कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री वीरेन्द्र सिंह रावत ने मतगणना के लिए तैनात सभी प्रकार के कर्मचारियों, अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव की सफलता त्रुटि रहित मतगणना पर निर्भर है - BHARAT NEWS LIVE 24

WEB TV

https://www.youtube.com/channel/UCMC0tYOO3NuROBFSlfFklXg

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Tuesday, 4 December 2018

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री वीरेन्द्र सिंह रावत ने मतगणना के लिए तैनात सभी प्रकार के कर्मचारियों, अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव की सफलता त्रुटि रहित मतगणना पर निर्भर है

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री वीरेन्द्र सिंह रावत 

ने मतगणना के लिए तैनात सभी प्रकार के कर्मचारियों, अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि चुनाव की सफलता त्रुटि रहित मतगणना पर निर्भर है। जरा सी चूक परेशानी का सबब बनती है अतः सभी अधिकारी, कर्मचारी निष्पक्ष होकर गंभीरता पूर्वक मतगणना के कार्य को निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशानुसार अंजाम दें। प्रशिक्षण के दौरान अपर कलेक्टर श्री टीएन सिंह, आरओ दतिया श्री अतेन्द्र सिंह गुर्जर, सेवढ़ा श्री राकेश परमार, भाण्ड़ेर श्री आरएस वांकना, मतगणना प्रभारी एवं संयुक्त कलेक्टर श्री विवेक रघुवंशी, टेबुलेशन के प्रभारी श्री एसएस सिसौदिया, एआरओ तथा मतगणना से जुड़े अन्य अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे। 
   मुख्य प्रशिक्षक डॉ. रतन सूर्यवंशी एवं प्रोफेसर डॉ. आरपी नीखरा ने विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि तीन चरणों में मतगणना सम्पन्न होगी। प्रथम पोस्टल वैलिट यानी डाक मतपत्रों की गिनती की जायेगी। इसके बाद ईव्हीएम मशीन से गणना होगी आखिरी में व्हीव्हीपेट मशीन में कटी हुई पर्चियों की गणना होगी। व्हीव्हीपेट मशीन का चयन गणना एजेन्ट की उपस्थिति में पर्ची डालकर रेण्डमली किया जायेगा। एक विधानसभा से एक मशीन की पर्चिया गिनी जायेगी और उसका मिलान संबंधित पोलिंग स्टेशन की ईव्हीएम मशीन में निकले वोटो से किया जायेगा। 
   पोस्टल वैलिट की गिनती विशेष गंभीरता पूर्वक की जाये। इसमें तीन तरह के लिफाफे रहेगे जिसमें एक घोषणा पत्र रहेगा। घोषणा पत्र में राजपत्रित अधिकारी द्वारा संबंधित कर्मचारी का सत्यापन रहेगा। पोस्टल वैलिट आयोग द्वारा दिए लिफाफे में ही स्वीकार किया जायेगा। मतदाता पहचान उजागर करने वाले वोट निरस्त माने जायेगे। यदि एक से अधिक वार चिन्ह लगाया हुआ है तो वह डाक मतपत्र निरस्त नहीं माना जायेगा। डाक मतपत्र 25-25 के बंडल बनाकर गिने जायेंगे। निर्धारित तारीख के पहले प्राप्त डाक मतपत्रों को ही स्वीकार किया जायेगा। 
   द्धितीय चरण में ईव्हीएम मशीन के वोटो को गिना जायेगा। 14 टेबिलों पर गणना होगी जिस टेबल पर पूर्व निर्धारित क्रम के अनुसार मशीन आना है यदि कोई भिन्न मशीन आ जाती है तो उसे खोला नहीं जायेगा। गणना के पहले गंभीरता पूर्वक सभी सिले, पीठासीन का लेखा पत्र प्रत्याशी एवं एजेन्टो को दिखाया जायेगा तदुपरांत गणना शुरू की जायेगी। यदि प्रत्याशी के एजेन्ट प्रथमवार में गणना नहीं देख पाते है तो मशीन को रिस्टार्ट कर पुनः दिखाया जायेगा। बैठक के अंत में कलेक्टर द्वारा निर्देश दिए कि सभी गणना कर्मी अपनी-अपनी जिम्मेदारी वखूबी निभाते हुए निर्वाचन मतगणना सम्पन्न कराये। अंत में संयुक्त कलेक्टर श्री विवेक रघुवंशी ने बताया कि मतगणना में करीब 500 कर्मचारी तैनात रहेंगे। जिनमें गणना सुपरवाईजर, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी, पुलिस दस्ते आदि शामिल है।

No comments:

Post a Comment