Breaking News

कोसी के जलस्तर में वृद्धि की सूचना से कई इलाके में दहशत का माहौल

कोसी के जलस्तर में वृद्धि की सूचना से कई इलाके में दहशत का माहौल

हर खबर आप तक

भारत न्यूज़ लाइव 24

रिपोर्टर आमिर आजाद

कोसी के जलस्तर में लगातार हो रही बढ़ोतरी से मधेपुरा जिला के आलमनगर प्रखंड के दक्षिणी क्षेत्र के आठ पंचायतों के लोगों में दहशत व्याप्त हो गया है. 
 बाढ़ के कारण कई गांव का सड़क संपर्क प्रखंड मुख्यालय से भंग हो गया है. प्रशासन द्वारा आवागमन हेतु 8 नावें चलाई जा रही है । सोशल मीडिया सहित अन्य जगहों से मिल रहे बैराज के फाटक खोल देने के समाचार से अफरा-तफरी का माहौल व्याप्त हो गया है क्योंकि जिले का यह इलाका से ही कोसी नदी का पानी निकलते हुए गंगा में जाकर मिलती है एवं अपने साथ तबाही लाते हुए इस क्षेत्र को तहस-नहस कर देती है. स्थानीय  लोग ऊँचे जगहों का तलाश कर रहे हैं. 

हालांकि बाढ़ को देखते हुए प्रशासन द्वारा बाढ़ से निपटने के लिए व्यापक रूप से तैयारी की जा रही है.
 ज्ञात हो कि  प्रत्येक वर्ष बाढ़ की विभीषिका के कारण यह इलाका प्रभावित रहता है एवं लोगों के समक्ष भारी संकट उत्पन्न हो जाती है एवं बाढ़ के कारण  दर्जनों आदमी असमय मौत के मुंह में चले जाते हैं. साथ ही सैकड़ों पशु इस बाढ की चपेट में आकर असमय काल के गाल में समा जाते हैं. रतवारा पंचायत के मुरोत, छतोना वासा सहित अन्य गाँव एवं टोले का सड़क संपर्क भंग हो गया है ।
अनुमंडल भूमि अपर समाहर्ता  ललित कुमार सिंह ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का जायजा लेने प्रखंड क्षेत्र के गंगापुर पंचायत क्षेत्र के भरही धार में पहुंचकर नदी में हो रहे लगातार जलस्तर में वृद्धि को लेकर स्थानीय लोगों से जानकारी ली एवं उपस्थित लोगों को यथासंभव मदद दिलाने की बात कही. वहीँ स्थानीय लोगों ने बताया के जल स्तर में वृद्धि प्रत्येक दिन 2 से डेढ़ फीट हो रहा है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि 1 से 2 दिन में यह पूरा इलाका जलमग्न हो जाएगा. कोसी बैराज से पानी छूटने के  3 दिन के बाद यहां पानी का  भयंकर रूप उत्पन्न होता है । परंतु इस सबके बावजूद अभी तक आवागमन को लेकर एक भी सरकारी नाव परिचालन नहीं किया गया है । ग्रामीणों ने धार में सरकारी नाव परिचालन करने की मांग की.


वहीँ भरही धार में नाव परिचालन कर रहे चालक ने बताया कि गत वर्ष बाढ़ के दौरान  चलाए गए नाव  का भी भुगतान अब तक नहीं किया गया है और इस बार अब तक नाव का परिचय परवाना नहीं दिया गया है. फिलहाल पंचायत के मुखिया के द्वारा मौखिक आदेश पर नाव का परिचालन किया जा रहा है जिस पर डीसीएलआर ललित कुमार सिंह ने नाव परिचालन को लेकर जल्द ही नाव का परवाना दिलाने की बात कही। अंचलाधिकारी आलमनगर मनोरंजन कुमार मधुकर ने बताया कि बाढ़ को देखते हुए सभी तैयारी पूरी कर ली गई है ऊंचे जगह को प्रशासन द्वारा चिन्हित कर लिया गया है. फिलहाल 8 नाव  आवागमन के लिए परिचालन की जा रही है हालांकि. अभी बाढ़ की वैसी स्थिति नहीं बनी है जैसा लोगों में भय व्याप्त है।

No comments