Breaking News

उत्तर प्रदेश मेरठ दूल्हेरा गांव के किसान सोनू की मौत का मामला सरधना विधायक संगीत सोम पहुंचे पीड़ित पक्ष के घर एडीएम सिटी और एसपी सिटी भी पहुंचे

उत्तर प्रदेश मेरठ दूल्हेरा गांव के किसान सोनू की मौत का मामला सरधना विधायक संगीत सोम पहुंचे पीड़ित पक्ष के घर एडीएम सिटी और एसपी सिटी भी पहुंचे

मेरठ मोदीपुरम dulara गांव निवासी किसान सोनू पुत्र रमेश की मौत के मामले में सोमवार को प्रस्तावित महापंचायत स्थगित कर दी गई रविवार को सरधना विधायक संगीत सोम एडीए m प्रशासन एसपी सिटी और एसडीएम सरधना पीड़ित पक्ष के घर पहुंचे जहां करीब ढाई घंटे तक वार्ता चली सोनू के परिजनों ने पुलिस प्रशासन को पांच सूत्रीय मांग सौंपा पुलिस प्रशासन ने समय मांगा जिस पर परिजनों ने एसपी सिटी को 7 दिन का समय दिया सोनू के पिता ने कहा है कि पुलिस जो समय मांग रही है वह दिया जाना चाहिए 16 फरवरी को सोनू की रसम पगड़ी है अगर जब तक केस नहीं खुला तो फिर आगे की रणनीति बनाई जाएगी
आपको बता दें 3 फरवरी की रात ट्रैक्टर ट्रॉली से गन्ना लेकर जा रहे किसान सोनू की टोल प्लाजा के पास ऑल से टकराकर मौत हो गई थी इस मामले में पीड़ित पक्ष ने टोल अफसरों और कर्मियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था पुलिस ने दो टोल कर्मियों को जेल भेज दिया है सरधना विधायक संगीत सोम के डीएम और एसपी सिटी से सोनू के भाई नवीन ने कहा कि इस घटना को 1 सप्ताह हो गया लेकिन अभी तक टोल अफसरों को जेल नहीं भेजा गया l उन्हें न्याय मिलना चाहिए जिस पर विधायक संगीत सोम ने कहा कि वह पीड़ित परिवार के साथ हैं और हर संभव मदद की जाएगी पुलिस ने पक्ष कार्रवाई करेगी किसी निर्दोष को जेल नहीं भेजा जाएगा मांग पक्ष में ₹500000 का मुआवजा आरोपियों को जेल भेजने परिवार के एक सदस्य को नौकरी सरकारी दिलाने टोल पर किसानों के लिए अलग से लेन बनाने और दूल्हेरा गांव से टोल के दाने निकलने की मांग की गई है जिस पर डीएम ने 1 सप्ताह का समय मांगा और आरोपियों को जेल भेजने की बात कही इस दौरान जिला पंचायत सदस्य ललित चौहान गांव का प्रधान बबलू चौहान संदीप चौहान मोंटी चौहान नरेश चौहान आदि मौजूद रहे

यह बात तो सही है सिवाय टोल प्लाजा पर लंबी-लंबी कतारें मिलती है आए दिन शिकायतें मिलती है कैश काउंटर का एक ही लाइन लगा रखी है जबकि फास्ट्रेक ज्यादा लाइनें हैं देखने की बात यह है कि कोई भी कर्मचारी बाहर की तरफ खड़ा होकर वाहनों को कैश काउंटर के बारे में नहीं बताता उसके बाद गाड़ियां फास्ट ट्रैक आ जाती हैं उसके बाद उनसे डबल रुपया लिया जाता है जिससे जनता और टोल कर्मचारियों की भाषा होती है आए दिन जनता परेशान रहती है कोई भी पर्ची 12 घंटे कि नहीं दी जाती जबकि 1 घंटे में वापस आने पर भी उसको दोबारा पैसा देना पड़ता है माननीय केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी जी ने बताया था की 12 घंटे की पर्ची टोल प्लाजा से लें यहां पर टोल प्लाजा पर कोई भी 12 घंटे की पर्ची नहीं देता जिससे जनता को परेशानी होती है

मेरठ मंडल ब्यूरो सुशील रस्तोगी

No comments