Breaking News

17 जुलाई से सिंहेश्वर में श्रावणी मेला: मेले की तैयारी हेतु प्रशासनिक बैठक

17 जुलाई से सिंहेश्वर में श्रावणी मेला: मेले की तैयारी हेतु प्रशासनिक बैठक

हर खबर आप तक

भारत न्यूज़ लाइव 24

रिपोर्टर आमिर आजाद

मधेपुरा जिले के सिंहेश्वर में श्रावणी मेला 17 जुलाई से शुरू होगी। इसके सफल और सुव्यवस्थित आयोजन के लिए गुरुवार को जिलाधिकारी नवदीप शुक्ला की अध्यक्षता में समाहरणालय  सभागार में बैठक आयोजित कर अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए।

बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि श्रावणी मेले का आयोजन पूर्व की भांति बेहतर ढंग से होगी। इसमें हम लोग निरंतर सुधार की कोशिश करते हैं । इस बार भी श्रद्धालुओं के लिए हम लोग बेहतर व्यवस्था करने की तैयारी कर रहे हैं । उन्होंने बताया कि मेले में बरसात के कारण सड़क पर जलजमाव और गंदगी की समस्या को दूर करने की कोशिश की जा रही है। इसके लिए संबंधित विभागों को निर्देश दिया गया है कि वे तत्काल अस्थाई तौर पर ही सही , सुधार करें। श्रद्धालुओं के ठहरने और उनके लिए सफाई, रोशनी, पेयजल आदि की व्यवस्था के लिए भी संबंधित विभागों को निर्देश दिया गया है।

चार शिफ्टों में पुलिस का पहरा

 बैठक में निर्णय लिया गया कि मेले के दौरान बाबा भोले पर जलाभिषेक को ले  सिंघेश्वर मंदिर परिसर में रविवार और सोमवार को सर्वाधिक श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। इसके लिए अब वहां चार शिफ्टों में पुलिस की व्यवस्था की जाएगी। अन्य दिनों में यह व्यवस्था दो शिफ्टों  में ही जारी रहेगी । इस बार श्रावणी मेले के लिए गत वर्ष की अपेक्षा अधिक पुलिस बल उपलब्ध कराई जा रही है, लिहाजा शांति व्यवस्था और चोरी ,पॉकेट मारी जैसी घटनाओं पर कड़ा अंकुश लगा रहेगा । 

 यातायात व सड़क में होगा सुधार

यातायात में सुधार के लिए नारियल विकास बोर्ड और पेट्रोल पंप के बीच पहला ड्रॉप गेट तथा दुर्गा स्थान के पास एक दूसरा ड्रॉप गेट बनाया जाएगा जिसके अंदर टेंपो का आवागमन रोका जाएगा। मुख्य सड़क पर सुव्यवस्थित यातायात के लिए अतिक्रमण कारी व्यवसायियों को हटाने का निर्देश दिया गया है और इस राष्ट्रीय उच्च पथ पर  जल जमाव की समस्या को दूर करने का निर्देश दिया गया है । सड़क के बगल में नाले की सफाई और कच्चा नाला बनाने  का भी निर्णय लिया गया है  । शर्मा चौक से थाने जाने वाली सड़क की बदहाल व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए भी ग्रामीण सड़क विकास विभाग को निर्देश दिया गया।

चौकस रहेगी पुलिस व्यवस्था 

 श्रावणी मेले में चौकस पुलिस व्यवस्था के लिए पर्याप्त पुलिस बल उपलब्ध होने की बात कहते हुए बताया गया कि रविवार और सोमवार को सर्वाधिक भीड़ उमड़ती है । इसके लिए अब चार शिफ्टों  में वहां पुलिस बल लगाई जाएगी ।महिला और पुरुष चोरों और पॉकेट मारो पर अंकुश लगाने के लिए इस बार सादे वेश में भी पुलिसकर्मी प्रतिनियुक्त किए जायेंगे।

पेयजल और प्रकाश की समुचित व्यवस्था 

 बैठक में जिलाधिकारी ने लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग के पदाधिकारी को निर्देश दिया कि मंदिर परिसर और आसपास पूर्व की भांति दस चापाकल लगाया जाए और स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया गया कि श्रद्धालुओं के लिए दवा और ब्लीचिंग पाउडर आदि की व्यवस्था समय पर तैयार रखी जाए । मेला परिसर में प्रकाश की व्यवस्था के लिए एक ओर जहां न्यास परिषद को अपना जेनरेटर तैयार रखने के लिए निर्देश दिया गया वही विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता को भी निर्देशित किया गया कि वे वहां लगी हाई मास्ट लैंप को ठीक कराने के लिए कार्रवाई करें।

श्रद्धालुओं के धर्मशाला में व्यवस्था 

 अनुमंडल अधिकारी सह सचिव सिंघेश्वर मंदिर न्यास समिति ने बताया कि श्रावणी मेले में श्रद्धालुओं के लिए प्रतिमा सिंह धर्मशाला में व्यवस्था की गई है। श्रद्धालुओं के लिए पंक्ति वध अंदर प्रवेश हेतु जो पाइप लाइन है उसे विस्तारित कर शिवगंगा तालाब तक कर दिया गया है। मंदिर परिसर में सीसीटीवी कैमरा, गर्भ गृह में एयर कंडीशनर और माइकिंग की व्यवस्था भी की गई है। इसके कारण श्रद्धालुओं को अब कोई कष्ट नहीं होने वाला है। 

मेले में श्रद्धालुओं को व्यवस्थित करने के लिए भारत स्काउट एवं गाइड के स्काउट को भी शिफ्ट में ड्यूटी दी गई है । इसके लिए भारत स्काउट एवं गाइड के सचिव जयकृष्ण यादव को भी निर्देशित किया जा चुका है ।
बैठक में जिलाधिकारी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय कुमार सिंह सिविल सर्जन, एनडीसी रजनीश कुमार राय, सड़क विभाग के कार्यपालक अभियंतागण, डी एस पी वसी अहमद, न्यास समिति के सदस्य डॉक्टर भूपेंद्र मधेपुरी और उपेंद्र रजक सहित अन्य उपस्थित थे।

No comments