खैरा थाना प्रभारी को पद से हटाकर सर्किल इंस्पेक्टर को दिया गया चार्ज - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Friday, 17 May 2019

खैरा थाना प्रभारी को पद से हटाकर सर्किल इंस्पेक्टर को दिया गया चार्ज

खैरा थाना प्रभारी को पद से हटाकर  सर्किल इंस्पेक्टर को  दिया गया चार्ज    

                                                         अजय कुमार पांडे        औरंगाबाद: ( बिहार ) नवीनगर प्रखंड अंतर्गत बारुण - नबीनगर एन0टी0पी0सी0 मुख्य पथ पर भारतीय रेल बिजली कंपनी लिमिटेड के समीप बनाए गए थाना के थाना प्रभारी अमरेंदर कुमार को पद से हटाते हुए चुनाव कार्य से बाहर कर दिया गया है ! मामला है कि अंतिम अप्रैल माह के समय में खैरा थाना क्षेत्र के अंदर दो शराब तस्करों में शामिल महुआव ( पंचायत ) गांव निवासी मंगल सिंह एवं माधे गांव निवासी मंटू सिंह को खैरा थाना प्रभारी द्वारा  हाजत में बंद किए जाने के बावजूद भी बंद आरोपी को  भगाकर  मंटू सिंह के चालक को थाने में बंद किया गया था ! इसके बाद औरंगाबाद के पुलिस कप्तान दीपक वर्णवाल ने जानकारी मिलने के बाद  तुरंत  मामले को गंभीरता से लेते हुए  जांच के लिए  अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी  अनूप कुमार को जिम्मा सौंप दिया था ! इसके बाद  अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी ने जांच के क्रम में मामला को सत्य पाते हुए थाने के मुंशी रजनीश कुमार रंजन को गिरफ्तार जेल भेज दिया था ! दोनों शराब तस्कर के मामले में आग की तरह ऑडियो तुरंत वायरल हो गई थी ! उस वायरल ऑडियो के माध्यम से पांच लाख रुपए रिश्वत लेन -  देन सेटिंग की बात दोनो शराब तस्कर एवं थाने की मुंशी के बीच होने की बात सामने आई थी !  खैरा थाना प्रभारी से भी जब संवाददाता की बैठ कर वार्ता हुई थी तो पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए कहा था कि बात सत्य हैं कि दोनों शराब तस्कर को मैंने ही हाजत में बंद किया था ! इसके बाद मैं मुंशी को जिमा देकर  अपने रुम में चला गया था ! लेकिन कुछ देर के बाद थाने के एक स्टाफ ने कहा की दोनों शराब तस्कर में से कोई भी हाजत में नहीं है ! तब मैंने कहा कि मैं खुद बंद किया हु ! नहीं कैसे रहेगा ?  इसके बाद भी कहने लगा की नहीं है !  तब मैं कहा कि चलो दिखाते हैं ! इसके बाद जब मैं हाजत पहुंचकर हाल देखा तो मैं वास्तव में चकित रह गया ! इसके बाद मैं मुंशी पर गर्म हो गया कि तुमको अवश्य जेल भेजेंगे !

 रेल बिजली कंपनी लिमिटेड के समीप बनाए गए थाना के थाना प्रभारी अमरेंदर कुमार को चुनाव कार्य से बाहर कर दिया गया है ! मामला है कि अंतिम अप्रैल माह के समय में खैरा थाना क्षेत्र के अंदर दो शराब तस्करों में शामिल महुआव ( पंचायत ) गांव निवासी मंगल सिंह एवं माधे गांव निवासी मंटू सिंह को खेड़ा थाना प्रभारी द्वारा  हाजत में बंद किए जाने के बावजूद भी बंद आरोपी को  भगाकर  मंटू सिंह के चालक को थाने में बंद किया गया था ! इसके बाद औरंगाबाद के पुलिस कप्तान दीपक वर्णवाल ने जानकारी मिलने के बाद  तुरंत  मामले को गंभीरता से लेते हुए  जांच के लिए  अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी  अनूप कुमार को जिम्मा सौंप दिया था ! इसके बाद  अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी ने जांच के क्रम में मामला को सत्य पाते हुए थाने के मुंशी रजनीश कुमार रंजन को गिरफ्तार जेल भेज दिया था ! दोनों शराब तस्कर के मामले में आग की तरह ऑडियो जो वायरल हुई थी ! उसमें पांच लाख रुपए रिश्वत लेन -  देन सेटिंग की बात दोनो शराब तस्कर एवं थाने की मुंशी की बात सामने ही आई थी!  खैरा थाना प्रभारी भी जब संवाददाता की बैठकर वार्ता हुई तो पूछे गए सवालों का से जवाब देते हुए कहा कि बात सत्य हैं कि दोनों शराब तस्कर को मैंने ही हाजत में बंद किया था ! इसके बाद मैं मुंशी को जिमा देकर  अपने रुम में चला गया था ! लेकिन कुछ देर के बाद थाने के एक स्टाफ ने कहा की दोनों शराब तस्कर में से कोई भी हाजत में नहीं है ! तब मैंने कहा कि मैं खुद बंद किया हु ! नहीं कैसे रहेगा ?  

