Breaking News

मगधविश्वविधालय.बोधगया में परम पावन तिब्बत बौद्ध गुरू जी ने इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंटके छात्रो को संबोधन*

मगधविश्वविधालय.बोधगया में परम पावन तिब्बत बौद्ध गुरू जी ने  इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंटके छात्रो को संबोधन* 
गया में
 बिहार के अंतरराष्ट्रीय ज्ञान स्थल बोधगया में मगध विश्वविद्यालय के प्रांगण में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट छात्रो को परम पावन  तिब्बत बौद्ध गुरु  दलाई लामा जी ने आज छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि  अहिंसा प्रमिता अभियान पर एक संदेश सभी को सुनाया  बौद्ध धर्म के अहिंसा धर्म पर और करूणा परमिता करना के विचार पर त्रिपिटक सूत्र पाठ पर आधारित है   और कहा कि संसार में बौद्ध धर्म ही क्रांति को छोड़कर शांति के संदेश देने वाले विश्व का बौद्ध धर्म है जिसका संसार में तिब्बत भाषा में एवं चाइना भाषा में जापान भाषा में ताइवान भाषा में कोरिया भाषा में  अनेक ऐसा देश है जो  पाली भाषा का प्रारूप दुनिया में इसकी प्रचार हिंसा परमो धर्म एवं करुणा का संदेश परमिता का ध्यान और साधना का मार्गदर्शन शांति का मार्ग है जो विश्व में किसी धर्म में नहीं है सिर्फ बौद्ध धर्म  है  बौद्ध धर्म विश्व में शान्ति करूणा  संदेश देता है और छात्रों को भी निर्देश दिया की बुध्द ज्ञानसे विश्व में अहिंसा का मार्ग अज्ञान की मार्ग से साधना की मार्ग से ही आपकी विद्या का सफल एवं आर्थिक इकोनॉमिक्स का बल मिलता है जिसका इक्नॉमीज पर कमेंट करने का शक्ति बौद्ध  त्रिपिटक सूत्र विनय  सूत्र  धम्म सूत्र पर आधारित है दुनिया में शांति का संदेश और करुणा भाईचारा प्रेम मिलते है बुध्दत्वः अनुभव करते हैं आज की धरती को नालंदा विश्वविद्यालय खड़हर. हो जाने के बाद भी तिब्बत भाषा में ही पाली का प्रारूप संसार की तिब्बत बौद्ध धर्म की संदेश से आज भी 35 देश का बौद्ध  बन चुके हैं तिब्बत गुरु जी ने बात कहा जिसका संसार में कहीं इसमें किसी तरह का दुर्व्यवहार नहीं है हिंसा नहीं है अहिंसा करुणा परमिता से  शांति ही शांति मिलता है ।

No comments