सादुल्ला नगर / बलरामपुर विश्व रत्न बौद्धिसत्व बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर जी का परिनिर्वाण दिवस मनाया गया  घासी पोखरा स्थित बुद्ध बिहार में परिनिर्वाण दिवस पर सियाराम सरोज,राजेश भारती, तहारत रजा शाह,नसीम रायनी ने बाबा साहब की प्रतिमा पर मालयार्पण किया और उनके जीवन पर प्रकाश डाला राजेश कुमार भारती ने कहा कि दलितो व शोषित के सच्ची हितैषी वा - BHARAT NEWS LIVE 24

WEB TV

https://www.youtube.com/channel/UCMC0tYOO3NuROBFSlfFklXg

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, 6 December 2018

सादुल्ला नगर / बलरामपुर विश्व रत्न बौद्धिसत्व बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर जी का परिनिर्वाण दिवस मनाया गया  घासी पोखरा स्थित बुद्ध बिहार में परिनिर्वाण दिवस पर सियाराम सरोज,राजेश भारती, तहारत रजा शाह,नसीम रायनी ने बाबा साहब की प्रतिमा पर मालयार्पण किया और उनके जीवन पर प्रकाश डाला राजेश कुमार भारती ने कहा कि दलितो व शोषित के सच्ची हितैषी वा

सादुल्ला नगर / बलरामपुर
विश्व रत्न बौद्धिसत्व बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर जी का परिनिर्वाण दिवस मनाया गया  घासी पोखरा स्थित बुद्ध बिहार में परिनिर्वाण दिवस पर सियाराम सरोज,राजेश भारती, तहारत रजा शाह,नसीम रायनी ने बाबा साहब की प्रतिमा पर मालयार्पण किया और उनके जीवन पर प्रकाश डाला राजेश कुमार भारती ने कहा कि दलितो व शोषित के सच्ची हितैषी वावा साहब ही थे  आज मनुवादी पार्टियां भी वावा साहब को अपनाने मे लगी है लेकिन उनके बहकावे मे न आवे आने वाले चुनाव मे केवल लाभ के लिए अन्य दल मात्र छलावा के लिए वावा साहब से प्रेम जता रहे है ।संविधान निर्माता बाबा साहब के बनाए कानून से छेड़छाड़किया जा रहा है दलितों के आरक्षण मे फेरबदल किया जा रहा । उसके बाद दलित प्रेम दिखाया जाता है इसी क्रम में
सियाराम सरोज ने कहा कि आज की राजनीति में भीमराव अंबेडकर ही एक मात्र ऐसे नायक हैं, जिन्हें सभी राजनीतिक दलों में उन्हें ‘अपना’ बनाने की होड़ लगी है. यह बात सही है कि अंबेडकर को दलितों का मसीहा माना जाता है, मगर यह भी उतना ही सही है कि उन्होंने ताउम्र सिर्फ दलितों की ही नहीं, बल्कि समाज के सभी शोषित-वंचित वर्गों के अधिकारों की बात की. उनके विचार ऐसे रहे हैं जिसे न तो दलित राजनीति करने वाली पार्टियां खारिज कर पाई है और न ही सवर्णों की राजनीति करने वाली पार्टियां मुहम्मद रईस निजामी  ने कहा कि संविधान की नींव रखने वाले अंबेडकर आज की राजनीति के ऐसे स्तंभ हैं, जिन्हें कोई भी खारिज नहीं कर पाता है. यही वजह है कि आज अंबेडकर आज भी उतने ही प्रासंगिक नजर आते हैं.  अंबेडकर ने सामाजिक कुरीतियां और भेद-भाव को मिटाने के लिए काफी संघर्ष किया
इस अवसर पर ओम प्रकाश चौहान,रूप नारायण दिनकर, तहारत रजा शाह,अनवर मुहम्मद सईद रंगरेज,मुहम्मद रईस निजामी,अब्दुल खालिक सिददीकी,अ.वहीद,प्रदीप,हीरालाल वर्मा,कृष्ण कुमार ऊषा,राजू,श्याम नारायण,राम बरन,गंगाजली विद्यावती,मंजू,राशी,युवराज धर्मेश,डी.राज पंकज,मनोज,नंदनी,सोनम,विजय कुमार,प्रमोद,राकेश,मुकेश,पवन ,केसरी प्रसाद,योगेंद्र विजय कुमार,बेचन,रामगरीब,रामबहादुर    सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे
सादुल्लाह नगर /बलरामपुर
भारत न्यूज़ लाइव 24 हर खबर आप  तक
रिपोर्टर अशोक कुमार पाल
7860151190,7234811666

No comments:

Post a Comment