लखनऊ में इलाज के क्रम में हुई मौत मौत की सूचना मिलते ही गांव में पसरा सन्नाटा आक्रोशित परिजनों को समझाने में पुलिस को करना पड़ा काफी मस्कट संवाददाता माझा कुमार अखिल मांझा : - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Saturday, 8 December 2018

लखनऊ में इलाज के क्रम में हुई मौत मौत की सूचना मिलते ही गांव में पसरा सन्नाटा आक्रोशित परिजनों को समझाने में पुलिस को करना पड़ा काफी मस्कट संवाददाता माझा कुमार अखिल मांझा :

लखनऊ में इलाज के क्रम में हुई मौत

मौत की सूचना मिलते ही गांव में पसरा सन्नाटा

आक्रोशित परिजनों को समझाने में पुलिस को करना पड़ा काफी मस्कट

संवाददाता माझा कुमार अखिल

मांझा : स्थानीय थाना क्षेत्र भैसही कोरड गांव में पंचायती के दौरान हुई खूनी झडप इलाज के दौरान पारस सहनी की मौत हो गई मौत की सूचना मिलते ही गांव में मातम छा गया वहीं परिजनों में चित्कार मच गई बताते चलें कि पारस सहनी एवं लालबाबू चौधरी के बीच जमीनी विवाद चल रहा था जिसे पंचायती कर सुलझाने के उद्देश्य से 2 दिसंबर पंचायती रखी गई थी लेकिन पंचायती के दौरान ही दोनों पक्ष ने आरोप प्रत्यारोप लगाकर मारपीट शुरू कर दिए थे जिसमें एक पक्ष से पारस सहनी एवं राजेंद्र साहनी तथा दूसरे पक्ष से लालबाबू चौधरी और उनके पुत्र सत्येंद्र चौधरी घायल थे लेकिन पारस सहनी के सिर पर धराधर हथियार से हमला होने के बाद उनका स्थिति चिंताजनक देखते हुए गोपालगंज सदर अस्पताल का डॉक्टर ने गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया लेकिन स्थिति को चिंताजनक देखते हुए गोरखपुर से लखनऊ पीजी आई ट्रामा सेंटर में डॉक्टरों ने उन्हें रेफर कर दिया जहां 4 दिन से इलाज चल रहा था लेकिन शुक्रवार की रात्रि में उन्होंने अपना दम तोड़ दिया मौत के सूचना मिलते हैं गांव में मातम छा गया वहीं परिजनों पर कोहराम मच गया

पुलिस ने दोनों पक्ष से प्राथमिकी दर्ज की थी
पंचायती के दौरान हुई मारपीट को लेकर दोनों पक्ष से आवेदन मिलने पर थाना अध्यक्ष मनीष कुमार ने प्राथमिकी दर्ज की थी एक पक्ष से वशिष्ठ सहनी ने लाल बाबू यादव, वार्ड सदस्य सत्येंद्र कुमार, योगेंद्र यादव, उमेश यादव परशुराम यादव सहित सात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी वहीं दूसरे पक्ष लाल बाबू यादव ने मारपीट कर जख्मी करने के आरोप लगाकर पारस सहनी, सहित 9 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कराई थी

प्राथमिकी दर्ज करने के बाद पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए वार्ड सदस्य सत्येंद्र यादव, लाल बाबू यादव, परशुराम यादव को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया था लेकिन दोनों पक्ष में तनाव बराबर था स्थानीय चौकीदार वहां 4 दिन से तैनात हैं कि कोई अनहोनी ना हो जाए

मौत की सूचना मिलते ही परिजन का आक्रोशित हो उठे और खामियाजा प्रशासन को भी भुगतना पड़ा ग्रामीणों ने प्रशासन से भी धक्का- धक्की कर दी लेकिन थाना अध्यक्ष मनीष कुमार ने पहुंचकर आक्रोशित ग्रामीणों को समझा बुझाकर शांत कराया तथा प्रशासन का सहयोग करने की बात कह कर लोगों को शांत कराया लेकिन परिजनों का आरोप था कि वार्ड सदस्य सत्येंद्र यादव के एवं उनके परिजनों को फांसी की सजा होनी चाहिए थाना अध्यक्ष के आश्वासन के बाद ग्रामीण शांत हुए

मृतक पारस सहनी के पत्नी आनंदी देवी का कहना है कि वार्ड सदस्य सत्येंद्र यादव पहले से ही कहता था कि इस जमीन पर अगर 10 लाश  गिरानी पड़ी तो गिरा देंगे लेकिन रास्ता नहीं देंगे आखिर करवा मेरे पति को खा ही गया यह कह कर उनकी आंखें आंसू से भर गई और फफक कर रोने लगी

मृतक के 3 पुत्र और तीन पुत्री है जिसमें दो पुत्री की शादी पहले कर चुके हैं वहीं बड़ा पुत्र रविंदर कुमार 20 वर्ष दूसरा पुत्र नरेश कुमार 15 वर्ष तीसरा पुत्र सुदेश कुमार 10 वर्ष वही पुत्री सुरभि कुमारी 14 वर्ष की है आनंदी देवी का कहना है कि अब इन लोगों का लालन पालन कैसे होगा एक घर में वही कमाने वाले थे जो खेती बारी करके अपने परिवार की पालन पोषण करते थे इनका छोटा भाई सुरेंद्र सहनी जो गोपालगंज मकान बनाकर अपने परिवार के साथ रहता है परिवार को देखने सुनने वाला भी दूसरा कोई नहीं है इस बात को सोच सोच कर आनंदी देवी को बार-बार दांत लग जाता था वहीं बची बेटी की शादी के लिए चिल्ला चिल्ला कर रो रही थी

हत्या की सूचना गांव में मिलते हैं वार्ड सदस्य के घर सभी महिला पुरुष घर छोड़ कर फरार हो गए हैं वहीं पुलिस आरोपी को पकड़ने के लिए छापामारी कर रही है

No comments:

Post a Comment