Breaking News

नगर पंचायत शेरघाटी की योजनाओं की हुई समीक्षा

*नगर पंचायत शेरघाटी की योजनाओं की हुई समीक्षा
*
गया, 08मार्च 2020, जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह की अध्यक्षता में नगर पंचायत शेरघाटी के सभागार में नगर पंचायत शेरघाटी की जन कल्याणकारी योजनाओं एवं विकास कार्य पर परिचर्चा की गई। बैठक में सर्वप्रथम कार्यपालक पदाधिकारी नगर पंचायत शेरघाटी द्वारा माननीय विधायक शेरघाटी को पुष्प गुच्छ देकर उनका स्वागत किया। इसके उपरांत कार्यपालक पदाधिकारी, नगर पंचायत शेरघाटी द्वारा जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह को पुष्प गुच्छ देकर उनका हार्दिक स्वागत किया। इसके उपरांत अध्यक्ष नगर पंचायत शेरघाटी, उपाध्यक्ष नगर पंचायत शेरघाटी, अनुमंडल पदाधिकारी शेरघाटी, भूमि सुधार उप समाहर्ता शेरघाटी को कार्यपालक पदाधिकारी, नगर पंचायत शेरघाटी द्वारा पुष्प गुच्छ प्रदान कर उनका हार्दिक स्वागत किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि शेरघाटी नगर पंचायत का विकास, गया जिला अंतर्गत सभी नगर पंचायत की अपेक्षा काफी धीमी है। इसका कारण यह है कि कोई पदाधिकारी या कोई जनप्रतिनिधि अपना दायित्व का जिम्मेदारी नहीं उठा रहे हैं। यही कारण है कि आज विकास में प्रगति लाने में हो रही समस्या का निराकरण के लिए बैठक की जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरा ऐसा अनुभव है कि पटना नगर निगम में डेढ़ साल रहा हूं और काफी सारे इस तरह की समस्याओं का निवारण किया हूं। उन्होंने कहा कि वार्ड स्तर पर कई योजनाओं के क्रियान्वयन में उन्नीस-बीस का अंतर चलता है, परंतु यदि योजनाओं के क्रियान्वयन में 11-20 का अंतर हो तो वह गड़बड़ कहलाता है। वित्तीय अनियमितता कहलाता है। और यह एक जांच का विषय बन जाता है। उन्होंने उपस्थित सभी जनप्रतिनिधि एवं नगर पंचायत बोधगया के पदाधिकारी को आपस में समन्वय स्थापित कर योजनाओं में प्रगति लाने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि नगर पंचायत का बोर्ड बैठक अध्यक्ष की अध्यक्षता में प्रत्येक माह होनी चाहिए, जो पिछले डेढ़ सालों से एक बार भी नहीं किया गया है। बैठक में आवास योजना के संबंध में बताया गया कि शहरी क्षेत्र में 538 लाभार्थियों के आवेदन स्वीकृत हुए हैं जिनमें से 316 में कार्य आदेश जारी किया जा चुका है एवं 103 लाभार्थियों को प्रथम किस्त की राशि भुगतान की जा चुकी है। 
बैठक में कार्यपालक पदाधिकारी नगर पंचायत शेरघाटी ने बताया कि नगर पंचायत शेरघाटी कार्यालय में 15 जनवरी 2020 को उच्च वर्गीय लिपिक का पदस्थापन हुआ है। विगत 2 सालों से यहां कोई लिपिक का पदस्थापन नहीं था। जिलाधिकारी ने नव पदस्थापित उच्च वर्गीय लिपिक को सभी संचिका उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि 1 सप्ताह के अंदर सभी संचिका उपलब्ध हो जानी चाहिए। बैठक में बताया गया कि रिटायर कर्मी द्वारा संचिका अब तक वर्तमान उच्च वर्गीय लिपिक को हस्तांतरित नहीं किया गया है। जिलाधिकारी ने 1 सप्ताह का समय देते हुए कहा कि अगर फाइल उपलब्ध नहीं होता है तो रिटायर कर्मी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराएं। बैठक में कई जनप्रतिनिधियों द्वारा बताया गया कि नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी अतिरिक्त प्रभार में रहने के कारण वे शेरघाटी कार्यालय में नहीं रहते हैं। जिलाधिकारी ने उपस्थित जनप्रतिनिधियों को कहा कि कि कार्यपालक पदाधिकारी बोधगया में भी प्रतिनियुक्त रहते हैं और बोधगया में अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम एवं विभिन्न देशों के गणमान्य व्यक्तियों का आगमन को लेकर वाह बोधगया में ही व्यस्त रहते थे, लेकिन अब पर्यटकों का सीजन खत्म हो गया है। यह प्रत्येक शुक्रवार और शनिवार को पूर्ण रूप से शेरघाटी कार्यालय में उपस्थित रहेंगे। जिलाधिकारी ने सभी वार्ड पार्षद को छोटी-छोटी मतभेद को दूर रखने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि सभी वार्ड पार्षद कार्यपालक पदाधिकारी नगर पंचायत को सहयोग करें ताकि विकास अधिक से अधिक हो सके। जिलाधिकारी ने नगर पंचायत शेरघाटी के कार्यपालक पदाधिकारी को नगर पंचायत शेरघाटी अंतर्गत पार्क बनाने की योजना का प्रस्ताव जिलाधिकारी को जल्द से जल्द भेजने का निर्देश