Breaking News

गया में आज प्रमंडलीय मासिक विकास विभाग की समीक्षात्मक बैठक की

*गया में आज प्रमंडलीय मासिक विकास विभाग की समीक्षात्मक बैठक की
*
गया, 18 अक्टूबर 2019,
रिपोर्टः
दिनेश कुमार पंडित
  बिहार के जिला में आयुक्त, मगध प्रमंडल श्री असंगबा चुबा आओ की अध्यक्षता में आयुक्त कार्यालय के सभागार में प्रमंडलीय मासिक समीक्षा बैठक सभी उपनिदेशक पदाधिकारी के साथ कि गयी। बैठक में उन्होंने सभी उपनिदेशक को समय-समय पर अपने जिला के कार्यालयों एवं योजनाओं के प्रगति की समीक्षा करने को कहा। उन्होंने कहा कि समय-समय पर समीक्षा नहीं होने के कारण सरकार के कार्य में प्रगति नहीं हो पाती है। उन्होंने कहा कि बिहार में कुल 38 जिले हैं उनके अलग-अलग विभागों की समस्याएं हैं खास करके इंटर डिस्ट्रीक्ट की समस्या, इंटर डिपार्टमेंट की समस्या और इंटर ऑफिस की समस्या हो यदि संबंधित समस्याओं का निवारण कार्यालय के पदाधिकारी के स्तर से, जिलाधिकारी के स्तर से निवारण नहीं हो रहा है तो आयुक्त मगध प्रमंडल को अवगत कराएं विभाग से टेकओवर कराकर मामलों का निवारण कराया जाएगा। बैठक में राष्ट्रीय बागवानी मिशन के पदाधिकारी ने बताया कि गया और औरंगाबाद में यह योजना पूर्ण रूप से संचालित है। बाकी मगध प्रमंडल के जिलों में कार्य कराया जा रहा है। इस योजना में फल, फूल, सब्जी, मसाले आदि लगाने वाले किसानों को सहायता राशि उपलब्ध करायी जाती है। उन्होंने कहा कि मगध प्रमंडल में लक्ष्य के विरूद्ध राशि जल्दी विभाग से उपलब्ध नहीं करायी जाती है। आयुक्त महोदय ने निदेशक बागवानी मिशन को चिट्ठी लिखने का निर्देश दिया। कृषि सिंचाई योजना की समीक्षा में बताया गया कि मगध प्रमंडल में कुल 3725 ऑनलाइन आवेदन प्राप्त हुए हैं। जिसमें बताया गया कि विभाग द्वारा चयनित कंपनी के द्वारा 1555 आवेदनों को अस्वीकृत किया जा चुका है। शेष बचे आवेदनों को कृषि सिंचाई योजना का लाभ दिया गया है। आयुक्त महोदय ने बताया कि मगध प्रमंडल का क्षेत्र काफी ड्राई क्षेत्र है, यहां कृषि सिंचाई योजना पर फोकस करना होगा। उन्होंने बताया कि बोधगया में विदेशी सब्जी एवं विदेशी फूल का काफी डिमांड है। बोधगया के होटल एजेंसियां विदेशों से एरोप्लेन के माध्यम से यहां विदेशी सब्जी और फूल बोधगया के सभी होटलों को उपलब्ध करते हैं जो कि काफी महंगा होता है। उन्होंने बागवानी मिशन के पदाधिकारी को बोधगया में विदेशी सब्जियों की खेती कराने का निर्देश दिया उन्होंने कहा कि बोधगया के होटलों से समन्वय स्थापित कर एक वृहद पैमाने पर मार्केट क्रिएट करें जो कि बोधगया से ही विदेशी सब्जियों एवं फूलों का सप्लाई सभी होटलों में किया जाए। जिससे जो पैसा विदेशों में जाता है वह सारा पैसा बिहार सरकार या आपके विभाग के पास जाएगा।
खाद्य आपूर्ति की समीक्षा में उन्होंने निर्देश दिया कि औरंगाबाद जिले में नए लाइसेंस निर्गत करने के काफी मामले लंबित हैं। उन्होंने जिला आपूर्ति पदाधिकारी को ससमय लाइसेंस निर्गत करने का निर्देश दिया। उन्होंने मगध प्रमंडल के सभी डीएसओ और एसडीओ को निर्देश दिया कि अपने-अपने क्षेत्र में लगातार निरीक्षण करें एवं रिपोर्ट की एक कॉपी आयुक्त कार्यालय को प्रेषित करें। खाद्य आपूर्ति का रिपोर्ट जिन अनुमंडल से प्राप्त नहीं हुआ है वैसे पदाधिकारी से स्पष्टीकरण की मांग की गई। समीक्षा के क्रम में पाया गया कि जन शिकायत के मामले काफी लंबित हैं उन्होंने उपस्थित पदाधिकारी को जन शिकायत के मामले को त्वरित निष्पादन करने का निर्देश दिया। धान अधिप्राप्ति की समीक्षा में उन्होंने निर्देश दिया कि एसएफसी और डीएसओ से समन्वय स्थापित कर धान अधिप्राप्ति के कार्य में तेजी लाएं। आयुक्त महोदय ने सख्त निर्देश दिया कि सारे अनाज के गोदामों को दुरुस्त रखा जाए अगर कोई गोदाम जर्जर स्थिति में है तो उसे अविलंब मरम्मति कराना सुनिश्चित करें। कृषि विभाग की समीक्षा में बताया गया कि मगध प्रमंडल में औरंगाबाद जिले में डीजल अनुदान का आंकड़ा ज्यादा रहने पर जिला कृषि पदाधिकारी औरंगाबाद को जांच कराने को कहा उन्होंने कहा कि औरंगाबाद जिले में बिजली का प्लांट भी है तब भी यहां डीजल अनुदान अत्यधिक किसानों को दिया गया है। उन्होंने सख्त निर्देश दिया कि जांच के क्रम में यदि किसी