Breaking News

इंट्रो:- गरीबों के अंतोदय पर माफिया हावी व सरकारी तंत्र की सिस्टम फेल

इंट्रो:- गरीबों के अंतोदय पर माफिया हावी  व सरकारी तंत्र की सिस्टम फेल
  । 

गया जिला के विभिन्न प्रखंडों में सरकारी अंतोदय पीडीएस  दुकानदार रों की हाल बेहाल हो गई है राज्य सरकार व भारत सरकार के तरफ से गरीब परिवारो  को लाभ देने के लियें ।  2रुपये प्रति किलों 3 रुपए किलो अनाज देने के लिए सरकार कई कदम उठाए रही  हैं सरकार का यह प्रयास है कि हर महीने लाभुकों को अंतोदय अनाज और मिट्टी के तेल दिया जाये । उसके लेकर बिहार सरकार के द्वारा वर्तमान समय में पोक्स  मशीन का वितरण सभी पीडीएस दुकानदारों को मुहैया कराया गया ।  जिसके बाद शक्ति के साथ हर महीने वितरण करने के लिए डीलर को कई चेतावनी भी दिए गए । लेकिन वर्तमान समय में जो हालात देखी जा रही है वह सिस्टम सिर्फ कागजों में दिख रही है ।उदाहरण जैसे :-  बोधगया प्रखंड के मोरा मर्दाना पंचायत के ईगुना डीलर प्रेमचंद भुइयां  के द्वारा गरीबी लाभुकों को घर पर गाजर का पॉक्स मशीन में अंगूठा लगवा कर पीडीएस उठाओ सरकार को दिखा दे रहा है ।  जबकि इन महादलित लाभुकों को अंतोदय 4 महीने 5 महीने पर एक बार दी जा रही है । इसकी शिकायत लाभुकों द्वारा प्रखंड पदाधिकारी बोधगया, जिला पदाधिकारी गया  ,मार्केटिंग ऑफिसर बोधगया को अनेकों बार जानकारी देने की बातें कर रहे हैं लेकिन करवाई शून्य  रही हैं गांव के लोगों का यह भी कहना है कि शिकायत करने पर भी pds दुकानदार द्वारा धमकाया भी जाता है। जिसके डर से लोग आवाज गरीब परिवार नहीं उठाते हैं । इस मामले की जानकारी लेने के लिये  जब पहुंचे तो पीडीएस दुकानदार के खिलाफ पूरे गांव के लाभुकों के द्वारा एक समूह बनाकर लोगों ने विरोध किया । 

  पीडीएस दुकानदार ने बताया,  प्रेमचंद भुइयां ने भी खुद को मंजूर किया ।  वह घरों पर जाकर अंगूठा लगवा लेते हैं  । उसके बाद अंतोदय विचरण करते हैं 

 जिसे इनकार नहीं किया जा सकता है 2 और 3 किलो अंतोदय सरकार से देने के लिए कीमत तय की गई है लेकिन  3 रुपये 4 रुपये लोगों द्वारा लिया  जा रहा है ।  ये खुले आम तौर से डीलर कम देते हैं जबकि 4 महीने  पर वितरण करने के बावजूद कदम उनके द्वारा दिया जाता है । 

इस पूरी घटना को एक पत्रकार होने के नाते पुष्टि करने के लिए जिला के प्रखंड विकास पदाधिकारी , मार्केटिंग ऑफिसर व जिला पदाधिकारी को फोन पर बताया गया तो कोई कुछ भी अधिकारी कहने से बच रहे हैं । 

जबकि मार्केटिंग ऑफिसर का मौखिक कहना है कि मैं मोहनपुर के इंचार्ज हूं मार्केटिंग ऑफिसर के रूप में  बोधगया प्रभारी का काम कर रहा हूं ।

लेकिन प्रभारी व ट्रांसफर पोस्टिंग में भी मोटी रकम विभाग को देकर आते हैं और  देनी  भी पड़ती है जिसकी भरपाई इन pds दुकानदारो से करतें है जो कलाबाजारी का एक और यह बढ़ावा दिया जा रहा है । 

No comments