शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल भरतपुर में जात पात एवं महिलाओं का अपमान का सहारा लेकर प्रिंसिपल खारे द्वारा अतिथि शिक्षक मेरिट लिस्ट के अनुसार पदस्थ पूजा नापित को विद्यालय से हटाया गया - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Monday, 26 August 2019

शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल भरतपुर में जात पात एवं महिलाओं का अपमान का सहारा लेकर प्रिंसिपल खारे द्वारा अतिथि शिक्षक मेरिट लिस्ट के अनुसार पदस्थ पूजा नापित को विद्यालय से हटाया गया

शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल भरतपुर में जात पात एवं महिलाओं का अपमान का सहारा लेकर प्रिंसिपल खारे द्वारा अतिथि शिक्षक मेरिट लिस्ट के अनुसार पदस्थ पूजा नापित को विद्यालय से हटाया गया


*भारत न्यूज़ लाइव 24 हर खबर आप तक m.p.हेड क्राइम धीरेंद्र पाडेय बड़खरा 740 रीवा मो.9893669428/8839535520*
...............
. मध्य प्रदेश में सीधी जिला के अंतर्गत विधानसभा क्षेत्र चुरहट में स्थित विद्यालय भरतपुर शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल का मामला सामने आया है जिसमें पूजा नापित अतिथि शिक्षक वर्ग 1 द्वारा यह कहा गया मेरी भरतपुर स्कूल में मेरिट लिस्ट के अनुसार नियुक्ति हुई थी अतिथि शिक्षक मे 10 जुलाई सन् 2019 को मैं लगातार विद्यालय जाती रही एवं विद्यार्थियों को पढ़ाती रही नियमित रूप से लेकिन विद्यालय प्रमुख खरे साहब मुझे 5 अगस्त 2019 को निकाल कर किसी अन्य व्यक्ति को रख लिया गया है जो सरासर गलत है मैं एक गरीब घर की हूं मेरे आगे पीछे मेरे बूढ़े माता-पिता का हाथ है उनके अतिरिक्त कोई नहीं है मैं पढ़ाई किसी तरह पूरी करके बड़ी मेहनत के बाद विद्यालय में पदस्थ थी मेरे जीवन यापन का एकमात्र यही सहारा था इसके पहले मैं 2009 से 2018 तक देवदहा शासकीय हाई सेकेंडरी स्कूल में एवं 2018 से 2019 तक मर्जातपुर शासकीय हाई स्कूल मैं पढ़ाई हूं अतिथि शिक्षक के रूप में मेरी डिग्री और जिन व्यक्तियों को रखा गया है उनकी डिग्री भी देखी जाए और मेरा इसपीरियंस देखा जाए तो कम पड़ेगा मैं लगातार नौ 10 साल से बच्चों को पढ़ा रही हूं और मेरा जीवन यापन का एकमात्र यही सहारा था मेरे गरीबी और गरीब समाज एवं महिला होने का फायदा उठाते हुए यह किया गया है जिसकी मैं शिकायत कलेक्टर महोदय एवं सीधी जिला शिक्षा अधिकारी को लिखित रूप एवं श्रीमान संयुक्त शिक्षा निदेशक  जिला रीवा प्रदेश को लिखित रूप आवेदन पत्र प्रस्तुत की हूं मैं सीधी जिला शिक्षा अधिकारी को फोन लगाती हूं मेरा फोन नहीं उठाया गया जबकि यह कहा गया था जांच चल रही है उचित कार्यवाही होगी ऐसे में यह सवाल उठता है एक तरफ सरकार महिलाओं का सम्मान एवं महिलाओं का उत्साहित करके उच्च शिक्षा सुधारने का प्रयास कर रही है दूसरी तरफ शासकीय अधिकारियों द्वारा महिलाओं को अपमानित इस मुद्दे में कड़ी से कड़ी जांच होना चाहिए जिससे गरीब महिला असहाय को न्याय मिल सके

No comments:

Post a Comment