दिया ताकि पार्क बनाने के लिए विभाग को पत्र भेजा जा सके। नगर पंचायत शेरघाटी द्वारा शहरी क्षेत्र में 1500 लाइट लगवाए गए हैं। जिस एजेंसी द्वारा लाइट लगाया गया है उस एजेंसी द्वारा दो आदमी को शेरघाटी शहरी क्षेत्र में प्रतिनियुक्त किया गया है ताकि कोई लाइट खराब हो, तो उसे बदल सके। शौचालय निर्माण में बताया गया कि 425 लाभार्थियों को शौचालय की राशि लंबित है जिसमें 221 लाभार्थियों का जिओ टैगिंग नहीं हुआ है। जिलाधिकारी ने 15 दिनों के अंदर शेष शौचालय का जिओ टैगिंग करने एवं लाभार्थियों के लंबित प्रोत्साहन राशि को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। बैठक में जिलाधिकारी ने बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता को पुराने बिजली के खंभे को हटाने का सुझाव दिया। इसके उपरांत कई वार्ड पार्षद ने एक-एक कर अपने अपने वार्ड की समस्या से जिलाधिकारी को अवगत कराया। कई वार्ड पार्षद ने बताया कि पहले प्रत्येक माह सभी वार्ड के वार्ड पार्षदों को मोबाइल पर एस एम एस आया करता था कि किस तारीख को जन वितरण प्रणाली का खाद्यान्न का उठाव करना है। परंतु विगत 2 वर्षों से यह लंबित है। उन्होंने जिलाधिकारी से अनुरोध किया कि इसे अपने स्तर से जांच कराकर मोबाइल पर मैसेज चालू कराएं। जिलाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी शेरघाटी एवं एडीएसओ शेरघाटी को निर्देश दिए कि सभी डीलरों की सूची एवं मोबाइल नंबर नगर पंचायत शेरघाटी को उपलब्ध कराएं और कार्यपालक पदाधिकारी, नगर पंचायत शेरघाटी अपने अस्तर से सभी वार्ड पार्षद को खाद्यान्न आपूर्ति उठाव की सूचना प्रदान करें। जिलाधिकारी ने बताया कि हर वार्ड में प्रत्येक माह की 11 से 14 तारीख या 25 से 28 तारीख के बीच राशन का उठाव किया जाता है। जिलाधिकारी ने एसडीओ शेरघाटी को निर्देश दिया कि शेरघाटी नगर पंचायत क्षेत्र के कई लाभार्थियों का राशन कार्ड रद्द कर दिया है। उन सभी लाभार्थियों को फिर से राशन कार्ड के लिए आवेदन कराएं एवं 30 दिनों के अंदर नया राशन कार्ड बनवाएं।
बैठक को संबोधित करते हुए शेरघाटी के माननीय विधायक ने बताया कि माननीय मुख्यमंत्री जी का निर्देश है कि जून 2020 तक सभी घरों में पेयजल पहुंचाया जाएगा। परंतु शेरघाटी नगर पंचायत में नल जल योजना के तहत विगत 10 वर्षों से वाटर टावर बन कर तैयार है परंतु अब तक घर-घर कनेक्शन नहीं पहुंचाया गया है। नगर पंचायत के शहरी क्षेत्रों के कई वार्डों में नली गली का कार्य भी अब तक प्रारंभ नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि रेफरल अस्पताल शेरघाटी से नूतन नगर के जोड़ने वाली सड़क काफी जर्जर है। उस सड़क में काफी जलजमाव रहता है। लोग उस नाली के पानी में होकर गुजर रहे हैं। काली मंदिर से रुक्मिणी मंदिर के बीच की सड़क भी काफी खराब है और यह सड़क से जुलूस एवं झांकियां भी निकलती है। यह सड़क शेरघाटी क्षेत्र के प्रमुख सड़क हैं। 
जिलाधिकारी ने सड़क के जर्जर समस्या को गंभीरता से लेते हुए उपस्थित सभी वार्ड पार्षद, नगर पंचायत के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के सहमति से शेरघाटी नगर पंचायत के राज्य योजना की प्रमुख चार सड़कों को आरसीडी को बनाने का निर्देश दिया साथ ही उन्होंने 7 दिनों के अंदर रिफांइड स्टीमेट बनाकर उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। उन्होंने 15 से 30 दिनों में उन चारों सड़कों का प्रशासनिक स्वीकृति नगर पंचायत शेरघाटी को देने का निर्देश दिया। माननीय विधायक ने नगर पंचायत शेरघाटी में रोकड़ पाल, इंजीनियर एवं सिटी मैनेजर अविलंब उपलब्ध कराने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि आज तक सिटी मैनेजर का शेरघाटी में पदस्थापन नहीं हुआ है। जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र के संबंध में जिलाधिकारी ने कार्यपालक पदाधिकारी शेरघाटी को जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र को अधतन रखने का निर्देश दिया। इसके उपरांत सरकार के कल्याणकारी योजनाओं के वार्ड स्तर पर एक-एक कर सभी वार्ड पार्षद ने अपनी समस्या को जिलाधिकारी से अवगत कराया। 
बैठक में सभी वार्ड के वार्ड पार्षद, प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकारी एवं सभी विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।

No comments