हालाकी इस केस में साजिश के तहत रचना रच कर बंद कराए गए फर्जी वाहन चालक को वरीय पदाधिकारी ने पूछताछ के बाद निर्दोष मानते हुए चालक को थाने से छोड़ दिया था ! इसके अलावा वरीय पदाधिकारी ने ड्यूटी से गायब रहने के जुर्म में ओ0एस0डी0 कन्हैया सिंह को भी निलंबित कर दिया था ! ज्ञात हो कि माधे गांव निवासी शराब तस्कर आरोपी के ऊपर पूर्व से भी किसानों से खरीदे गए धान  के मोटी रकम गबन मामले में पैक्स विभाग द्वारा भी प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी क्योंकि यह आरोपी महुआव पंचायत का पैक्स अध्यक्ष भी है ! इसके अलावे माधे निवासी आरोपी के ओ0पी0 बडेम थाना क्षेत्र अंतर्गत ओबीपुर अवैध बालू घाट मे भी खनन विभाग, प्रशासन की टीम ने अचानक छापा मारकर काफी संख्या में बड़ी वाहन को जप्त किया था ! अवैध शराब तस्करी का मामला दर्ज होने के बाद प्रशासन ने जब कुछ ही दिन पूर्व महुआव गांव निवासी के बहनोई के घर पर सूचना मिलने के बाद जब अंतर जिला पहुंचकर सोनहन थाना क्षेत्र में दोनों शराब आरोपी को पकड़ने के लिए गया था ! तब आरोपी के परिजनों ने प्रशासन पर जमकर हमला कर दिया था ! इस बात से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि दोनों शराब आरोपी का चरित्र कैसा है ? इतना ही नहीं  यदि  मामले को गंभीरता से लेते हुए  वरीय अधिकारियों द्वारा निष्पक्ष रुप से इस मामले की जांच की जाए तो एरिया के लोगों द्वारा भी पता चल जाएगा कि दोनों शराब तस्कर का चरित्र कैसा रहा है ? हालांकि इस मामले में राजद प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व मंत्री बिहार सरकार डॉक्टर सुरेश पासवान एवं लोजपा युवा जिलाध्यक्ष निखिल कुमार ने भी अपने अपने ढंग से बयान दिया था ! बाद में  वरीय अधिकारी ने खैरा थाना के सभी स्टाफ को थाने से हटा दिया था ! इसके बाद शुक्रवार यानी 17 मई को औरंगाबाद के पुलिस कप्तान ने खैरा थाना प्रभारी को भी पद से हटाते हुए वर्तमान चार्ज  नवीनगर सर्किल इंस्पेक्टर को दे दिया है ! जैसे ही चार्ज दिए जाने की सूचना  संवाददाता को प्राप्त हुई ! वैसे ही खैरा थाना प्रभारी को जब मोबाइल पर फोन कर पूछा तो कहा कि दोनों शराब माफियाओं को  पॉलीटिकल संरक्षण दिया जा रहा है ! जब मुझे इन दोनों शराब तस्करों के बारे में मालूम चला तो मैं नकेल कसना शुरू किया !  इसके बाद लोगों को नागवार गुजरने लगा ! एक बार की बात है कि इसी नकेल कसने की वजह से दोनों शराब तस्करों ने नक्सली को सूचना देकर मुझे बुलाना चाह रहे थे ! लेकिन मुझे जब भनक लगी तो मैं इन लोगों से सतर्क हो गया था ! बात सच है कि  वर्तमान  मुझे चुनाव कार्य से  पहर कर दिया गया है ! अंत में थाना प्रभारी ने संवाददाता से आग्रह करते हुए कहा कि आप लोग भी फील्ड के पदाधिकारी हैं ! लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के नाते पब्लिक, प्रशासन,  सरकार के बीच इमानदारी पूर्वक हकीकत बातों को लाए ताकि दूध का दूध, पानी का पानी साबित हो सके !

 गौरतलब हो कि शराब तस्कर के मामले में अल्टो, ब्रेजा वाहन का इस्तेमाल किया गया है !  अवैध शराब झारखंड से बिहार मे लाकर शराब तस्करों द्वारा विभिन्न स्थानों पर चुपके से बेचवाया जाता था जबकि बिहार में माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा पूर्ण शराबबंदी लागू कर दी गई है ! थाना प्रभारी ने जानकारी देते हुए बताया कि हम लोगों की टीम जब शराब तस्करों को गिरफ्तार करने के लिए अंतर जिला गई हुई थी ! दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद जो हम लोगों पर हमला हुआ था ! उसमें सात लोगों को नामजद एवं 65- 70 लोगों को अज्ञात आरोपी बनाया गया है ! यही वजह से शराब तस्कर एवं संरक्षण देने वालों के द्वारा मुझसे प्रतिशोध लिया जा रहा है ! गौरतलब हो कि शराब तस्कर केस के मामले में अभी तक शराब आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया जा चुका है ! थाना प्रभारी ने बताया कि माननीय न्यायालय में आरोपियों के खिलाफ वारंट के लिए प्रे किया गया है ! लेकिन अभी तक न्यायालय से वारंट प्राप्त नहीं हुआ है ! थाना प्रभारी ने कहा कि इन लोगों  द्वारा पॉलीटिकल पार्टी  नेता लव सिंह, संजीव सिंह के इशारे पर संरक्षण की आड़ में रैकेट चलाया जा रहा है ! इन लोगों द्वारा भी मुझे हिदायत दिया गया था! हालांकि समाचार प्रेषण पूर्व थाना प्रभारी द्वारा दोनों पॉलीटिकल पार्टी नेताओं के ऊपर लगाए गए आरोप के संबंध में पक्ष लेने की कोशिश की ! लेकिन समाचार प्रेषण तक दूरभाष पर संपर्क स्थापित नहीं हो सका !


Editor prajapati

No comments:

Post a Comment