पटना/नालंदा डॉ. कमल नयन दास उर्फ (डॉ. केशव कुमार) सीतामढ़ी - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Monday, 15 April 2019

पटना/नालंदा डॉ. कमल नयन दास उर्फ (डॉ. केशव कुमार) सीतामढ़ी

पटना/नालंदा

डॉ. कमल नयन दास 

उर्फ (डॉ. केशव कुमार)

 सीतामढ़ी

 सुशासन बाबू अपने घर के चौथे स्तंभ माने जाने वाले नालंदा हिंदुस्तान के ब्युरो चीफ भाई  आशुतोष कुमार आर्य के लड़के की हत्या की अभी तक नहीं कर पाए पर्दाफास और चुनाव को ले खुले मंच से नेता अपने सुशासन की प्रचार कर रहे हैं जिसके वजह से भारत के सभी पत्रकार दुखित हैं हृदय विदारक घटना को लेकर देश के सभी पत्रकार जगह जगह पर चर्चा फैला रखे हैं क्यों हम पत्रकारों के ऊपर इस तरह की आपत्ति आती है जो समाज के देश के सारे अपत्ति को निपटारा करने की व्यवस्था करते हैं और उनके ऊपर इस तरह की ह्रदय विदारक घटना क्यों होती है | इस पर देश के सभी पत्रकार भाइयों से डॉक्टर कमल नयन दास पत्रकार होने के नाते अनुरोध करते हैं कि इस घटना से ऐसी सीख लेनी चाहिए और सरकार को ऐसी सबक सिखाने चाहिए कि किसी भी तरह की आपत्ती पत्रकार के ऊपर ना आए हमारे एबीपी एस एस के साथी सरकार से इस घटना को लेकर दोषी को कड़ी से कड़ी सजा मिले इस की मांग करते हुए पत्रकार के परिवार की पूर्न सुरक्षा की व्यवस्था करें जो सरकार की पूर्ण दायित्व होनी चाहिए |



सामान्यतः कोयल की तरह सुरीली निकलती है खुले मंच से सुशासन के दावे किए जाते हैं अपराधियों को दूर-दूर तक खदेड़ने की बात की जाती है. मगर इन अपराधियों को भय कहां? बिहार में पत्रकारों और उनके परिजनों के खिलाफ अपराधिक घटनाओं को देखते हुए मन खिन्न हो चला है. एक तरफ बिहार के डीजीपी पत्रकारों को और उनके परिजनों को सुरक्षा देने की बात करते हैं वहीं दूसरी तरफ आज एक बहुत हृदय विदारक घटना बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के गृह प्रखंड हरनौत का है. जहां दैनिक हिंदुस्तान के नालंदा ब्यूरो चीफ आशुतोष कुमार आर्या के एकलौते पुत्र की दोनो आँखे फोड़कर निर्मम हत्या कर दी गयी है. हरनौत थाना क्षेत्र के हसनपुरा गांव निवासी बिहारशरीफ दैनिक हिंदुस्तान अखबार के जिला ब्यूरो आशुतोष कुमार आर्य के इकलौते 20 वर्षीय पुत्र चुन्नू कुमार की दोनों आंख फोड़ कर अज्ञात अपराधकर्मियों के द्वारा निर्मम हत्या कर दी गई.

बताया जाता है की पत्रकार पुत्र रविवार की शाम घर से खेलने निकला था. लेकिन देर शाम तक घर वापस नहीं लौटा तो परिजन उसकी खोज करने लगे.जिसके बाद घर से कुछ दुरी पर पास के पइन में उसका शव पड़ा मिला. प्रथम दृष्टया उसकी हत्या किसी नुकीली चीज से आँख फोड़कर की गई है.घटना के बाद आशुतोष कुमार के परिजनों समेत पुरे गाँव में हड़कंप मच गया.

हत्या के कारणों का सुराग नहीं मिल पा रहा है ग्रामीण बताते हैं कि तीन बहनों की आंखों का तारा इकलौता भाई चुन्नू बहुत ही सीधा साधा और शालीन विचारधारा का लड़का था इसे मोबाइल और साइकिल बहुत प्यारी लगती थी मगर ना जाने किसकी नजर इस पर लग गई और रविवार को अपराधियों ने दोनों आंख फोड़ कर इसकी निर्मम हत्या कर दी. जैसे ही घटना की जानकारी हिंदुस्तान ब्यूरो आशुतोष कुमार को लगी कि उनके पुत्र के साथ ऐसा घटना हुआ है आनन-फानन में उन्होंने बिहार शरीफ हिंदुस्तान कार्यालय से घर हसनगंज पहुंचे. वहीं घटना की सूचना पाकर हरनौत थाना,कल्याण विभाग थाना, थाना तेलमर थाना की पुलिस घटनास्थल पर पहुंच गई. इसके बाद बिहार शरीफ सदर के डीएसपी इमरान परवेज ने घटनास्थल पर पहुंचकर घटना के संबंध में विस्तृत जानकारी ली।

वहीं घटना की सूचना पाकर नालंदा एसपी निलेश कुमार भी घटनास्थल पर पहुंच गए और इस घटना की तहकीकात में जुट गए नालंदा पुलिस अधीक्षक ने बताया कि प्रथम दृष्टया हत्या प्रतीत होती है एफएसएल की टीम तथा अन्य तकनीकी अनुसंधान के जरिए पुलिस हर बिंदु पर जांच करते हुए कार्रवाई करेगी. पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर अंत्य परीक्षण के लिए बिहार शरीफ सदर अस्पताल भेज दिया. वहीं घटना के बाद परिवार वालों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है. इधर पत्रकार आशुतोष कुमार के इकलौते पुत्र की हत्या के बाद नालंदा जिले के सभी पत्रकारों में शोक की लहर है वहीं दूसरी ओर भारत के सभी पत्रकार मित्र भी इस घटना से स्तब्ध हैं और शोकाकुल हैं।

No comments:

Post a Comment