डॉ0 जगन्नाथ मिश्रा की अंत्येष्टि में फेल हुई बिहार पुलिस की 22 बंदूकें, नहीं चली एक भी गोली - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Thursday, 22 August 2019

डॉ0 जगन्नाथ मिश्रा की अंत्येष्टि में फेल हुई बिहार पुलिस की 22 बंदूकें, नहीं चली एक भी गोली

डॉ0 जगन्नाथ मिश्रा की अंत्येष्टि में फेल हुई बिहार पुलिस की 22 बंदूकें, नहीं चली एक भी गोली 
                                   अजय कुमार पांडे                   
बिहार के पूर्व तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके डॉo जगन्नाथ मिश्रा के अंतिम संस्कार के दौरान एक अजीब ही नजारा देखने को मिल गया ! बिहार पुलिस के तरफ से जब उन्हें गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया जा रहा था तो एक भी बन्दुक से गोली नहीं चली ! सबसे बड़ी बात है कि ये सब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने ही हुआ !  पूर्व सी0एम0 डॉ0 मिश्रा को सलामी देने के दौरान 22 में से एक भी बन्दुक से गोली नहीं चल सकी ! इस दौरान बिहार के सी0एम0 नीतीश कुमार के अलावे कई मंत्री भी मौजूद थे !बताते चलें कि बुधवार को पूर्व सी0एम0 डॉ  मिश्रा की अंत्येष्टि उनके पैतृक गांव बलुआ में की गई ! इस दौरान बिहार पुलिस के जवानों ने उन्हें गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया ! लेकिन उनकी बंदूकों से एक भी गोली नहीं चली !  ये पूरा वाकया  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने हुआ ! इसको लेकर राजद नेता ने निशाना साधा है ! राजद विधायक यदुवंश यादव ने कहा कि पूर्व सी0एम0 स्वर्गीय डॉ0 मिश्रा के सम्मान के साथ खिलवाड़ किया गया है ! 

आपको बता दें कि बिहार के पूर्व सीएम डॉ. जगन्नाथ मिश्र का अंतिम संस्कार आज बिहार के सुपौल जिले में उनके पैतृक गांव बलुआ में किया गया. उन्हें सुपौल के  पंचमुखी हनुमान मंदिर परिसर से उन्हें अंतिम विदाई दी गई. जहां पैतृक गांव बलुआ में उनके बड़े बेटे संजीव ने मुखाग्नि दिया. इस दौरान बिहार के सीएम नीतीश कुमार के अलावा बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय और बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी भी सुपौल पहुंचे. सीएम नीतीश समेत तमाम नेता पूर्व सीएम डॉ जगन्नाथ मिश्रा के घर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि दी.

गौरतलब है कि सोमवार की सुबह को बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का निधन दिल्ली के द्वारिका में उनके आवास पर हो गया था. 82 वर्षीय जगन्नाथ मिश्रा काफी लम्बे समय से बीमार चल रहे थे. सोमवार को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया. उनके निधन पर बिहार में तीन दिनों का राजकीय शोक रखा गया है.

No comments:

Post a Comment