किसानों की खड़ी फसल चट कर रहे है आवारा जानवर - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Thursday, 7 November 2019

किसानों की खड़ी फसल चट कर रहे है आवारा जानवर

*किसानों की खड़ी फसल चट कर रहे है आवारा जानवर*             *अभी तक नही हुआ सरकारी आदेश का अनुपालन*               _कब मिलेगी किसानों को आवारा पशुओं से मुक्ति अधिकारी सुनने को तैयार नही कौन सुनेगा किसानों का दर्द_                             तरहार क्षेत्र के किसानों की स्थिति इतनी दयनीय व चिंताजनक हो गई कि किसान खेती करने को तैयार नही हो रहा है खेती करने के लिए किसान अपने खेत मे अच्छी लागत तो लगाता है पर लागत लगाई हुई रकम वापस नही मिल पाती जिससे किसान दिनों दिन गरीब होता जा रहा है जय जवान जय किसान का नारा देने वाले देश के प्रधानमंत्री शायद इन्ही जवानों व किसानों के दर्द को देखकर यह नारा बुलंद किया था कि शायद आने वाली नई सरकारे इसी आवाज को हमेशा बुलंद रखे लेकिन नारा तो जय जवान जय किसान जय विज्ञान तक बढ़ गया लेकिन किसान की स्थिति पहले से खराब हो गई है आवाजे तो हर सरकार में किसानों के प्रति उठती है मगर अफसोस किसानों की समस्या बढ़ती जा रही है और किसान आत्म हत्या करने को मजबूर हो रहा है अगर सरकार आत्म हत्या पर विचार करे कि किसान आत्म हत्या क्यो कर रहा है तो शायद कुछ इस पर अंकुश लग पाए अधिकारी बेखौफ रहते है किसानों के प्रति बड़ी लापरवाही बरती जा रही है *किसानों का दर्द कोई समझने वाला नजर नही आता है किसान कहा जाए किससे अपनी समस्या बताये जिससे त्वरित समस्या का निदान मिल सके* इस समय किसानों की बड़ी समस्या आवारा जानवरो से है सरकार आदेश देकर वाह वाही लूट रही है और अधिकारी मस्त नजर आते है इन आवारा जानवरो को किसान कहा लेकर जाए कौन करे इन जानवरों की रखवाली कैसे हो किसानो की फसल रखवाली कैसे होगी किसानों की आमदनी दुगुनी यह सब एक किसानों को ख़्वाब जैसे दिख रहा है किसान अपने आप को छला महसूस कर रहा है बैंको से किसान लोन लेकर खेती करता है और सारा पैसा खेती में लगाकर कर घर गृहस्थी शादी विवाह का कार्य करने को सोचता है लेकिन फसल काटते समय घर से लगाया पैसा भी वापस किसान को खेती से नही वसूल पाता जिससे किसान कर्ज तले दबता चला जाता है और आत्म हत्या जैसे कदम उठाता है आवारा पशुओं से किसानों को नही बचाया गया तो वह दिन दूर नही जब किसान या तो खेती करना छोड़ देगा या आत्म हत्या करने को मजबूर हो जाएगा तब सरकार या सरकारी अधिकारी आश्वासन देते नजर आते है अगर समस्या पहले से निस्तारण हो जाये तो यह समस्या शायद सामने ना देखने को मिले।                *भारत न्यूज़ लाइव 24 से बारा रिपोर्टर दुर्गेश त्रिपाठी*

No comments:

Post a Comment