Breaking News

बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम में सुधार हेतु युद्धस्तर पर करें प्रयास - कलेक्टर

बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम में सुधार हेतु युद्धस्तर पर करें प्रयास - कलेक्टर

उत्कृष्ट शैक्षणिक परिणामों हेतु प्राचार्य निभाएँ सक्रिय भूमिका

आगामी 3 माह तक शिक्षकों की कोई बैठक बिना कलेक्टर की अनुमति के नही हो सकेगी आयोजित

अनूपपुर 27 नवम्बर 2019/

समय आ गया है कि विद्यार्थियों के साथ पूरा शैक्षणिक अमला बोर्ड परीक्षाओं में उत्कृष्ट परिणाम हेतु युद्धस्तर पर प्रयास करे। अच्छे परिणामों की प्राप्ति हेतु संस्था प्रमुखों की भूमिका अहम है। कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर शासकीय कन्या विद्यालय अनूपपुर में स्मार्ट क्लास सुविधा युक्त शासकीय विद्यालयों के प्राचार्यों की समीक्षा बैठक में सम्बोधित कर रहे थे। कलेक्टर ने कहा प्राचार्यों से अपेक्षित है कि हर एक बच्चे की वर्तमान स्थिति का आंकलन कर उनमें सुधार हेतु कार्ययोजना बनाएँ, इस हेतु किसी विशेष सहयोग की आवश्यकता है तो तुरंत अवगत कराए ज़िला प्रशासन द्वारा त्वरित सहयोग किया जाएगा। आपने कहा बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी के लिए नियमित अध्यापन के साथ प्रश्नपत्रों का भी अभ्यास कराएँ।

आपने कहा ज़िला प्रशासन द्वारा शिक्षा क्षेत्र में किए गए नवाचार शैक्षणिक परिणामों में सुधार हेतु किए गए हैं। इस दौरान आपने ज़िले में 50 शासकीय स्कूल में संचालित स्मार्ट क्लास की अब तक की गतिविधि की समीक्षा की। आपने कहा स्मार्ट क्लास में शिक्षकों की उपस्थिति अनिवार्य है ताकि वे बच्चों के मन में आयी किसी भी प्रकार की जिज्ञासा का समाधान कर सकें। इस दौरान प्राचार्यों ने बताया स्मार्ट क्लास के कारण बच्चों की पढ़ाई में रुचि बढ़ी है।

आपने इस दौरान बच्चों के अभिभावको से अपील की है कि आगामी तीन महीनो में शैक्षणिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी इस हेतु बच्चों हेतु अनिवार्य रूप से खाने का डिब्बा भेजें बच्चों से नियमित रूप से संवाद करें एवं बच्चों को पढ़ायी हेतु प्रोत्साहित करें, नियमित रूप से बच्चों की उपस्थिति सुनिश्चित करें किसी विषय विशेष में बच्चे को समस्या है तो संस्था प्रमुख को अवगत कराएँ, आपने कहा संस्था प्रमुख की यह ज़िम्मेदारी होगी कि वह आवश्यक शैक्षणिक व्यवस्था करें।

शिक्षक पूर्ण रूप से शैक्षणिक गतिविधियों में ध्यान दें। आपने सहायक आयुक्त जनजातीय विकास डी एस राव को निर्देश दिए हैं कि बिना पूर्व अनुमति के शिक्षा विभाग की बैठकें आयोजित न करें। आपने कहा स्मार्ट क्लास संचालन की दैनिक रिपोर्ट की निगरानी एवं मासिक अवधि में समीक्षा की जाएगी। इस दौरान स्मार्ट क्लास में बच्चों एवं शिक्षकों की उपस्थिति एवं लेक्चर पर निगरानी रखी जाएगी। आपने कहा आशानुरुप परिणाम प्राप्त होने पर ज़िले के समस्त शासकीय 132 उच्च एवं उच्च्तर माध्यमिक विद्यालयों में स्मार्ट क्लास की सुविधा प्रदान की जाएगी आवश्यकता होने पर एक विद्यालय में एक से अधिक स्मार्ट क्लास की भी व्यवस्था की जा सकती है। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में ज़िले में 50 शासकीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लास का संचालन किया जा रहा है।

बैठक में प्राचार्य शासकीय हाई स्कूल परसवार  अजय कुमार जैन, वरिष्ठ अध्यापक शासकीय कन्या उच्च्तर माध्यमिक विद्यालय कौशलेंद्र सिंह समेत संदर्भित विद्यालयों के प्राचार्य एवं स्कुग लिंक संस्थान के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

जिला अनूपपुर से चेतन गुप्ता की रिपोर्ट

No comments