Breaking News

डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी द्वारा आदिवासी संगठनों को नकारात्मक व अराष्ट्रवादी बताए जाने का किया विरोध

डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी द्वारा आदिवासी संगठनों को नकारात्मक व अराष्ट्रवादी बताए जाने का किया विरोध  

राजेन्द्रग्राम - जय युवा आदिवासी  संगठन एवं समाज जनों ने बुधवार को मध्य प्रदेश से भाजपा के राज्यसभा उम्मीदवार डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी द्वारा अपने बायोडाटा में आदिवासी समाज एवं आदिवासी संघठनो को अराजकतावादी,  अरास्ट्रावादी, एवं आदिवासी संघठनो को तोड़ने का काम किया है। अपने बायोडाटा में आदिवासी सामाजिक संगठनों को नकारात्मक और अराष्ट्रवादी बताए जाने के विरोध में प्रदर्शन कर उनकी उम्मीदवारी निरस्त किया जाने एवं कानूनी कार्यवाही की मांग किया गया है।
आदिवासी संगठनों ने तहसील प्रांगड़ पुष्पराजगढ़ में एस डी एम विजय कुमार डेहरिया को महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपकर उनकी राज्य सभा सांसद प्रत्याशी का पर्चा निरस्त किये जाने की मांग किया गया है।
*अपने राजनीतिक आकाओं को खुश करने के लिये दिया इस प्रकार बायोडाटा*
देश में फासीवाद विचारधारा एवं आदिवासियों को गुलाम रखने की सोच वाले संगठन को खुश करने और अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा पूर्ण करने के उद्देश्य से भाजपा से राज्यसभा उम्मीदवार सुमेर सिंह सोलंकी ने उनके बायोडाटा में जयस, आदिवासी मुक्ति संगठन, आदिवासी भीम सेना, आदिवासी छात्र संगठन, मध्य प्रदेश, जाग्रत आदिवासी दलित संगठन जैसे आदिवासी संगठन और नर्मदा बचाओ आंदोलन को नकारात्मक, अराष्ट्रवादी तथा आदिवासियों को भ्रमित करने वाला बताया है। साथ ही लिखा है की उन्हें इन संगठनों को रोकने व कमजोर करने में सफलता मिली है। बायोडाटा में उल्लेखित ये बातें है, और आदिवासी समाज के खिलाफ होकर आपत्तिजनक हैं। हमारे संगठनों का कोई भी कृत्य असंवैधानिक नहीं है। 
अपने आप को राष्ट्रवादी संगठन मानने वाले लोग आदिवासियों को  विकास की मुख्यधारा में लाना नही चाहते। देश के विभिन्न आदिवासी क्षेत्रों में आदिवासियों की शिक्षा, रोजगार, अधिकारों की जानकारी और संस्कृति को संजोए रखने के लिए अलग-अलग आदिवासी समाज के संगठन जन जागृति फैलाने का काम कर रहे हैं। इन संगठनों को भाजपा के राज्यसभा उम्मीदवार डॉ. सोलंकी ने नकारात्मक और अराष्ट्रवादी बताया है। इसके चलते सभी संगठन इसका विरोध जता रहे हैं।एवं इनपर कानूनी कार्यवही करने की मांग किया गया है।

No comments