Breaking News

आज बोधगया में तीन दिवसीय चलने वाली बौद्ध महोत्सव का आगाज

*आज बोधगया में तीन दिवसीय चलने वाली बौद्ध महोत्सव का आगाज
*
 बिहार के माननीय मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार जी  उपमुख्यमंत्री माननीयश्री सुशील कुमार मोदी माननीय पर्यटन मंत्री श्री कृष्ण कुमार श्रषि एवं विदेश से आए हुए बौद्ध भिक्षु संयुक्त रूप से कर कमलों द्वारा दीप प्रज्वलित कर बौद्ध महोत्सव का उद्घाटन किया और विशेष चर्चा बौद्ध महोत्सवः माननीय मुख्यमंत्री ने अन्तर्राष्ट्रीय ज्ञान भूमि बोधगया में प्रतिवर्ष आनेवाले देशी एवं विदेशी पर्यटकों की संख्या, महाबोधि मंदिर की करेंट लैंड यूज, होटल्स की संख्या, इनटेसिटी ऑफ टूरिस्ट एक्टिविटी, प्रपोज्ड इंटरवेंशन्स जोन, एरिया एलोकेशन, प्रेजेंट मूवमेंट ऑफ टूरिस्ट, महाबोधि पथ, धम्म चक्र चौक, एप्रोचड टू महाबोधि कॉम्प्लेक्स, इनटर नेशनल वेलनेस एंड योगा, रिडेवेलपमेंट ऑफ माया सरोवर पार्क, मल्टीमीडिया पार्किंग, द इनटरनेशनल सेंटर ऑफ बुद्धिज्म लर्निंग, मेडिटेशन गार्डन, मुचलिन्द सरोवर वाटर ट्रीटमेंट, बी0टी0एम0सी0 का प्रपोज्ड मास्टर प्लान आदि विषय के संबंध में मुख्यमंत्री को विस्तृत जानकारी दी गयी।
समीक्षा बैठक के क्रम में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि कल्चरल सेंटर का 100 बेड वाला रेस्ट हाउस को इस तरह से बनाईये कि उसका स्टैंडर्ड फाइव स्टार होटल की तरह हो और निर्माण कार्य पूरा होने के बाद फाइव स्टार होटल वाले लेकर उसे चला सकें। इसके लिए अगस्त-सितंबर में ही कैबिनेट से एप्रुवल हो चुका है। सुझाव के तौर पर उन्होंने कहा कि महाबोधि मंदिर और जय प्रकाश उद्यान को ऊपर से लिंक करते हुए आवागमन का रास्ता इस प्रकार से बनाएं कि नीचे से जो पाथ-वे चल रहा है उसमें किसी प्रकार का व्यवधान न हो। इसके लिए जेपी उद्यान में मंदिर में आवागमन के लिए एस्केलेटर लगाना होगा। उन्होंने कहा कि यहां पूजा और प्रेयर करने बड़ी संख्या में लोग आते हैं उनके लिए यहां पर्याप्त जगह होनी चाहिए। पटना के बुद्ध स्मृति पार्क में विपश्यना केंद्र बना हुआ है और आपलोग यहां योग सेंटर बनाना चाह रहे हैं, वह तो ठीक है, लेकिन विपश्यना भी भगवान बुद्ध से जुड़ा हुआ है उसका भी ध्यान रखिए। 
जेपी उद्यान का निरीक्षण करने के क्रम में मुख्यमंत्री ने जेपी उद्यान को विकसित करने के साथ-साथ सौंदर्यीकरण का निर्देश दिया। इसकी चाहारदीवारी को औऱ अच्छा बनाईये। जेपी उद्यान से मोचारिक गांव पहुंचकर मुख्यमंत्री ने मुचलिन्द सरोवर के विकास कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि सरोवर में मिट्टी का स्टेप बनवाईये और इसमें बाउंड्री वॉल की कोई आवश्यकता नहीं है। वर्ष 2010 में भी यहां आकर हम देखे थे। भूमि अधिग्रहण का काम यहां पिछले साल दिसंबर माह में ही पूरा हो गया है। सरोवर के चारो ओर मोरम का रास्ता बनाकर अधिक से अधिक पेड़ लगवाईये। यह सरोवर कोई सामान्य सरोवर नहीं है बल्कि ज्ञान प्राप्ति के बाद भगवान बुद्ध यहां आकर ठहरे थे। यहां आने के लिए नदी के कारण काफी घुमावदार रास्ता है इसलिए महाबोधि मंदिर से इसकी दूरी कम करने के लिए यहां आने का सीधा रास्ता होना चाहिए। मुचलिन्द सरोवर की गहराई बढ़ाकर यहां सोलर प्लांट लगाने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। सरोवर में नीचे से पानी का जल स्त्रोत निकल सके उसका भी प्रबंध कीजिए ताकि इसका पानी स्वच्छ रहे।
मुचलिन्द सरोवर के बाद माया सरोवर का मुख्यमंत्री ने जायजा लिया। उन्होंने कहा कि माया सरोवर को इंप्रुवमेंट करके इसे और अधिक गहरा करने की जरुरत है ताकि पानी इसमें मेंटेन रह सके। साथ ही सरोवर परिसर में पर्याप्त लाइटिंग की व्यवस्था कर यहां सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रारंभ कराए जिसमें पांच से सात हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था हो। कन्वेंशन सेंटर एवं सुजाता होटल को माया सरोवर से कनेक्ट करने का मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया। स्टेट गेस्ट हाउस और कन्वेंशन सेंटर का मुख्यमंत्री ने अवलोकन कर अधिकारियों से उनके विकास कार्यों का जायजा लिया।
इसके पूर्व बोधगया एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री को जिला प्रशासन द्वारा गॉड ऑफ ऑनर दिया गया। स्थानीय नेताओं एवं जनप्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री को पुष्पगुच्छ भेंटकर उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट से महाबोधि मंदिर पहुंचकर भगवान बुद्ध का दर्शन एवं पूजा-अर्चना के बाद मुख्यमंत्री ने बोधिवृक्ष पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। दर्शन के बाद महाबोधि मंदिर का परिक्रमा एवं भ्रमण के क्रम में मेडिटेशन पार्क, ढाई सौ बेड का बनने वाला पुलिस बैरक, वॉच टॉवर, मुचलिंद सरोवर आदि के विकास कार्यों का मुख्यमंत्री ने जायजा लिया। मंदिर भ्रमण के क्रम में पुलिस पदाधिकारियों को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वॉच टॉवर से मंदिर परिसर की निरंतर निगरानी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस बैरक का निर्माण करने की दिशा में जल्द से जल्द कार्रवाई शुरू होनी चाहिए।
इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, शिक्षा मंत्री एवं गया जिले के प्रभारी मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, पर्यटन मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, सांसद विजय मांझी, टिकारी के विधायक अभय कुशवाहा, शेरघाटी के विधायक विनोद कुमार यादव, विधान पार्षद मनोरमा देवी, मुख्यमंत्री के परामर्शी अंजनी कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, मगध प्रमण्डल के आयुक्त असंगबा चुबा आओ, मगध प्रक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक राकेश राठी, गया के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह, वरीय पुलिस अधीक्षक राजीव मिश्रा सहित अन्य गणमान्य लोग, वरीय अधिकारीगण, महाबोधि मंदिर प्रबंधन कमिटी से जुड़े अधिकारीगण मौजूद थे।

No comments