बोधगया के भारत न्यूज़ लाइव 24×7 एवं विभिन्न समाचार पत्रों से जुड़े पत्रकार दिनेश पंडित के घरों पर असामाजिक तत्वों ने गाली गलौज करते हुए जानलेवा हमला किया है l जिससे पत्रकारों में आक्रोश व्याप्त है l घटना की जानकारी देते हुए पीड़ित पत्रकार दिनेश पंडित ने संवाददाता को आप बीती कहानी सुनाते हुए कहा कि असामाजिक तत्वों का मनोबल सर चढ़कर बोलने लगा है l और पुलिस प्रशासन से लेकर चाटुकारिता की राह पर चलने वाले मीडिया कर्मी इन दिनों असामाजिक  तत्वों के विरुद्ध बोलने की जगह सुर में सुर मिलाने में जुटे हैं l जिसका परिणाम है कि लोकतंत्र के चौथा स्तंभ एवं समाज के दर्पण कहे जाने वाले पत्रकारों पर लगातार जानलेवा हमले हो रहे हैं l और जान को जोखिम में डालकर जो पत्रकार अपनी लेखनी के माध्यम से समाजों के बीच सत्यता को रखने का काम करती है उसे या तो हत्या कर दी जाती है या फिर धमकियां  दी जाती है कि सुधर जाओ l  ऐसे तो कई पत्रकार संगठन पत्रकारों के हितों की बात करती है परंतु पत्रकारों के साथ घटित घटना होता है तो सिर्फ पत्रकारों को मदद करने की जगह अपने समाचार पत्रों तक ही सीमित रहता है जिसका परिणाम है कि न प्रशासन मदद करती है  और ना ही संगठन l जिसका परिणाम है कि असामाजिक  तत्वों  से लेकर बाहुबलियों का मनोबल सर चढ़कर बोलने लगता है l श्री पंडित ने आगे कहा कि पत्रकारों को एकजुटता के साथ-साथ पत्रकारों की समस्या को लेकर जमीनी स्तर पर बात करनी चाहिए l चाहे कोई भी पत्रकार किसी भी संस्था से जुड़ा हो पत्रकारों के साथ घटित घटना घटती है l तो सभी पत्रकारों को  एक स्वर के साथ असामाजिक तत्वों के विरुद्ध आवाज बुलंद करने की जरूरत है l श्री पंडित ने आगे कहा कि बोधगया के भागलपुर बस्ती में अपने घर पर था l असामाजिक तत्वों ने मेरे घर पर आकर पहले गाली गलौज किया उसके बाद मेरे एवं  बच्चों के ऊपर जानलेवा हमला किया है l इसकी सूचना स्थानीय पत्रकारों को दी l तथा संगठन में भी इसका सूचना दिया हूं l और कई  मीडिया ग्रुप में भी प्रमुखता से घटना से संबंधित जानकारियां दिया l लेकिन पत्रकारों के द्वारा आश्वासन की जगह सुधि लेने वाला कोई नहीं l उन्होंने आगे कहा कि पत्रकारों के साथ घटित घटना पहली बार नहीं है l इसके पूर्व भी पत्रकारों के साथ घटना घटी है l परंतु ना प्रशासन मदद कर पाती है और ना ही पत्रकार संगठन l आज स्थिति यह है कि पत्रकारों के ऊपर असामाजिक तत्व हावी होते जा रहे हैं और पत्रकारों की हालत दिन प्रतिदिन बद से भी बदतर होते जा रहा है l श्री पंडित ने  पत्रकारों पर की गई हमला को लोकतंत्र का हत्या करार दिया है l कई पत्रकार संगठनों ने घटना की तीव्र निंदा करते हुए  असामाजिक तत्वों के विरुद्ध करवाई करने की मांग जिला प्रशासन एवं वरीय पुलिस अधीक्षक तथा स्थानीय थाना अध्यक्ष से किया है l श्री पंडित ने कहा है कि स्थानीय प्रशासन असामाजिक तत्व एवं पत्रकारों पर हमला करने वाले अपराधियों  पर कार्रवाई नहीं करती है तो विवश होकर पत्रकार संगठन अपनी लेखनी के माध्यम से लेकर चट्टानी एकता का परिचय देने के लिए सड़कों पर उतरने के लिए बाध्य हो जाएगा l श्री पंडित ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है और समाज का दर्पण है l  इसके बावजूद भी पत्रकारों पर हमला क्यों की जाती है l आखिर पत्रकार प्रहरी  के रूप में काम करती है l समाज का दर्पण के रूप में  कार्य करता है l और पत्रकारों पर हमला होती हैं l जो राष्ट्र एवं लोकतंत्र लिए खतरा है l श्री पंडित ने स्थानीय पुलिस प्रशासन, जिला प्रशासन एवं वरीय पुलिस अधीक्षक गया , से अभिलंब जांच करते हुए अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई करने की मांग किया है l

No comments