Breaking News

धर्म संगम पर एक धार्मिक संणगोष्ठी का आयोजन

धर्म संगम पर एक धार्मिक संणगोष्ठी का आयोजन

बिहार के जिला गया में. धर्म संस्कृति संगम के बैनर तली कृष्णायन- बबुआ जी की कोठी मुरारपुर रोड गया में किया गया। संगोष्ठी विषय "राष्ट्र के सर्वांगीण विकास में धर्म की भूमिका* पर मुख्य वक्ता मान्यवर श्री इंद्रेश कुमार जी का उद्बोधन गया जी के नागरिकों के बीच हुआ। श्री इंद्रेश कुमार जी- राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक, अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य एवं धर्म संस्कृति संगम न्यास सहित 40 संस्थाओं के संरक्षक है। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों को अंग वस्त्र प्रदान कर किया गया। मान्यवर के साथ मंच पर श्री राजेश लांबा जी, श्री राम नवमी प्रसाद जी, स्वामी पुष्करनंद जी, श्री देवनाथ मेहरवार जी, श्री छोटेलाल बाबू जी, श्री संजय सिंह जी उपस्थित रहें। स्वामी पुष्करानंद जी जो पूरे भारत में गौ रक्षा हेतु कार्य कर रहे हैं, उन्होंने विषय प्रवेश के साथ कार्यक्रम का शुरुआत किया, साथ ही धर्म की भूमिका पर रामनवमी प्रसाद जी के द्वारा विचार रखा गया। अपने उद्बोधन के दौरान इंद्रेश जी ने बताया कि- विश्व के सर्वांगीण विकास में भारतीय धर्म की महत्वपूर्णता सर्वोपरि है, साथ ही उद्घोष के माध्यम से भारत के सभी बेटियों को विश्व का सम्मान और उपहार बताया। उन्होंने भारत के पूर्वजों की बुद्धिमता को धर्म एवं ज्ञान में सर्वोपरि बताते हुए कहा कि, अगर वे सुदृढ़ नहीं होते, तो हमारे यहां स्वामी विवेकानंद, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, लक्ष्मीबाई, मौलाना अबुल कलाम, एपीजे अब्दुल कलाम, आचार्य चाणक्य इत्यादि जैसे महा पुरुष हमारे यहां नहीं होते। नागरिक संगोष्ठी के दौरान मोहन जी, राणा प्रताप जी, राजेश पांडे जी, अंजनी जी, उमेश रंजन जी, कामता प्रसाद जी, शशि भूषण जी, विकास चैतन्य जी, विनोद जी, धनराज जी, प्रशांत जी, अभिषेक जी के साथ गया के प्रबुद्ध नागरिक उपस्थित रहें। साथ ही इस संगोष्ठी के सफल आयोजन में अमरनाथ मेहरवार जी, भोला मिश्रा जी, आनंद श्रीकर जी, अंकित शिवम जी, अमित जी, एवं मनीष परमार जी की भूमिका सराहनीय रहा।

No comments