Breaking News

बौद्ध तीर्थस्थल एवं पर्यटन के बढ़ावा" पर अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में मनचाहे को मिला प्रमाण-पत्र

"बौद्ध तीर्थस्थल एवं पर्यटन के बढ़ावा" पर अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में मनचाहे को मिला प्रमाण-पत्र
      बौद्ध महोत्सव के अवसर पर एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार "प्रमोशन ऑफ बुद्धिस्ट पिलग्रिम्स एंड टूरिज्म" पर महाबोधि महाविहार के मेडिटेशन पार्क में हुआ।इसके 3 सत्र में 14 विद्वानों ने अपने पत्र एवं व्याख्यान प्रस्तुत किए। उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि मगध प्रमंडल के आयुक्त, मगध विश्वविद्यालय के कुलपति, नालंदा विश्वविद्यालय के कुलपति एवं विवेकानंद विश्वविद्यालय के कुलपति ने संबोधित किया। कमिश्नर साहब ने अपने विचार व्यक्त करते हुए बोधगया को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विकसित करने की बात कही ताकि देश-विदेश के पर्यटकों एवं तीर्थ यात्रियों को और अधिक संख्या में आकर्षित कर सकें। इस सेमिनार में भूटान,म्यनमार, इटली एवं बांग्लादेश के विद्वानों के अलावे कलकत्ता विश्वविद्यालय के साथ साथ कई विश्वविद्यालयों के वक्ताओं ने अपने पत्र पढ़ें एवं भारतीय लोगों में बढ़ती रूचि पर प्रकाश डाला। इस सेमिनार में बौद्ध स्थलों के पुरातात्विक महत्त्व के साथ उनके धार्मिक व आर्थिक पक्ष पर भी प्रकाश डाला। ऋषिकेश, पूर्व महानिदेशक सेंट्रल एक्साइज एवं कस्टम एयरपोर्ट डायरेक्टर श्री दिलीप कुमार ने हवाई, रेल एवं रोड सुविधाओं के विकास पर विशेष बल दिया। समापन सत्र के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह ने सरकारी योजनाओं की कार्यान्वयन पर बोधगया अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और सुंदर दिखने की बात कही। इस अवसर पर सेमिनार में सम्मिलित होने वाले 150 लोगों को प्रमाण पत्र वितरित किया गया। इसमे कुछ ऐसे लोग भी थे, जिन्हें शोध कार्य से जुड़ाव नहीं रहा हैं। सबसे खास बात यह है कि रजिस्ट्रेशन के वक्त अनेक शोधकर्ताओं को लौटा दिया गया था।

No comments