पेट्रोल टंकी द्वारा अवैध रूप से डीजल का पर्चा दिया गया है तो वैसे पेट्रोल टंकी का लाइसेंस रद्द किया जाए। इसके उपरांत उन्होंने प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना, इनपुट सब्सिडरी, बीज वितरण की उपलब्धि के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त किया। बैठक में संयुक्त निबंधक सहयोग समिति को सभी अनाजो के गोदामों के मॉइश्चर मिटर मशीन को दुरुस्त करने का निर्देश दिया। बैठक में आयुक्त महोदय ने बताया कि औरंगाबाद निरीक्षण के दौरान महुआर नवीनगर में पैक्स गोदाम टूटा फूटा था उन्होंने कहा कि उस गोदाम का अपने स्तर से निरीक्षण कर गोदाम का मरम्मति कराये। 
बैठक में सांख्यिकी विभाग की समीक्षा में आयुक्त महोदय ने निर्देश दिया कि जन्म एवं मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने के लिए प्रचार प्रसार कर जागरूकता लाने को कहा। उन्होंने कहा कि मगध प्रमंडल में जन्म एवं मृत्यु प्रमाण पत्र का प्रोग्रेस काफी कम है। उन्होंने कहा कि सभी प्राइवेट अस्पतालों को भी जागरूक किया जाए। पंचायती राज विभाग के समीक्षा के दौरान उन्होंने निर्देश दिया कि सात निश्चय योजना मैं जो पदाधिकारी अच्छा कार्य करेंगे उसे आयुक्त मगध प्रमंडल की ओर से प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा। 
स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा में बताया गया कि जेपीएन अस्पताल गया में महावीर ब्लड बैंक पिछले कई सालों से संस्थापित है लेकिन पिछले लगभग 20 सालों से महावीर ब्लड बैंक का लाइसेंस अपडेट नहीं किया गया है। आयुक्त महोदय ने सिविल सर्जन गया को लिखित आवेदन जिलाधिकारी को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। फैमिली प्लानिंग योजना पर आयुक्त महोदय ने निर्देश दिया कि जो मरीज फैमिली प्लानिंग के लिए आते हैं उन्हें शत प्रतिशत प्रोत्साहन राशि उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने सभी सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि आपने अपने जिले के अस्पतालों में फैमिली प्लानिंग में अनियमितता की जांच करें। फैमिली प्लानिंग में अनियमितता ज्यादा पाई जाती है एवं पैसा का निकासी आसानी से किया जा सकता है, इसलिये सतर्कता से सभी सिविल सर्जन इसकी जांच करें। उन्होंने कहा कि कैमूर जिले में फैमिली प्लानिंग योजना में अनियमितता करने पर एक सिविल सर्जन पर प्राथमिकी दर्ज कराकर उसे जेल भिजवाया गया था। आयुक्त महोदय ने नवादा जिले के सिविल सर्जन से स्पष्टीकरण की मांग की नवादा सिविल सर्जन द्वारा स्वास्थ्य संबंधित की रिपोर्ट काफी खराब पाई गई। इसके उपरांत उन्होंने सभी अस्पतालों में आरोग्य मित्र निर्धारित करने को कहा। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं का रजिस्ट्रेशन कार में प्रगति लाएं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में सरकारी योजनाओं की नींव आशा एवं आगनवाड़ी हैं उनका प्रोत्साहन राशि लंबित न रखें।
शिक्षा विभाग की समीक्षा में आयुक्त महोदय ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी को अपने जिले में मध्यान भोजन के गुणवत्ता को जांच करवाते रहने का निर्देश दिया उन्होंने कहा कि मध्याह्न भोजन योजना में सरकार का जीरो टॉलरेंस है मध्याह्न भोजन की गुणवत्ता में कमी पाए जाने पर संबंधित प्रधानाध्यापक के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए। 
इसके उपरांत उन्होंने कल्याण विभाग, योजना विभाग, राजस्व विभाग की समीक्षा की। बैठक में माप तौल पदाधिकारी को निर्देश दिया कि बड़े पैमाने पर अभियान चलाएं एवं अनियमितता करने वाले दुकानों या एजेंसियों पर कार्रवाई करें। बैठक में उत्पाद विभाग द्वारा संतोषजनक रिपोर्ट नहीं दिए जाने पर फटकार लगायी गयी। बैठक में आयुक्त महोदय ने उपस्थित सभी उपनिदेशक पदाधिकारी को निर्देश दिया कि संबंधित विभाग का यदि कोई जमीन अतिक्रमित हो चुका है तो उसकी सूचना आयुक्त मगध प्रमंडल को दी जाए संबंधित जिला पदाधिकारी अंचलाधिकारी या विभाग द्वारा समन्वय स्थापित कर उसे अतिक्रमण मुक्त कराया जाएगा सरकार का अतिक्रमण के विरूद्ध जीरो टॉलरेंस है। किसी भी हाल में सरकार की जमीन का अतिक्रमण नहीं किया जा सकता है।

No comments