Breaking News

हवाई मार्ग से आने वाले बिहार वासियों के लिए कोषांगों की हुई बैठक

*हवाई मार्ग से आने वाले बिहार वासियों के लिए कोषांगों की हुई बैठक
*
*व्यवधान उत्पन्न करने वाले होटल/ गेस्ट हाउस/ मॉनेस्ट्रीज के विरुद्ध होगी सख्त कार्रवाई*
गया, 14.05.2020, कोविड 19 कोरोना से सुरक्षा व बचाव के मद्देनजर किये गए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण विदेश से हवाई मार्ग के माध्यम से बिहार आने वाले प्रवासियों का हवाई अड्डा पर आगमन से लेकर उन्हें संबंधित होटल/गेस्ट हाउस/मॉनेस्ट्रीज में पहुंचाने एवं 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन अवधि तक उन्हें भोजन/ स्वच्छता/सामाजिक दूरी सुनिश्चित कराने के लिए गठित स्वागत कोषांग, आवासन कोषांग एवं परिवहन कोषांग की बारी-बारी से बैठक आयुक्त, मगध प्रमंडल, गया श्री असंगबा चुबा आओ की अध्यक्षता में की गई। 
स्वागत कोषांग के पदाधिकारियों एवं कर्मियों को संबोधित करते हुए आयुक्त महोदय ने कहा कि स्वागत कोषांग की ज़िम्मेदारी होगी, जब हवाई अड्डा से मेडिकल स्क्रीनिंग (स्वास्थ्य जांच) कराने के बाद इमिग्रेशन काउंटर पर यात्री आ जाएंगे वहाँ से स्वागत कोषांग का कार्य प्रारंभ हो जाएगा जो यात्री अपने मोबाइल में आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड नहीं किये हैं, उनसे आरोग्य सेतु काउंटर पर आरोग्य सेतु एप्प को डाउनलोड कराया जाना है, जिनकी बुकिंग होटल/गेस्ट हाउस/मोनास्ट्री में नहीं है, वे बुकिंग काउंटर पर अपने आवासन के लिए गेस्ट हाउस/होटल?मोनेस्ट्री की बुकिंग कराएंगे। तत्पश्चात उन्हें उनके लिए आवंटित बस तक लाया जाएगा, जहां उन्हें वेलकम किट दिया जाएगा। इसके लिए पूर्व में ही यात्रियों को बस नंबर का टोकन देना होगा। उन्होंने कहा कि इन सारी प्रक्रिया को पूरा करते हुए कम से कम समय में उन्हें गया हवाई अड्डा से उनके बस तक पहुंचाना होगा। 
बैठक में आवासन कोषांग के पदाधिकारियों एवं कर्मियों को संबोधित करते हुए आयुक्त महोदय ने कहा कि विदेश से बिहार आने वालों के लिए गया हवाई अड्डा को ही चुना गया है, इसका प्रमुख कारण है कि गया जिला की व्यवस्था अच्छी है। दूसरा हवाई अड्डा से आवासन स्थल बोधगया नजदीक है तथा एक ही स्थल पर पर्याप्त संख्या में होटल/गेस्ट हाउस/मोनास्ट्री उपलब्ध हैं। उन्होंने कहा कि क्योंकि आवासन की व्यवस्था भुगतान पर आधारित है, इसलिए यात्री अपनी सुविधानुसार होटल/गेस्ट हाउस/मोनास्ट्री में रह सकते हैं। होटल/गेस्ट हाउस/मोनास्ट्री की बुकिंग के लिए ऑनलाइन व्यवस्था की गई है तथा गया अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पर बुकिंग के लिए एक काउंटर भी लगाया जाएगा। उन्होंने आवासन कोषांग के पदाधिकारी एवं कर्मियों को कहा कि एक बार यात्री बस से उतरा तो सीधे अपने होटल के कमरे में जाएगा, ना कि वे रिसेप्शन में रुकेगा। यह भी देखना होगा कि गेस्टहाउस/ होटल/मॉनेस्ट्री नियमों का पालन कर रहा है या नहीं। उन्होंने पदाधिकारियों को कहा कि होटल/गेस्ट हाउस/मोनेस्ट्री का भ्रमण यात्रियों के आने के 1 दिन पहले करना होगा, जिसमें साफ-सफाई एवं खाने पीने की व्यवस्था सुनिश्चित करनी होगी। उन्होंने कहा कि एक कमरे में एक ही व्यक्ति रहेगा। यात्रियों को होटल पहुंचाने के 1 घंटे बाद उनके मोबाइल पर संपर्क कर उनका हालचाल लिया जाएगा एवं यह भी पूछना होगा कि उन्हें कोई परेशानी तो नहीं है। इसके बाद प्रत्येक दिन कम से कम एक बार मोबाइल से उनका हालचाल लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि 14 दिनों तक कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति किसी भी क्वारंटाइन व्यक्ति से नहीं मिलेगा, न ही किसी आवासित होटल में प्रवेश करेगा। यह सुरक्षा के दृष्टिकोण से आवश्यक है, यदि इसका उल्लंघन होता है तो संबंधित प्रभारी पदाधिकारी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। 
आयुक्त महोदय ने सख्त चेतावनी देते हुए कहा कि आपदा के इस अवसर पर बोधगया के जो भी होटल, गेस्ट हाउस एवं मोनास्ट्री सरकार द्वारा जारी निर्देश के अनुसार कार्य नहीं करते हैं एवं व्यवधान उत्पन्न करने का प्रयास करते हैं, तो उनके विरूद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
परिवहन कोषांग के पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए आयुक्त महोदय ने कहा कि उन्हें होटल बुकिंग कोषांग से 1 दिन पहले यात्रियों की सूची ले लेनी होगी। तदानुसार रूट चार्ट बना लेना होगा। उन्होंने कहा कि एक हवाई जहाज में औसतन 180 यात्री रहेंगे, इसके लिए वाहनों की समुचित व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि यात्रियों से कम से कम वार्तालाप हो, यह सुनिश्चित किया जाए। 

बैठक में आयुक्त के सचिव श्री अफ़ज़लूर रहमान, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, मगध प्रमण्डल, गया मो० नौशाद आलम, संयुक निदेशक, शस्य, श्री अभांशु जैन, उप निदेशक जन संपर्क, नागेंद्र कुमार गुप्ता, जिला परिवहन पदाधिकारी, गया श्री जनार्दन प्रसाद, जिला सांख्यिकी पदाधिकारी, गया मो० सलीम अंसारी एवं अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

No comments