Breaking News

कुव्यवस्थाओं का शिकार बना क्वॉरेंटाइन सेंटर कुरमावाँऔर बजौरा

कुव्यवस्थाओं का शिकार बना क्वॉरेंटाइन सेंटर कुरमावाँऔर बजौरा 

कोरोना संक्रमण घटने के बजाय फैलने की आशंका बढ़ी

 रिपोर्ट : विनोद विरोधी

 बाराचट्टी( गया)। अन्य राज्यों से आए प्रवासी मजदूरों को कोरोना संक्रमण से सुरक्षा के लिए बनाए गए क्वॉरेंटाइन सेंटर इन दिनों कुव्यवस्था के कारण मजाक बनकर रह गया है। इन केंद्रों पर लगातार प्रवासी मजदूरों की संख्या बढ़ती जा रही है ।वहीं उनके लिए राशन पानी व अन्य सुविधाओं का घोर अभाव होने की बात सामने आ रही है ।वहीं इन केंद्रों पर असामाजिक तत्वों का भी प्रवेश तथा मजदूरों के साथ दुर्व्यवहार व मारपीट की घटना घटित हो रही है ।डोभी प्रखंड के कुरमावाँ पंचायत स्थित पंचायत सरकार भवन में बने क्वॉरेंटाइन सेंटर में करीब 150 प्रवासी मजदूर आ चुके हैं। जिन्हें कुव्यवस्था कारण समय पर नाश्ता व खाना का पुख्ता इंतजाम नहीं मिल पा रहा है, वहीं गंदगी का अंबार लगा है ।समय पर खाना नहीं मिलने की शिकायत मिली है ।प्रवासी मजदूरों का मानना है कि यहां व्यवस्था के नाम पर पंखा लगा है ,लेकिन जरनेटर बंद है और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं हो रहा है। ताज्जुब तो इस बात का है कि कई दबंग किस्म के प्रवासी श्रमिक बेरोक टोक क्वॉरेंटाइन सेंटर से निकलकर शराब दुकानों तक पहुंच रहे हैं और देर शाम आकर अनावश्यक शोरगुल कर रहे हैं ।बताते हैं कि यहां करीब डेढ़ सौ से ज्यादा श्रमिक क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे हैं इनमें 20 -25 महिलाएं भी हैं। बावजूद यहां कोई सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं हैं ।उनका यह भी कहना है कि महज एक बाल्टी से श्रमिकों को नहाना धोना होता है। इधर इसी प्रखंड के बजौरा स्थित बीएड कॉलेज में अवस्थित सेंटर में सुरक्षा के अभाव में बाहरी असामाजिक तत्वों का प्रवेश हो रहा है ।बताते हैं कि 2 दिन पूर्व एक प्रवासी मजदूर गौतम दास नामक युवक के साथ वैसे तत्वों ने सेंटर में घुसकर मारपीट किया तथा जख्मी कर दिया ।वहां तैनात कर्मियों से शिकायत करने पर उन्हें फटकार ही मिली है। आशंका की जा रही है कि यदि इन सेंटरों पर ऐसी व्यवस्था रही तो संक्रमण से बचाव के बजाय इसे फैलने से कोई नहीं रोक सकता है ।इस बाबत जब डोभी थाना प्रभारी से बातचीत की गई तो उन्होंने अनभिज्ञता प्रकट की।

No comments