योगी सरकार के इस फरमान ने शंकरगढ क्षेत्र के गरीबो का रोका , दो वक्त रोटी की भूख* प्रयागराज शंकरगढ ब्लाक के अंतर्गत प्रदेश की योगी सरकार ने खनन माफियाओं पर लगाम लगाने के लिए अवैध खनन पर रोक लगा दी है | बड़े पैमाने पर सम्बंधित विभाग द्वारा कार्यवाहियां की जा रही हैं | लेकिन सरकार की इस कार्यवाही का खनन माफियाओं पर असर पड़ा हो या न पड़ा हो,परंतु सरकार द्वारा अवैध खनन पर रोक लगाये जाने के बाद शंकरगढ क्षेत्र - BHARAT NEWS LIVE 24

Breaking

Monday, 3 December 2018

योगी सरकार के इस फरमान ने शंकरगढ क्षेत्र के गरीबो का रोका , दो वक्त रोटी की भूख* प्रयागराज शंकरगढ ब्लाक के अंतर्गत प्रदेश की योगी सरकार ने खनन माफियाओं पर लगाम लगाने के लिए अवैध खनन पर रोक लगा दी है | बड़े पैमाने पर सम्बंधित विभाग द्वारा कार्यवाहियां की जा रही हैं | लेकिन सरकार की इस कार्यवाही का खनन माफियाओं पर असर पड़ा हो या न पड़ा हो,परंतु सरकार द्वारा अवैध खनन पर रोक लगाये जाने के बाद शंकरगढ क्षेत्र

*योगी सरकार के इस फरमान ने शंकरगढ क्षेत्र के गरीबो का रोका , दो वक्त रोटी की भूख*
प्रयागराज शंकरगढ ब्लाक के अंतर्गत प्रदेश की योगी सरकार ने खनन माफियाओं पर लगाम लगाने के लिए अवैध खनन पर रोक लगा दी है | बड़े पैमाने पर सम्बंधित विभाग द्वारा कार्यवाहियां की जा रही हैं | लेकिन सरकार की इस कार्यवाही का खनन माफियाओं पर असर पड़ा हो या न पड़ा हो,परंतु सरकार द्वारा अवैध खनन पर रोक लगाये जाने के बाद शंकरगढ क्षेत्र की जीविका जरूर प्रभावित हो गयी है।खनन बंद होने के बाद से प्रभावित हुए गरीबो के परिवार जरूर भुखमरी के कगार पर आ गये है | वैसे तो भले ही अवैध खनन माफियाओं और अवैध रुप से कारोबार कर रहे लोगो के लिए बंद किया गया हो । परंतु इसका सीधा असर उन गरीब परिवारों के रोजगार पर पड़ा है। खनन न होने के कारण गरीबी से जूझ रहे गरीबो के दो जून की रोटी की रफ़्तार जरूरत से ज्यादा मंद पड़ गयी है | वहीं लाचार मजदूरों को कुछ इधर उधर से खनन कर मजदूरी करने को मिल भी जा रही थीं। लेकिन अब वो भी नहीं मिल रही है। जो मजदूरी कर अपने परिवार के सदस्यों के बीच बैठ कर दो वक्त की रोटी खा लेते थे और दो वक्त रोटी की व्यवस्था कर लेते थे। जो अब शंकरगढ क्षेत्र के गरीब परिवार के लिए मुश्किल सी हो गई है। आपको बता दें कि खनन माफियाओं पर प्रदेश सरकार की इस कार्यवाही का कितना असर पड़ रहा है ये कहना तो मुश्किल है लेकिन गरीब के पेट पर लात ज़रूर पड़ी हैं।  बेरोजगार होने के कारण बच्चों का पेट पालने के लिए अब इस समय शंकरगढ क्षेत्र में कुछ ऐसे कारनामें जरुर होने लगे हैं। जैसे चोरी, छिनैती, अवैध शराब का कारोबार ,  गलियों में कबाड़ बिनना, एवम् अवैधानिक कारोबार करना, कुछ इसी तरह के गलत काम करने में अमादा हो रहें हैं। मिली जानकारी के अनुसार खनन बंद होने के कारण कुछ तो इसी को मूल कार्य मानकर अपनी जीविका का रूप दे रहे हैं। जो गैर कानूनी है वहीं दूसरी ओर इस तरीके का काम करते हुए अगर पुलिस के गिरफ्त में आ गए तो जेल चले गए । फिर इधर परिवार की स्थिति पहले से भी और ज्यादा भुखमरी के कगार पर पहुंच जाता हैं। कहने की बात नहीं है जो इन दिनों शंकरगढ क्षेत्र में जरूरत से भी ज्यादा देखा जा रहा है।खनन बंद होने की वजह से क्षेत्र की जनता गरीब काफी परेशान सी हो गई हैं। खनन आसानी से न मिलने के कारण अब शंकरगढ़ की गरीब परिवारों के सामने जीविका का संकट पैदा होने लगा है | लेकिन फिलहाल किसान किसी तरह खेती कर अपने पुश्तैनी कारोबार को जिंदा किये हुए हैं |वहीं क्षेत्र का खनन प्रभावित होने से गरीब परिवार के लोग भूखे पेट सो रहे हैं और आधी रोटी को मोहताज से हो गए हैं। कुछ तो खनन का काम बंद होने के कारण क्षेत्र से पलायन भी करने लगे हैं ।

भारत न्यूज़ लाइव 24 हर खबर आप तक बने रहे प्रयागराज ब्यूरो दिनेश कुमार शुक्ला के साथ *7771020949*

No comments:

Post a Comment