Breaking News

बिहार में जिलाधिकारी ने किया इमामगंज प्रखंड का निरीक्षण

*बिहार में जिलाधिकारी ने किया इमामगंज प्रखंड का निरीक्षण
*
गया, 24जुलाई 2019,
रिपोर्टः.
दिनेश कुमार पंडित
बिहार से 
बिहार के जिला गया में  (ईमामगंज )  जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह ने इमामगंज प्रखंड का निरीक्षण किया। बैठक में उन्होंने प्रखंड विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया कि जल शक्ति अभियान के तहत इस प्रखंड में जितने भी तालाब, कुएं, पइन हैं उनका जीर्णोद्धार किया जाना है। उन्होंने मुखिया को आश्वस्त किया कि यह कार्य मनरेगा के तहत कराया जाएगा और इसका शत-प्रतिशत भुगतान कराया जाएगा। इसके उपरांत उन्होंने इमामगंज प्रखंड में निर्माण हो रहे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की जानकारी ली। उन्होंने शौचालय निर्माण घर का सम्मान के तहत इमामगंज पंचायत में जियो टैगिंग कराकर शत-प्रतिशत पेमेंट कराने का निर्देश दिया। इसके उपरांत उन्होंने जितने भी जलाशय हैं उनका जीर्णोद्धार कार्य में तेजी लाने का निर्देश लघु सिंचाई विभाग को दिया। उन्होंने कहा कि जो मुखिया अच्छा कार्य करेंगे उन्हें दिल्ली में सम्मानित किया जाएगा। 
इसके उपरांत जिलाधिकारी ने इमामगंज प्रखंड के मुखिया, पंचायत समिति के सदस्यों के साथ बैठक की। बैठक में उन्होंने जल शक्ति अभियान के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा 23 जिलों को शामिल किया गया है जिनमें गया जिला के तीन प्रखंडो को शामिल किया गया है जिसमें इमामगंज प्रखंड भी शामिल है। उन्होंने बताया कि इमामगंज प्रखंड में बहुत तेजी से भूमिगत जल नीचे की ओर चला जा रहा है। जिसके कारण जल संकट से जूझना पड़ रहा है। उन्होंने सभी मुखिया को आहर, पाइन और तालाब खुदवाने में सहयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि यह सारे कार्य मनरेगा से किया जाएगा जिसका भुगतान शत-प्रतिशत कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि बारिश कम होने के कारण बिचड़ा भी कम तैयार हुआ है। दो-तीन साल के बाद बोरिंग सूख जाएगा कृषि आधारित जनता को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा, जल संकट के कारण भारत सरकार एवं माननीय प्रधानमंत्री द्वारा भी इसका अनुश्रवण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भूमिगत जल को बचाने के लिए आहर, पइन, तालाब, सोख़्ता का निर्माण करें। उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों से जल शक्ति अभियान में सहयोग करने की अपील की। उन्होंने कहा कि बारिश के पानी का जितना लाभ होना चाहिए उतना लाभ नहीं हो पा रहा है। बारिश के पानी का संचय करने की व्यवस्था करें। उन्होंने कहा कि तीन-चार दिन पहले एक एजेंसी ने रिपोर्ट दिया जिसमें बताया गया कि पिछले 50 साल में 16 बार गया जिला में सुखाड़ आया है। कुछ महीने पहले गया, औरंगाबाद, नवादा में अचानक तापमान बढ़ बढ़ गया और लू के कारण 50 से अधिक लोगों की मृत्यु हो गई। इसका मुख्य कारण है भूमिगत जल का जल्दी नीचे जाना। उन्होंने कहा कि गया जिला में जिस तरह से पेड़ की कटाई हो चुकी है इसके कारण जलवायु परिवर्तन हो गया है और वर्षा का रुझान नहीं हो पा रहा है। उन्होंने सात निश्चय योजना के तहत हर घर नल का जल योजना में पानी बर्बाद न हो यह ध्यान रखने का निर्देश सभी मुखिया को दिया। उन्होंने कहा कि जहां पानी का लीकेज है वहां टेप लगवा दे, जिससे पानी बर्बाद न हो। उन्होंने हर नाली के लास्ट पॉइंट पर एक सोख़्ता बनवाने का निर्देश सभी मुखिया को दिया, ताकि पानी संचय किया जा सके। जगह-जगह पर चेक डैम बनाने का सुझाव दिया इसके लिए जमीन चिन्हित करने का निर्देश संबंधित मुखिया को दिया। उन्होंने कहा कि इस प्रखंड में जितने भी जल संचय के कार्य कराए जा रहे हैं उन्हें भारत सरकार सीधे देख रहा है। जो मुखिया अच्छा कार्य करेंगे उनको सम्मानित किया जाएगा। समय-समय पर सेंट्रल टीम आकर इस प्रखंड के उन पंचायतों का जायजा ले रही है जहां वाटर क्राइसिस ज्यादा है। उन्होंने सभी मुखिया को बृहद पैमाने पर प्लांटेशन का कार्य कराने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि अपने-अपने क्षेत्र में 500 का प्लांटेशन कराएं। इसके उपरांत उन्होंने बताया कि इमामगंज प्रखंड के कई पंचायतों में शौचालय निर्माण में पीछे हैं। उन्होंने कहा कि 31 अगस्त 2019 तक सभी शौचालयों का निर्माण कराना सुनिश्चित करें।
इसके उपरांत उन्होंने प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी को निर्देश दिया कि जिन व्यक्तियों के द्वारा शौचालय निर्माण नहीं कराया जाएगा उन्हें किसी तरह का सरकारी लाभ नहीं दिया जाएगा। उन्होंने इस अभियान में इमामगंज प्रखंड को आगे आने को कहा। उन्होंने कहां की जो व्यक्ति आवास योजना का किस्त उठाकर भी घर निर्माण नहीं करा रहे हैं तो उन्हें चिन्हित कर उनका सरकारी लाभ बंद करें और उन पर कार्रवाई भी करें। उन्होंने सभी मुखिया, वार्ड सदस्य को सचेत किया कि सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के कार्य की गुणवत्ता में कमी नहीं आनी चाहिए। इसके उपरांत शौचालय निर्माण, जियो टैगिंग एवं भुगतान की समस्या को बारी-बारी से जनप्रतिनिधि ने जिलाधिकारी को अवगत कराया। उन्होंने इमामगंज प्रखंड परिसर में आम का पौधा का रोपण किया। 
इस क्रम में उन्होंने इमामगंज प्रखंड के सलैया पंचायत के ताराबारा क्षेत्र में 2.5 किलोमीटर क्षेत्र में निर्माणाधीन पइन(कैनाल) का निरीक्षण किया। यह पइन लघु सिंचाई विभाग द्वारा बनाया जा रहा है। लघु सिंचाई विभाग के इंजीनियर द्वारा बताया गया कि इस पइन का निर्माण 15 से 20 दिनों में पूरा कर लिया जाएगा। इसके उपरांत उन्होंने गुरिया पकरी पंचायत के कउअल चेक डैम का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान कई निर्देश मनरेगा के अभियंता को दिया गया।
इस अवसर पर अनुमंडल पदाधिकारी शेरघाटी,संबंधित पदाधिकारी उपस्थित थे।

No comments