Breaking News

केछुए की चाल से बन रही सडक लीला टोला से दमेहड़ी मार्ग

लोकेशन- अनूपपुर पुष्पराजगढ़


केछुए की चाल से बन रही सडक लीला टोला से दमेहड़ी मार्ग 

थोडी सी वर्षात में फंस रहे वाहन  किराए की जेसीबी का ले रहे सहारा

राजेन्द्रग्राम-तहसील मुख्यालय से 25 किलोमीटर की दूरी से लगी लीला टोला से नुनघटी मार्ग को आज सालों से हाइवे नेशनल रोड इकटोन कपंनी के द्गारा बनाया जा रहा है। जब जब वर्षा होती है तब तब छोटी वाहन मालिकों को गीली मिट्टी व काली मीट्टी का सामना करना पडता है। ठेकेदार अपनी मनमानी तरिके से सडक निर्माण तो करा रही है लेकिन जो छोटी वाहनों के लिए सडक में मुरूम वा गिट्टी डालवाकर छोटी वाहनों के लिए सुविधा मुहैया कराया जाना चाहिए था लेकिन शासकीय कर्मकचारी हो चाहे किसान की छोटी वाहन हो जैसी सी गुजरते है उन्हे अपने सही समय पर जानें से सडक अपने साथ ही काम करने को मजबूर कर देता है। ऐसी हालत में यदि किसी मरीज फस जाए तो सडक में उठे कीचड उनके लिए यमदूत साबित होते दिखाई दे रही है।अब समय कम बची है, जिसे समय रहते अगर लीला टोला से दमेहडी मार्ग फिनीक्स नहीं हुई तो आने वाले समय में छोटी वाहन जैसे मोटर साईकिल,बोलेरो,कार,इत्यादी वाहनो को सबसे ज्यादा देवरी पुल एंव बहेराटोला की जगहों पर परेशानियों की सामना करना पड़ेगा। जो इस पर सडक में मुरूम के नाम पर काली मिट्टी डलवाया गया है। जिससे अधिकारी कर्मचारी से लेकर क्षेत्र के ग्रामीण जनों को भी आने जाने वालो को भी इस मार्म से गुजरना दुर्लभ हो जाएगी और ऐसे ही अपने जेब की लागत लगाकर जेसीबी के सहारे से अपनों वाहनों को रस्सी से खीचते नजर आएगें  एवं देवरी पुल के पास जीता जागता उदाहरण है, जो वर्षात के पानी में दो से तीन फिट गहिरे कीचण है,वह स्वयं जाकर देखा जा सकता है।जो थोडी सी भूल हुई तो वाहन में बैठे सवारियों की क्या दशा हो सकती है। जिसकी जिम्मेदार कौन होगी यह तो भगवान ही जाने।

No comments