Breaking News

डॉ.अंबेडकर के जन्मदिन को चेतना दिवस के रूप में अर्जक संघ ने किया याद

डॉ.अंबेडकर के जन्मदिन को चेतना दिवस के रूप में अर्जक संघ ने किया याद 

मोमबत्तियां जलाकर किया खुशी का इजहार 

बाराचट्टी (गया )।संविधान निर्माता बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर की 129 वी जन्मदिवस पर अर्जक संघ समेत अन्य मानववादी संगठनों ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर देशव्यापी लाँकडॉन की स्थिति में कार्यकर्ताओं ने अपने -अपने घरों में श्रद्धापूर्वक याद किया तथा उनके चित्र पर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए पुष्प अर्पित किए। वहीं कार्यकर्ताओं ने देर शाम 7:30 बजे अपने-अपने घरों में मोमबत्तियां जलाकर खुशी का इजहार किया ।इस अवसर पर अर्जक संघ के प्रदेश महामंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह( अधिवक्ता) ने बताया कि डॉ भीमराव अंबेडकर ने मनुवाद के खिलाफ आजीवन संघर्ष कर समाज के कमजोर तबकों को शिक्षित बनाकर देश के सर्वोच्च पद पर बैठाने का काम किये हैं ।उन्होंने कहा कि आज उनकी प्रासंगिकता काफी बढ़ गई है और उन्हीं के मार्ग पर चलकर सामाजिक व राजनीतिक परिवर्तन लाया जा सकता है ।वहीं संघ के जिला अध्यक्ष जगदीश प्रसाद यादव ने भी अपने बैजनबीघा गांव स्थित निवास पर कैंडल जलाकर बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर के प्रति सहानुभूति जताई तथा कहा कि  देश में सांप्रदायिक शक्तियां दलितों ,पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को अपने आगोश में ले लिया है ।जिसके कारण समाज में सामाजिक विषमता के साथ साथ कुरीतियां चरम पर है। उन्होंने बाबासाहेब के मूल मंत्र शिक्षित बनो ,संगठित रहो  और संघर्ष करो को याद किया और कहा कि वे तमाम मुसीबतों को झेल कर गरीबों को अपनी हिस्सेदारी दिलाई। वहीं संघ के जिला मंत्री विनोद विरोधी ने भी इस अवसर पर भारतीय संविधान की प्रस्तावना का संकल्प लिया और अपने परिजनों के साथ शाम 7:30 बजे मोमबत्तियां जलाकर बाबा साहब के जन्मदिन को चेतना दिवस के रूप में मनाया।

No comments