Breaking News

अस्पताल प्रबंधक मनोज कुमार का रुका वेतन

*गया के टिकारी अनुमंडलीय अस्पताल के उपाधीक्षक का रुका वेतन*
*अस्पताल प्रबंधक मनोज कुमार का रुका वेतन
*
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
बिहार

बिहार के जिला गया में अनुमण्डल टेकारी को आयुक्त, मगध प्रमंडल, गया श्री पंकज कुमार पाल द्वारा 17 जुलाई, 2019 को अनुमंडल अस्पताल, टिकारी का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान अस्पताल के प्रवेश द्वार पर रखा हुआ गंदा स्ट्रेचर पाया गया जिसपर मखियाँ लगी हुई थी और उससे दुर्गंध भी आ रहा था। आयुक्त महोदय ने इस पर नाराजगी व्यक्त की। साफ सफाई के संबंध में पूछने पर बताया गया कि 6 सफाई कर्मी आउटसोर्सिंग एजेंसी के द्वारा लगाए गए हैं। लेकिन निरीक्षण के दौरान एक भी सफाई कर्मी उपस्थित नहीं पाया गया। अस्पताल में बनाया गया ए०ई० एस०/जे०ई० वार्ड महज खानापूर्ति पाया गया। वहां नर्स/कर्मी, ऑक्सीजन सिलेंडर, म्युकस सकर मशीन, इमरजेंसी दवा नहीं पाया गया, न ही ए०ई० एस०/जे०ई० से संबंधित बैनर/ पोस्टर पाया गया। वार्ड के बगल में शौचालय भी गंदा पाया गया।
ए०ई०स०/जे०ई० के मरीज के संबंध में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि अभी तक कोई मरीज अस्पताल में नहीं आया। लेकिन आयुक्त महोदय को कौशल राम, गुलजारबाग निवासी के पुत्र संजीव कुमार की मौत की सूचना मिली थी। बच्चे की मौत 2 दिन पहले हुई थी।
पूछने पर पता चला कि उपाधीक्षक द्वारा उस ग्राम में न तो भ्रमण किया गया, न ही की केरोसीन और गेमेक्सिन का छिड़काव करवाया गया। न ही सूर्यास्त के उपरांत टेक्निकल मामाथियन का फॉगिंग कराया गया। फागिंग मशीन अकार्यरत पाया गया। निरीक्षण में पाया गया कि उपाधीक्षक द्वारा ए०ई०एस०/जे०ई० के रोकथाम और बचाव के लिए प्राप्त निर्देश का अनुपालन नहीं किया गया। 
टिकारी थाना के टेपा ग्राम निवासी राहुल राज, पिता - स्वर्गीय रामशीष शर्मा ने बताया कि पैन कार्ड में नाम सुधार कराने हेतु फार्म पर डॉक्टर सरोज कुमार सिंह, उपाधीक्षक अनुमंडल अस्पताल, टिकारी द्वारा अभिप्रमाणित करने के एवज में ₹200 लिया गया। इस संबंध में राहुल राज ने शपथ पत्र भी दिया है। इसके लिए प्राथमिकी दर्ज कराने की कार्रवाई की जा रही है।
आशा कार्यकर्ताओं के लंबित प्रोत्साहन राशि के भुगतान के संबंध में उपाधीक्षक द्वारा बताया गया कि टिकारी में कोई मामला लंबित नहीं है। परंतु निरीक्षण के दौरान उपस्थित आशा कार्यकर्ता आशा कुमारी ने बताया कि उनका वर्ष 2016, 2017 एवं 2018 का प्रोत्साहन राशि का भुगतान अब तक नहीं हुआ है। 
अस्पताल के रख-रखाव में कमी को लेकर अस्पताल प्रबंधक मनोज कुमार का वेतन स्थगित कर दिया गया। साथ ही उन्हें अन्यत्र स्थानांतरित करने के निर्देश दिया गया। निरीक्षण के दौरान जेनेरिक दवा भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं पाया गया। महिला लेबर रूम में ऑटो क्लेव लगा नहीं पाया गया। इन सब कमियों को देखते हुए यह पाया गया कि उपाधीक्षक, अनुमंडल अस्पताल, टिकारी अपने कर्तव्य के प्रति जवाबदेह नहीं है। वे अधिकतर समय अपने प्राइवेट क्लीनिक में रहते हैं। इसके लिए उपाधीक्षक अनुमंडल अस्पताल, टिकारी का वेतन बंद करते हुए उनसे स्पष्टीकरण की पृच्छा की गई। उनके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की तैयारी की जा रही है।

No comments