Breaking News

लोक डॉउन की वजह से दैनिक मजदूर काम ना मिलने और भूखे रहने से विवश होकर पटना से पैदल गया पहुंचे

159 बटालियन सीआरपीएफ गया मुख्यालय की मदद से भुखे यात्रियों को कराया भोजन


लोक डॉउन की वजह से दैनिक मजदूर  काम ना मिलने और भूखे  रहने से विवश होकर पटना से पैदल गया पहुंचे 



 गया। लॉक डॉउन की वजह से पटना में दैनिक मजदूर कंट्रक्शन के क्षेत्र में काम करने वाले दैनिक मजदूर लॉक डॉउन की वजह से काम नहीं मिलने व नगद  पैसे नहीं रहने की वजह से जीवन यापन नहीं हो रहे तो लाचार विवश होकर पटना से घर जा रहे है पैदल । वही बिहार के अलावा पड़ोसी राज्य झारखंड के पलामू और गढ़वा जिला के मजदूर भी शामिल कुल दैनिक मजदूरों की संख्या 22 है, जिसमें 9 मजदूरों पटना से पलामू गढ़वा की दूरी लगभग 500 किलोमीटर पैदल जा रहे है दैनिक मजदूर
पटना से शुक्रवार  कि सुबह 3 बजे करीब दैनिक मजदूर पैदल मार्ग से लगभग 500 किलोमीटर बिहार और झारखंड जाने को विवश है।  9 अन्य दैनिक मजदूर पड़ोसी राज्य झारखंड के गढ़वा और पलामू जिला के भी शामिल है ।  पटना से गढ़वा और पलामू जाने के क्रम में गया  पहुंचते ही  जिला प्रशासन को जानकारी प्राप्त हुई , जिला प्रशासन की तरफ से 9 दैनिक मजदूरों को अंबेडकर छात्रावास में रहने खाने की समुचित व्यवस्था की गई है।
वहीं पैदल जा रहा है पटना से डुमरिया यात्रियों को मीडिया बंधुओं की पहल पर 159  बटालियन सीआरपीएफ गया मुख्यालय की तरफ से भोजन का पैकेट प्रबंध कराया गया। दैनिक मजदूरों ने सीआरपीएफ के लोगों को शुक्रिया अदा किया।
 इस संदर्भ में दैनिक मजदूरों ने बताया कि लॉक डॉउन की वजह से काम बंद होने से हम लोग काम नहीं मिल रहा है और नगद पैसा नहीं रहने के कारण हम लोग भूखे मर रहे थे तो पटना से शुक्रवार की सुबह 3 बजे घर जा रहे हैं वहीं शनिवार को संध्या 5 बजे गया पहुंचे हैं , गया से डुमरिया जाना है डुमरिया 100 किलोमीटर दूर है। 
पैदल जा रहे हैं।

No comments