सड़क दुर्घटना से बचने के लिए गाय को मिलेंगे सींग में चमकने वाले रेडियम। - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Saturday, 7 September 2019

सड़क दुर्घटना से बचने के लिए गाय को मिलेंगे सींग में चमकने वाले रेडियम।

सड़क दुर्घटना से बचने के लिए गाय को मिलेंगे सींग में चमकने वाले रेडियम।





(उत्तर प्रदेश)

हाईवे और शहर की सड़कों पर आवारा विचरण करने वाले मवेशियों के कारण आएं दिन सड़क हादशे हो रहे है। जिनके कारण कभी मवेशियों की बेमौत होती है, तो कभी वाहन चालक गंभीर रुप से घायल होने के साथ असमय काल के गाल में समा जाते है। इन घूम रहे आवार मवेशियों पर यातायात पन्ना के द्वारा मवेशियों को पकड़ कर सीगों पर रेडियम लगाने का कार्य किया जा रहा है।

यातायात पुलिस ने आवारा मवेशियों के सींग पर लगाए रेडियम

उत्तर प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पन्ना यातायात पुलिस के द्वारा, आवारा मवेशियों की धर पकड़ कर सीगों पर रेडियन लगाने का कार्य किया जा रहा है। रेडियम लगाने के तरीके से होने वाले सड़क हादशों में पशुओं को बचाया जा सकता है।इसके साथ सड़क पर बैठे आवारा मवेशियों से छोटे वाहनों जिनमें दो पहिया व चार पहिया वाहन चालकों के लिए गंभीर खतरा बना रहता है। सड़क व सड़क के किनारे बैठे इन आवारा पशुओं के एकाएक भागने से कई बार वाहन चालक भी लपेटे में आ जाते है। जिसके कारण गंभीर हादशा हो जाता है।
रेडियम स्ट्रिप से दुर्घटनाओं पर लगेगा अंकुश
घूम रहे आवारा मवेशियों रेडियम स्ट्रिप लगाने के बाद कुछ हद तक सड़क हादशों में अंकुस लगाया जा सकता है। रेडियम स्ट्रिप लगाने से सड़क पर निकलने वाले वाहन चालकों को दूर से मवेशी दिख जाएगे। जिससे स्पीड कंट्रोल कर आसानी के साथ वाहन क्रास कर सकेगे। साथ ही बेमौत होने वाले गौंवश को बचाया जा सकता है।

जंगली सीमा से निकल कर आते है सड़क पर जिनमें जंगली व देशी गाय, बैल, भैस, गंधे व अन्य जानवर। बारिश से बचने व जंगली जानवरों से रात्री में अपने जान की सुरक्षा के लिए मवेशी सड़क के किनारे आ जाते है। जिसके कारण सड़क पर गुजरने वाले तेज रफ्तार के वाहनों के शिकार हो भी जाते है।

रेडियम भी बेअसर
आवारा घूमने वाले पशुओं के सींग पर लगाए जाने वाले रेडियम की क्वालटी कमजोर होने के कारण ज्यादा दिनोंं तक नहीं चलता है।
ग्रामीण इलाकों में बने आफत 
शहर के साथ-साथ इन आवारा मवेशियों से किसान भी परेशान है। भूख प्यास से व्याकुल इन पशुओं के द्वारा किसानों के खेत में जाकर फसल चौपट करते है। वहीं आवारा मवेशियों के रख रखावा के लिए प्रशासन व जिले में बने गौ-सदनों के द्वारा गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।


No comments:

Post a Comment