Breaking News

वंदे भारत अभियान के तहत आने वाले हवाई जहाज को लेकर की गई बैठक

*वंदे भारत अभियान के तहत आने वाले हवाई जहाज को लेकर की गई बैठक
*
21-05-2020

रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंंडित

 बिहार के जिला गयामें कोविड-19 वैश्विक महामारी कोरोना से सुरक्षा व बचाव को लेकर किए गए लॉकडाउन के दौरान विभिन्न देशों में फंसे भारतीय प्रवासियों,जो अपने वतन वापस लौटने को इक्षुक हैं, के लिए वंदे भारत मिशन के तहत हवाई जहाज चलाए जा रहे हैं। इस मिशन के तहत बिहार के लिए लैंडिंग पॉइंट गया जिला को बनाया गया है। गौरतलब है कि 18 मई 2020 को यू0के0 से पहली उड़ान आ चुकी है। जिसमें बिहार के 28 एवं झारखंड के 13 प्रवासी आए हैं। इसी कड़ी के तहत 24, 25 एवं 26 मई 2020 को लगातार हवाई जहाज गया पहुंचने वाली है। 24 को मस्कट से, 25 को दोहा से एवं 26 को विशकेक से प्रवासी यात्री आएंगे।
गया आगमन के अवसर पर गया हवाई अड्डा पर यात्रियों के लिए मेडिकल स्क्रीनिंग, आरोग्य सेतु एप्प्स डाउनलोडिंग, होटल बुकिंग एवं अराइवल किट देने की व्यवस्था की गई है। बिहार में इस अभियान की (मोनेटरिंग)निगरानी आयुक्त मगध प्रमंडल श्री असंगबा चुबा आओ द्वारा की जा रही है।
Covid 19 के लिए गृह विभाग,भारत सरकार द्वारा जारी निदेशानुसार यात्रियों को हवाई अड्डा से सुरक्षित आवासित स्थल तक पहुंचाने के लिए की जानेवाली तैयारी को लेकर आयुक्त कार्यालय के सभागार में आयुक्त मगध प्रमंडल श्री असंगबा चुबा आओ की अध्यक्षता में आवासन कोषांग, स्वास्थ्य कोषांग, परिवहन कोषांग, होटल /गेस्ट हाउस/ मोनेस्ट्री कोषांग, महिला कोषांग की बैठक की गई।
बैठक में सर्वप्रथम सभी लोगों से 18 मई 2020 का अनुभव साझा किया गया तथा उन अनुभवों के आधार पर सुझाव लिए गए। 
पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए आयुक्त महोदय ने कहा कि मेडिकल स्क्रीनिंग टीम हवाई जहाज लैंड करने के 30 मिनट पूर्व पूर्णतया तैयार अवस्था में रहनी चाहिए क्योंकि इस बार अधिक यात्रियों की संभावना है। साथ ही अब गया का तापमान भी बढ़ गया है। इसलिए अलग से एक मेडिसिन टीम भी रहेगी। उन्होंने कहा कि इस बार आने वाले यात्रियों में से अधिकतर के प्रवासी कामगार होने की संभावना है, जिनमें से अधिकतर के द्वारा आरोग्य सेतु डाउनलोड नहीं किया गया होगा तथा अनेक के पास ईमेल-आईडी नही होंगे। इसलिए उन यात्रियों को दो-तीन दिनों में स्थानीय नंबर लेने का निर्देश दिया जाएगा। यह जिम्मेदारी आवासन कोषांग की होगी ताकि 14 दिन पूरा होने पर उन्हें कोरेंटिन अवधि पूरा होने के उपरांत 14वे दिन उन्हें ईमेल या व्हाट्सएप के माध्यम से कोरेंटिन सर्टिफिकेट दिया जा सके। उन्होंने कहा कि 12 साल से कम उम्र के बच्चों के मनोरंजन के लिए गिफ्ट के रूप में उन्हें कुछ खिलौना प्रदान किया जाए। आयुक्त महोदय ने कहा कि यात्रियों की अधिक संख्या को देखते हुए एराइवल एरिया में कम से कम चार हैंड सेनीटाइजर एवं 2 स्प्रे सैनिटाइजर की व्यवस्था होनी चाहिए। इमीग्रेशन पॉइंट पर पहले से ही पासपोर्ट नंबर एवं विवरण फॉर्म भरे रहने चाहिए साथ ही सभी पांच काउंटर के लिए यात्रियों की सूची पूर्व से अलग अलग कर ली जाए और सीढ़ी से उतरने के दौरान ही उन्हें बता दिया जाए कि उन्हें किस काउंटर पर जाना है ताकि प्रत्येक काउंटर पर कम से कम समय लग सके। रिसेप्शन काउंटर पर सभी यात्रियों से आरोग्य सेतु एप्प एवं होटल बुकिंग के संबंध में पूछना है। जिनके पास आरोग्य सेतु एप्प नहीं होगा उन्हें आरोग्य सेतु एप्प काउंटर पर तथा जिनके पास होटल बुकिंग नहीं है उनको होटल बुकिंग काउंटर पर भेजा जाएगा। एराइवल किट वितरण करने के लिए तेज तर्रार कर्मी की प्रतिनियुक्त करने का निर्देश दिए गए, ताकि कम से कम समय लग सके।
बैठक में आयुक्त के सचिव मोहम्मद अफजालुर रहमान, संयुक्त निदेशक शस्य श्री अभांशु जैन, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मगध प्रमंडल मो0 नौशाद आलम, उप निदेशक जन संपर्क नागेंद्र कुमार गुप्ता, निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण श्री संतोष कुमार, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी मो0 सलीम अंसारी, वरीय उप समाहर्ता श्री अभिषेक कुमार, डीपीएम स्वास्थ्य श्री निलेश कुमार सहित तमाम पदाधिकारी उपस्थित थे।

No comments