संजय गांधी कॉलेज के पीछे मिली लाश का हत्या करने वाला आरोपी पहुंचा सलाखों के पीछे। - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Friday, 4 October 2019

संजय गांधी कॉलेज के पीछे मिली लाश का हत्या करने वाला आरोपी पहुंचा सलाखों के पीछे।

04.10.2019
संजय गांधी कॉलेज के पीछे मिली लाश का हत्या करने वाला आरोपी पहुंचा सलाखों के पीछे।




*भारत न्यूज़ लाइव 24 हर खबर आप तक m.p.हेड क्राइम धीरेंद्र पाडेय बड़खरा  740  रीवा मो.9893669428/8839535520*

सीधी।
संजय गांधी कॉलेज के पीछे मिली लाश का हत्या करने वाला आरोपी पहुंचा सलाखों के पीछे। हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि हत्यारा उसका प्रेमी ख़ुद निकला। हत्या करने का कारण आपस में विवाद होना बताया गया।

सीधी जिले के जमोड़ी थाना अंतर्गत संजय गांधी कॉलेज के पास नवरात्रि के पहले दिन 'पूजा सिंह गौड़' महिला का शव मिला था। जिस पहेली को सुलझाना इतना आसान नहीं था।  यूं तो कहा जाए कि जमोड़ी पुलिस ने कई अनसुलझी वारदातों का पर्दाफ़ाश किया। लेकिन यह कहानी एक अनसुलझी कहानी से कम नहीं लग रही थी।

                लेकिन पुलिस अधीक्षक आर.एस. बेलवंशी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक 'अंजू लता पटले', एस.डी.ओ.पी. सीधी के मार्गदर्शन में हत्या करने वाले आरोपी की पड़ताल शुरू की गई; जिसमें जमोड़ी पुलिस की टीम ने पूरी गुत्थी को सुलझाने में कोई कसर नहीं छोंड़ी। 

             मिली जानकारी के मुताबिक मृतिका के परिजनों ने पहले तो महिला के पति पर हत्या का आरोप लगाया था लेकिन जब जमोड़ी पुलिस छानबीन करने लगी तो मृतिका का प्रेमी "विजय सिंह पिता गैंदलाल सिंह गौड़ निवासी पोखराझोली टोला उम्र 26 वर्ष" के साथ महिला रहती थी जब मृतिका के प्रेमी से पूछताछ की गई तो विजय सिंह ने अपना ज़ुर्म कबूल करते हुए कहा कि हमारा और पूजा का विवाद हुआ; जिसके चलते हमने उसकी हत्या कर दी और शव को संजय गांधी कॉलेज के पीछे लाश को फेंक दिया। जिसे जमोड़ी पुलिस आईपीसी की धारा 302 के तहत गिरफ़्तार किया गया।

          उक्त कार्यवाही में जमोड़ी थाना प्रभारी एस.एम. पटेल, पी.एस.आई. आकांक्षा पाण्डेय, ए.एस.आई. चंद्रमणि पाण्डेय, प्रधान आरक्षक राजकुमार मिश्रा, आरक्षक रामचरित पाण्डेय, अभिषेक सिंह, दिनकर दुबे, सुनील बागरी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है आरोपी को घटनास्थल पर ले जाकर बाहर फेंके गए सामानों की सुपुर्दगी की गई। 
                 इस खुलासे में मुख्य रूप से आरक्षण अभिषेक सिंह, रामचरित पाण्डेय, दिनकर दुबे एवं सुनील बागरी का योगदान रहा है।

No comments:

Post a Comment