Breaking News

फरोग ए उर्दू सेमिनार एवं मुशायरा का किया गया आयोजन

*फरोग ए उर्दू सेमिनार एवं मुशायरा का किया गया आयोजन
*
गया, 01 फरवरी, 2020, उर्दू निदेशालय मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग, बिहार सरकार एवं जिला प्रशासन, गया के संयुक्त तत्वाधान में आज दिनांक 1 फरवरी 2020 को जिला परिषद सभागार, गया में *फरोग उर्दू सेमिनार एवं मुशायरा* कार्यक्रम का आयोजन किया गया। आयोजन का विधिवत उद्घाटन दीप प्रज्वलन कर जिला पदाधिकारी, गया श्री अभिषेक सिंह द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम में स्कूल के छात्र-छात्राओं द्वारा भाग लिया गया, जिसमें सेंटेंस स्कूल, गया की *उरूज फातमा*, ए०पी०जे० अब्दुल कलाम पब्लिक स्कूल, गया के गुलाम गौस, एलिगेंट पब्लिक स्कूल, गया के कतीफा एरम, मारवाड़ी उच्च विद्यालय, गया के सुरखाब आलम एवं हादी हाशमी +2 विद्यालय, गया की ज़ेबा परवीन ने इस सेमिनार में हिस्सा लिया। इन 5 छात्र-छात्राओं को एक शीर्षक *सफाई की अहमियत* पर अपने खुले विचार को सभी के सामने रखना था। आलेख पाठ प्रोफेसर अब्दुस्सलाम, जनाब नदीम जाफरी एवं डॉक्टर आफताब आलम अतहर ने किया। प्रतिनिधिगण में डॉक्टर एहसान ताबिश, अहमद सगीर एवं प्रोफेसर जावेद हसन थे। जिला पदाधिकारी, गया श्री अभिषेक सिंह ने कहा कि फरोग ए उर्दू सेमिनार का आयोजन प्रत्येक वर्ष किया जाता है। यह बिहार सरकार की एक अच्छी पहल है। जिलाधिकारी ने सेमिनार में उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत किया और कहा कि मुझे काफी खुशी है कि इस सेमिनार के लिए हमारे जिले के लोग काफी बड़ी संख्या में यहां मौजूद हैं। मेरा उर्दू भाषा से व्यक्तिगत तालुकात रहा है। स्कूल के दिनों में मैंने इस जबान की पढ़ाई भी की है। इस भाषा में जो नजाकत है, जो एहसास को बयां करने की ताकत है वह शायद किसी और भाषा में नहीं है। इस भाषा के लफ्ज़ों की ही ताकत है कि इस भाषा का प्रयोग सभी लोगों ने किया है, चाहे वह प्रेमचंद हों या अन्य हिंदी साहित्यकार। हर तबके के लोग इस भाषा का प्रयोग करते हैं। लेकिन आज इस भाषा को लेकर एक चुनौती हमारे बीच है कि हमारी नई पीढ़ी को इस भाषा के साथ कैसे जोड़े रखना है। जिस तरह हम अंग्रेजी को आसानी से अपना रहे हैं, उसी प्रकार उर्दू को भी अपनाने की आवश्यकता है। इसके साथ जिलाधिकारी ने भाग लेने वाले सभी छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं एवं उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। 
कार्यक्रम का संचालन स्वयं अध्यक्ष शाहिद साहब ने किया, स्वागत भाषण मोहम्मद सलीम अंसारी, प्रभारी पदाधिकारी जिला उर्दू भाषा, गया ने दिया, मुख्य अतिथि डॉक्टर महबूब आलम कुरेशी एवं विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर नसीम खान थे।

No comments