परसेल कला में हर 15 दिन में हो रहा विस्फोटक बरूदी बत्ती पूरे गांव दहसत में - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Friday, 11 October 2019

परसेल कला में हर 15 दिन में हो रहा विस्फोटक बरूदी बत्ती पूरे गांव दहसत में

*परसेल कला में  हर 15 दिन में  हो रहा विस्फोटक बरूदी बत्ती पूरे गांव दहसत में*
राजेन्द्रग्राम - जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ के ग्राम पंचायत परसेल कला में लगी सरस्वती एंड माइनिंग क्रेशर की दबंगई  से हो रहा बिस्फोटक जिसमें 45 फिट गहिरे खदान से दलकती पत्थर पूरे परसेल कला को हिलाकर एक झटका में हिला कर रख देता है जिससे गांव के लोगों पर खतरे की अशंका बनी हुई है। ग्रामीणों द्गारा इस संबंध में कई बार
शासन, प्रशासन को शिकायत दिया गया लेकिन आश्वासन देकर इन मैहरवान कर आशीर्वाद देते हैं और कमाओं और आगे बढ़ो कहकर इन्हें खुलेछूठ दे रखे हैं।
 *सरस्वती एंड माइनिंग क्रेशर मालिक के पुष्पराजगढ़ में तीन क्रेशर संचालि हो रहे है अब चौथे क्रेशर लगाने की तैयारी में*
यह महाजन पेंण्ड्रा से आकर गरीब आदिवासियों की फसल उपजाऊ जमीनों को चंद रुपयों की लालिच देकर बंजर कर अरबो रुपये जेब भर रहे है जिसकी कोई सीमा नहीं है ग्रामीणों द्वारा मीली जानकारी के अनुसार बताया गया की इस मालिक सैकडों हाईवे चल रहे हैं। जो इस समय पुष्पराजगढ़ के अंतिम छोर तक प्रधानमंत्री ग्राम सड़क को धरासाही कर धज्जियां उडा रहे हैं। इनकी क्रेशर परसेल कला, हर्राटोला, बीजापुरी नः 2, बड़ी तुम्मी, जैसे जगहों में लगाएं हुए हैं। जो पुष्पराजगढ़ मुख्यालय के अंतिम छोर मना जाता है । इतना ही नहीं बल्की पांचवें क्रेशर लगानें की तैयारियां जोरो पर है। 
 प्रधानमंत्री सड़क पर क्षमता से अधिक वजन बड़ी-बड़ी हाईवे पर भारी मात्रा में वजन ले जाया जाता है जिसकी क्षमता 30 टन से 40 टन तक की होती है ।जबकि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना अंतर्गत बनाई गई सड़क में साइन बोर्ड पर स्पष्ट शब्दों में लिखा गया है, साइन की 7 टन से भारी वाहन गुजारने पर कार्यवाही की जाएगी लेकिन पुष्पराजगढ़ के जितने सड़क है उनपर केवल क्रेशरों के आलावा हाईवा किसी की नहीं चलती यहां पर दौड़ रहे है, बडी तुम्मी से लेकर लांघा टोला तक, जिसकी हालत देखी जाए तो छोटी वाहनों की चेतावनी, बोनट, फसकर अटक जाती हैं। इस सडक पर हाईवे ड्राईवर शराब के नशे में मग्न मश्त होकर आंख मूंदकर बैधडक बेखौफ चलाते है। एक वर्ष पूर्व इसी सडक पर एक अज्ञात हाईवा रौंदते हुए गुजर गया था जिसकी मौके पर मौत हो गई थी। जिसकी जिम्मेदार कौन होगी। जबकि 
आला अधिकारियों को मालूम होते हुए भी इन पर अंकुश लगाने पर रोंगटे खड़े होती है, की क्षमता 30 टन से 40 टन तक की बड़ी आसानी से 7 टन की सड़क पर बेखौफ दौड़ाई जा रही है । इनकी दमंगई इतनी जोरदार है कि कहीं पर कोई कार्यवाही  नहीं होती हैं।  इनकी पहुंच सीधा आलाकमान तक है कोई कुछ कहते हैं तो उन्हें खुले शब्दों में मेरे से ज्यादा मतलब नहीं मैं हाईवा चढ़ावा दूंगा कहकर  खुली धमकी दे रहा है । ग्रामीणों दी गई जानकारी के अनुसार ग्राम परसेल कला में स्टोन क्रेशर सरस्वती एंड माइनिंग क्रेशर के नाम से संचालित हो रही है । जहां  हर 15 दिनों में ब्लास्टिंग बरूदी का विस्फोटक की जाती है जिस पर शासन प्रशासन को अवगत भी कराई गई लेकिन आज दिनांक तक इस क्रेशर के ऊपर कोई किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं की गई ना ही अंकुश लगाई गई।
 *ग्रामीणों की जान खतरे में कभी भी हो सकता है बडी हादसा*
जब पुष्पराजगढ़ के प्रेस टीम के द्वारा मुयाना किया गया तब मालूम पड़ा कि पूरी परसेल कला की टोला,मोहल्ला,गांव की जहां देखो वहां अवैध उत्खनन की खदानें पडी़ हुई हैं। यह गांव में सैकड़ों खदानें खोदकर छोड दी गई है जो इन दिनों में बंजर से भी बत्तर दिख रही हैं।जहां पर मवेशियों को देर रात अंधेरे में आना ,जाना बना हुआ है जिस खदानें आज दिनों में मवेशीयों की जान के पीछे पडा हुआ है। आए दिन यहां पर मवेशी फिसल कर गिर जाते हैं, जिनकी मौत के आलावा कुछ नहीं मिलती हैं ।क्रेशर मालिक जयप्रकाश शिवदसानी की मनमानी से ऐसी ही घटनाओं को अंजाम सालों में कितनों जानवरों की जान चली जाती हैं। यहां पर छोटे बच्चे, एवं बुजुर्ग लोगों का रोजाना रास्ता बनी हुई है जिसकी बगल से ही आवैध उत्खनन सचांलित हो रही है। जहां पर विस्फोटक बरूदी लगाया जाता है।उस समय मालिक के कर्मचारियों द्गारा सूचना करना आवश्यक होती हैं लेकिन आनन, फानन में बत्ती बिष्फोट कर दी जाती हैं। जहां लोगों के घर आंगन में, 
 पत्थर की चुटकुले टुकडे़ गिर जाते है।  एसी ही एक बच्चे की मौत हो गई थी ।जिसकी आज दिनांक तक कोई किसी प्रकार की  कार्यवाही नहीं किया गया । 
और बल्की क्रेशर मालिक की होंसला बुलंद होती जा रही है ग्रामीणों द्वारा प्रेस के माध्यम से मांग किए हैं कि जितनी आवैध खदाने संचालित हो रही है। उसे बंद कराई जाए और सडकों पर 7 टन की क्षमता से अधिक भार लोंडिंग वाले हाईवों पर अंकुश लगाया जाए और उचित कार्यवाही करनें की मांग किये हैं।

No comments:

Post a Comment