Breaking News

आज के तरंग में तरंगित राजधानी' की संगीतमय धुन पर झूम उठे श्रोतागण

'आज के तरंग में तरंगित राजधानी' की संगीतमय धुन पर झूम उठे श्रोतागण

पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय में आयोजित होने वाले बिहार राज्य अंतर-विश्वविद्यालय सांस्कृतिक महोत्सव तरंग-2019 के चतुर्थ दिवस मगध विश्वविद्यालय के होनहार प्रतिभागी नमन्या, ईशा शेखर, रौनक परवीन, ट्विंकल तथा रौशन कुमार पाठक ने एमयू तरंग टीम मैनेजर्स डाॅ० के० के० नारायण तथा डाॅ० कुमारी रश्मि प्रियदर्शनी के निर्देशन में तैयार सामूहिक गीत 'आज के तरंग में तरंगित राजधानी, का कहियो बाबू ई अप्पन नादानी' की बड़ी ही धमाकेदार प्रस्तुति दी। हारमोनियम पर आफताब अंसारी तथा तबले पर आशुतोष मिश्रा ने संगत की। तरंग-2019 के थीम 'संस्कार, परिष्कार, बिहार' पर केंद्रित आज के युग पर व्यंग्य कसते इस मगही गीत की लयबद्ध रचना डाॅ के के नारायण ने की है। छात्रा अपूर्वा ने  वेस्टर्न सोलो साँग प्रस्तुत करके श्रोताओं की खूब वाहवाही बटोरी। उनके साथ एकाॅम्पैनिस्ट के रूप में गिटार पर छात्र करनराज थे। द्वितीय सत्र में जल-संरक्षण पर आधारित माइम (मूक अभिनय) के माध्यम से रौशन पाठक, कुसुम, रिया कुमारी, तेजस्व, बीरेंद्र, पीयूष कुमार, करन राज आदि ने जल को जीवन का पर्याय मानते हुए हर किसी को उसका सोच-समझ कर उपयोग करने का संदेश दिया। क्ले-माॅडलिंग के अंतर्गत छात्रा आँचल जसपुरिया ने मिट्टी से पर्यावरण-संरक्षण पर आधारित प्रतिरूप तैयार किया। छात्रा करुणा ने हरियाली के महत्व को दर्शाती खूबसूरत रंगोली बनाकर काफी तारीफें पाईं। इन सभी विधाओं में छात्र-छात्राओं के कुशल प्रदर्शन पर एमयू बोधगया के खेलकूद विभाग के निदेशक डाॅ० ब्रजेश राय ने काफी खुशी जताई है।

No comments