Breaking News

जिला परामर्शदातृ समिति की हुई बैठक

*जिला परामर्शदातृ समिति की हुई बैठक
*
गया,16 दिसंबर 2019, 
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
बिहार के जिला गया में आयुक्त मगध प्रमंडल के सभागार में श्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, माननीय मंत्री शिक्षा विभाग, बिहार सरकार सह प्रभारी मंत्री गया जिला की अध्यक्षता में जल-जीवन-हरियाली योजना को लेकर जिला परामर्शदातृ समिति की बैठक आयोजित की गई।
बैठक में सर्वप्रथम जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह द्वारा पावर पॉइंट प्रस्तुतीकरण के माध्यम से जल-जीवन- हरियाली योजना के सभी 11 अवयवों से संबंधित जिले में किए गए कार्य से सभी माननीय सदस्यों को अवगत कराया गया। उन्होंने कहा कि 26 अक्टूबर 2019 को माननीय मुख्यमंत्री जी के द्वारा जल-जीवन-हरियाली योजना का शुभारंभ किया गया। इस अभियान को 3 फेज में पूरा किया जाना है और प्रथम फेज में जितने भी जल स्रोत हैं उन्हें चिन्हित किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि जिले में 36990 कुआँ चिन्हित किए गए हैं। जिनमें 6000 सार्वजनिक क्षेत्र के हैं, सार्वजनिक क्षेत्र के कुओं का जीर्णोद्धार लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग द्वारा कराया जाएगा। सभी सरकारी भवनों में रूफटॉप हार्वेस्टिंग कराया जा रहा है। वन विभाग द्वारा नया पौधाशाला लगाया गया है। मिट्टी संरक्षण विभाग द्वारा 47 योजनाओं में आहर पइन का जीर्णोद्धार किया गया है। 
उन्होंने कहा कि माननीय सदस्य द्वारा दिए गए योजनाओं को शामिल किया जा रहा है लेकिन योजनाओं पर यदि प्राथमिकता अंकित रहेगी तो उन योजनाओं को पहले लिया जा सकेगा। जिलाधिकारी ने कहा कि 19 जनवरी 2020 को बिहार में मानव श्रृंखला का निर्माण जल -जीवन- हरियाली तथा बाल विवाह दहेज प्रथा उन्मूलन एवं नशाबंदी के समर्थन में किया जा रहा है। गया जिला में 516 किलोमीटर में मानव श्रृंखला निर्माण का लक्ष्य निर्धारित है। उन्होंने उपस्थित सभी माननीय सदस्यों से भारी संख्या में लोगों को शामिल करने एवं सहयोग प्रदान करने की अपील की।
बैठक में औरंगाबाद के माननीय सांसद श्री सुशील कुमार सिंह, गया के माननीय सांसद श्री विजय कुमार, माननीय विधायक शेरघाटी श्री विनोद प्रसाद यादव, माननीय विधायक गुरुआ श्री राजीव नंदन, माननीय विधान पार्षद श्री संतोष कुमार सुमन, माननीय विधान पार्षद श्री कृष्ण कुमार सिंह द्वारा अपने-अपने विचार रखे गए तथा अपने अपने क्षेत्र के आहार, पइन के जीर्णोद्धार कराने की आवश्यकता से अवगत कराया गया। बैठक में माननीय विधायक शेरघाटी द्वारा बताया गया कि इस अभियान की सफलता लघु सिंचाई विभाग पर निर्भर है। लेकिन लघु सिंचाई विभाग के पास पदाधिकारियों एवं कर्मचारियों का अभाव है इसलिए उन्हें हैंड्स उपलब्ध कराना चाहिए।
बैठक को संबोधित करते हुए माननीय मंत्री शिक्षा विभाग, बिहार सरकार कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा ने कहा कि गया जिला एक इतिहास रचने जा रहा है रचने जा रहा है,गया कि जमीन पर कैबिनेट की बैठक होगी और उसी कैबिनेट में गंगा को गया में लाने के प्रस्ताव को पारित किया जाएगा। यह हम सब लोगों के लिए उत्साह का विषय है। जल- जीवन- हरियाली अभियान, बाल विवाह और दहेज प्रथा उन्मूलन अभियान तथा नशाबंदी के समर्थन में 19 जनवरी 2020 को मानव श्रृंखला पूर्व से बेहतर एवं सफल होगा। हमें भी अपनी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि लघु सिंचाई विभाग का कार्य इस अभियान की सफलता के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। उन्हें कर्मचारी एवं पदाधिकारी उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि जल संकट को सभी लोगों ने झेला है। प्राचीन समय में जमींदारी व्यवस्था में सिंचाई के संसाधनों को सृजन किया गया था, हम लोगों ने उन्हें नष्ट करने का कार्य किया। जब तक हम पूरी मेहनत से इस अभियान को सफल नहीं बनाएंगे तब तक इस समस्या से निजात नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि विगत दिनों में गया हीटस्ट्रोक एवं जल संकट से प्रभावित रहा और और इसी को देखकर जल-जीवन- हरियाली योजना लाया गया है। इससे गया का ही भला होगा।
बैठक में माननीय मंत्री कृषि विभाग,बिहार के प्रतिनिधि, शेरघाटी नगर पंचायत के माननीया अध्यक्ष, उप विकास आयुक्त श्री किशोरी चौधरी, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के निदेशक श्री संतोष कुमार, लघु सिंचाई विभाग के कार्यपालक अभियंता एवं सभी संबंधित विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।

No comments