Breaking News

कोरोना जांच हेतु 4 रैपिड एंटीजन जांच मोबाइल वैन को हरी झंडी दिखाकर किया गया रवाना

*कोरोना जांच हेतु 4 रैपिड एंटीजन जांच मोबाइल वैन को हरी झंडी दिखाकर किया गया रवाना
*
*संबंधित व्यक्तियों को कंटेंनमेंट ज़ोन के अंदर ही कोरोना की होगी जांच*

गया, 23 जुलाई 2020,
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
बिहार के जिला गया में  जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह के द्वारा समाहरणालय परिसर से 4 रैपिड एंटीजन टेस्टिंग मोबाइल वैन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। सभी मोबाइल वैन के माध्यम से कंटेंनमेंट जोन के मरीजों/ सिंप्टोमेटिक व्यक्ति के सैंपल जांच रैपिड एंटीजन कीट के द्वारा किया जाएगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि 4 मोबाइल वैन को रवाना किया जा रहा है। जितने कंटेंनमेंट जोन गया में हैं, उनमें जितने भी कोरोना संक्रमित मरीज हैं उनके हाई कांटेक्ट, उनके फैमिली मेंबर एवं अन्य लोग जिनको लक्षण है, उनको रैपिड एंटीजन किट कीट से जांच किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्र के कंटेंनमेंट जोन में 2 मोबाइल वैन, टिकारी अनुमंडल में 1 मोबाइल वैन एवं 1 वैन संक्रामक अस्पताल में लोगो का जांच करेगा। उसके उपरांत संक्रामक अस्पताल में लगे मोबाइल वैन शेरघाटी एवं अन्य जगहों पर जाकर कंटेंनमेंट ज़ोन वाले व्यक्तियों का सैंपल जांच करेगा।
उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन में जितने भी लोग हाई रिक्स वाले हैं या लक्षण वाले हैं वैसे व्यक्तियों को उनके क्षेत्र में ही कोरोना टेस्टिंग किया जा सकेगा। उनको अपने कंटेनमेंट जोन से बाहर नहीं निकलना पड़े ऐसी व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में कंटेंनमेंट जोन के केस उसी कंटेनमेंट जोन में ही सीमित रहें, ऐसी व्यवस्था की जा रही है। जितने लक्षण वाले लोग हैं उन सभी का जांच कराया जाएगा। 
*उन्होंने गया वासियों से अपील किया कि लोगो को पैनिक/ घबराने की आवश्यकता नहीं है। यदि किसी को कोविड के लक्षण है तो उनके नजदीकी कोविड संग्रह केंद्र में रैपिड एंटीजन से जांच होता है वहां रिपोर्ट करें। यदि लक्षण पाया जाता है तो वहां कोविड जांच किया जाएगा।
उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि गया जिला में जांच की पर्याप्त व्यवस्था है। हर लक्षण वाले व्यक्ति की जांच करने के लिये व्यवस्था है, लेकिन जब आप जांच कराते हैं तो उसके तुरंत बाद जांच स्थल पर इंतजार करके रिजल्ट पता कर ले या किसी कारणवस आप इंतजार नहीं करते हैं तो आप घर जाकर रिजल्ट आने तक खुद को होम आइसोलेशन में रखें। 
उन्होंने कहा कि रिजल्ट पता होने के बाद यदि आपको सीरियस सिम्टम्स है या कोई व्यक्ति लगातार बीमार हैं, गंभीर बीमारी है तो आप जरूर आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हो जाएं। विभिन्न जगह पर गया ज़िला में आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की गई है। जो लोग सक्षम हैं वह सरकार द्वारा निर्धारित दर पर विभिन्न होटलो में आइसोलेशन में रह सकते हैं। इसके साथ ही अन्य लोग जो होम आइसोलेशन में रहना चाहते हैं जिन्हें कोई सिम्टम्स नहीं है, कोई गंभीर बीमारी नहीं है वैसे व्यक्ति होम आइसोलेशन में रह सकते हैं। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन में पूरी सावधानी से रहे। होम आइसोलेशन में रहने वाले व्यक्तियों के घर तक दवाओं का किट पहुंचाया जाएगा और प्रतिदिन मोबाइल वैन द्वारा आपसे हालचाल लिया जाएगा और यदि आप डॉक्टर से परामर्श लेना चाहते हैं तो टेली मेडिसिन के माध्यम से डॉक्टर से बात कर सकते हैं। कंट्रोल रूम में चिकित्सीय परामर्श केंद्र बनाया गया है जहां आप गूगल मीट के माध्यम से डॉक्टर से वीडियो कॉल के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि 97% केस में लोगों को हॉस्पिटल आने की जरूरत नहीं होती है। 90% केस में लोग स्वस्थ हो जाते हैं। *जिलाधिकारी ने गया वासियों से अपील किया कि आज के दिनों में यदि हमारे शरीर में कोई गंभीर बीमारी है या परिवार के सदस्य में कोई गंभीर बीमारी है तो उनके स्वास्थ्य को ध्यान रखते हुए वैसे व्यक्तियों से दूरी बना कर रहे। उन्हें घरों में ही रखें तथा यदि उनमे कोरोना के कोई लक्षण मिलता है तो उन्हें अविलंब जांच कराएं एवं जरूरत पड़ने पर हॉस्पिटल में एडमिट कराएं। उन्होंने कहा की गया में पूर्व के 8 जगहों पर रैपिड एंटीजन किट द्वारा जांच किया जा रहा है एवं आज यह 4 मोबाइल वैन रैपिड एंटीजन द्वारा कंटेनमेंट जोन के व्यक्तियों की जांच करने के लिए रवाना किया गया है। अब गया जिला में कुल 12 जगहों पर रैपिड एंटीजन टेस्टिंग की व्यवस्था की गई है। मौके पर उपस्थित सिविल सर्जन श्री वीके सिंह, डीपीएम स्वास्थ्यके  श्री निलेश कुमार भी मौजूद थे।

No comments